धरती पर बरसेगा अमृत, खिलेगी चांदनी

  26 अक्टूबर को होगी अमृत वर्षा, मनेगी पूर्णिमा..
इस साल धरती पर शरद पूर्णिमा को बरसने वाला अमृत 26 अक्टूबर को बरसेगा। शरद पूर्णिमा को कोजागर व्रत और रास पूर्णिमा भी कहा जाता है। शरद पूर्णिमा के देवता श्री कृष्ण हैं। इस दिन भगवान रास रचाते हैं जबकि कोजागर के इंद्र और लक्ष्मी इसलिए श्री कृष्ण भक्ति और लक्ष्मी की प्राप्ति के लिए विशेष पर्व माना जाता है। 
>
ख़ास बात यह है कि इस वर्ष शरद पूर्णिमा 27 अक्टूबर को है लेकिन 26 अक्टूबर चौदस को यह पावन पर्व मनाया जाएगा।  >  
27 अक्टूबर को सूर्यास्त पूर्व साय: 5 बजकर 35 मिनट पर पूर्णिमा समाप्त होने से चन्द्र आधारित रात्रिकालीन मनाया जाने वाला यह अमृत पर्व 26 अक्टूबर को मनाया जाएगा। इस दिन पूर्णिमा रात्रि 9 बजकर 11 मिनट से प्रारम्भ होगी इसके बाद इस पर्व को मनाया जाएगा। 


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :