जानिए क्या है आपका लकी नंबर और कैसे हैं आप



की ज्योतिष में विशेष जगह है। इसके माध्यम से ना सिर्फ अपने स्वभाव की विशेषताओं को जान सकते हैं बल्कि भविष्य का भी अंदाजा लगा सकते हैं। आइए आपके से जानिए कैसे हैं आप-

जिस दिनांक को आप जन्मे हैं उस तारीख को सन सहित् आपस में जोड़ लीजिए। वही आपका शुभांक होगा। जैसे 12 नवंबर 1975 को आपस में जोड़ने पर यह परिणाम आएगा।

12-11-1975

1+2+1+1+1+9+7+5 = 27


2+7 = 9

अंक 1

अगर आपका शुभांक 1 है तो इस अंक के जातकों के कंधे चौड़े, सिर चौकोर व पंजे मजबूत होते हैं। इनका आकार चतुष्कोण होता है। इनमें स्फूर्ति व छल-बल होता है। इनकी नजर बहुत तेज होती है तथा आंखों ही आंखों में वे बहुत कुछ कह जाते हैं। वे आंखों के प्रभाव से अधिक काम लेते हैं। अग्नि तत्व का होने के कारण वे बेहद क्रोधी होते हैं और हर किसी पर रौब जमाना चाहते हैं। उत्तेजक स्वभाव व दबंग होने के कारण वे परिस्‍थिति को अपने अनुकूल बना लेते हैं। ये स्वभाव से भ्रमणशील होते हैं और घूमना-फिरना ज्यादा पसंद करते हैं। अंक 5 व 9 वालों से इनकी अधिक बनती है।

शुभ रंग- पीला, शुभ तिथि- 10 व 28।

अंक 2

इस सौम्य शुभ अंक के जातक दूसरों को अपनी ओर आसानी से आकर्षित करने की क्षमता रखते हैं। इनमें सेवा भाव अधिक होता है। इन्हें स्वादिष्ट भोजन पसंद होता है। वे अच्‍छा भोजन बनाते भी हैं। वे भावुक, चंचल व रसिक प्रवृत्ति के एवं गौर वर्ण होते हैं। चेहरा चंद्रमा के समान गोल व बदन सामान्य होता है। वे बनाव-सिंगार व सौंदर्य से लगाव रखते हैं। छोटी-स‍ी बात भी इन्हें चुभ जाती है और वे बुरा मान जाते हैं। वे अत्यधिक सहनशील होते हैं। घोर कष्ट या पीड़ा के समय भी उफ तक नहीं करते। इनके जीवन का आरंभ संघर्षमय होता है, लेकिन जवानी में वे सभी सुख पा लेते हैं। अंक 4 या 7वालों से इनकी अच्छी बनती है।

शुभ रंग- समुद्री हरा, शुभ तिथि- 20 व 30।

अंक 3

इस विलक्षण शुभ अंक के जातक उत्साही व संघर्षशील होते हैं। इनके अंदर कुछ नया करने की भावना होती है। ये अच्‍छे डील-डौल, सुंदर नेत्र, चौड़े सीने वाले व बेहद आकर्षक होते हैं। ये शानदार तरीके से चलते हैं। अपनी कहने के बजाय चुप रहकर दूसरों की बात सुनते हैं। अपना लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सदैव क्रियाशील रहते हैं। खुद कठोर परिश्रम करते हैं और दूसरों से भी ऐसा ही चाहते हैं। समय के पाबंद होते हैं। तड़क-भड़क, साज-सज्जा, दिखावा, ढोंग इन्हें अच्छा नहीं लगता। इस राशि की स्त्रि‍यां भी श्रृंगार के प्रति अधिक अनुराग नहीं रखतीं। अंक 6 व 7 वालों से इनकी अधिक बनती है।

शुभ रंग- जामुनी, शुभ तिथि- 9 व 27।

अंक 4

इस मंगलकारी अंक के जातक क्रांतिकारी विचारों के होते हैं। इनमें कुछ नया व अलग करने की भावना होती है। अपनी वाक् शक्ति से वे दूसरों को अपने वशीभूत करने की क्षमता रखते हैं। इनके शौक व रुचियां भी अन्य लोगों से हटकर होती हैं। ये कृशकाय, लेकिन आकर्षक व्यक्तित्व के होते हैं। दार्शनिक प्रवृत्ति के होते हैं और हमेशा ख्यालों में डूबे रहते हैं। स्वभाव से शक्की व वहमी होते हैं। हर किसी पर शक करते हैं। धर्म, कर्म, भूत-प्रेत व गुप्त विद्याओं में इनकी काफी रुचि होती है। ये मित्र को भी शत्रु बना लेते हैं। क्लर्क, स्टेनो, लेखक, मैकेनिक, वैज्ञानिक, दार्शनिक, अध्यापक, रेलवे, हवाई अड्डे, खदान, तकनीकी कार्यों आदि में सफल रहते हैं। अंक 8 वालों की ओर वे जल्दी आकर्षित होते हैं, लेकिन अंक 2 व 7 वालों से इनकी अधिक बनती है।

शुभ रंग- पीला, शुभ तिथि- 10 व 19।

अंक 5

इस पावन अंक के जातक स्पष्टवादी व महत्वाकांक्षी होते हैं। ये अपने विचार बहुत अच्‍छी तरह व्यक्त करते हैं। अपनी वाणी व तर्कों से वे दूसरों को अपने वश में कर लेते हैं। कार्यक्षेत्र में भी ये वाक् शक्ति व चातुर्य का प्रयोग करने से नहीं चूकते। इनका रंग साफ व व्यक्तित्व आकर्षक होता है। दांपत्य जीवन कलहपूर्ण होता है। संतान सुख उत्तम होता है। ये शारीरिक की अपेक्षा मानसिक श्रम करना अधिक पसंद करते हैं। ये लेखक, इंजीनियरिंग, व्यापारी, प्रोफेसर, डॉक्टर, प्रॉपर्टी डीलर, समाचार-पत्र मालिक, संपादक, राजनेता, प्रकाशक आदि होते हैं। इन्हें गायन, वादन व लेखन का शौक होता है। बाजार में ये सफल रहते हैं और इनकी बहुत धाक होती है। अंक 1 व 7 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।

शुभ रंग- हरा, शुभ तिथि- 23 व 30।

अंक 6

इस पवित्र अंक के जातकों की रुचि कला-संस्कृति में होती है। उनमें हमेशा कुछ नया करने की चाह होती है और वे परिश्रम करके सुख पाना चाहते हैं। यात्राएं, मेल-मिलाप बढ़ाना, अच्‍छा खान-पान, पहनावा इनका शौक होता है। फैशन, सिनेमा, होटल, राजनीति, कम्प्यूटर आदि से जुड़े कार्यों में इन्हें ‍अधिक सफलता मिलती है। ये न्याय व आदर्श को काफी महत्व देते हैं। ये शांत व मृदु स्वभाव के होते हैं। ये कल्पनाशील तो होते हैं, लेकिन हवाई किले नहीं बनाते। समय के पाबंद होते हैं। इस अंक के स्त्री-पुरुष आदर्श पति-पत्नी होते हैं। व्यापार में सफल, निष्पक्ष व न्यायप्रिय होते हैं। अंक 3 व 1 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।

शुभ रंग- गाजरी, शुभ तिथि- 6 व 23।

अंक 7

इस सुहाने अंक के जातक विस्फोटक विचारों वाले होते हैं। वे समाज में परिवर्तन लाने की क्षमता वाले, कल्पनाशील व विचारों के धनी होते हैं। इनका रुझान धर्म-अध्यात्म की ओर होता है। इन्हें एकाकी जीवन बिताना अच्‍छा लगता है। ये हर चीज को जानने की जिज्ञासा रखते हैं और जीवन में नीचे से ऊपर तक पहुंचना चाहते हैं। ये अधिक हंसी-मजाक व छिछोरापन पसंद नहीं करते। अपना काम ठीक समय पर तो करते हैं, लेकिन कई बार दुविधा में रहते हैं। अंक 3, 4 व 5 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।

शुभ रंग- सुनहरा, शुभ तिथि- 3 व 6।

अंक 8

इस शांत और शालीन अंक के जातक सहनशील व छल-कपट से दूर रहते हैं। रहस्यमय व आश्चर्यजनक बातों, कार्यों व चीजों में इनकी अधिक दिलचस्पी होती है। ये एकाकी पसंद होते हैं व मन की बात मन में ही रखते हैं। ये दुबले-पतले, मगर आकर्षक व्यक्तित्व के होते हैं। इनका व्यवहार व जीवन रहस्यमय होता है। ये लोगों पर प्रभाव बनाए रखने में सक्षम होते हैं। ये एकसाथ कई योजनाएं बना सकते हैं व उन पर काम भी कर सकते हैं। ये खेल, इंजीनियरिंग, पुलिस सेवा, सेना, ज्योतिष, तांत्रिक, वैज्ञानिक, गायक व जेलर होते हैं। कोयला, लोहा व खदान से संबंधित कार्य में ये ज्यादा सफल रहते हैं। अंक 8 व 4 वालों से इनका विचित्र लगाव देखा गया है।

शुभ रंग- लाल, शुभ तिथि- 4 व 27।

अंक 9

इस रहस्यमयी अंक के जातक नवीन विचारों को मानने वाले होते हैं। ये एकसाथ क्रोधी व हंसमुख दोनों ही प्रकृति के होते हैं। इनमें दया व संघर्ष की अद्भुत क्षमता होती है। मिश्रित गुण वाले ये लोग अपनी हिम्मत से जीवन के दुखों को सहकर अपने उद्देश्य में सफल होते हैं। रचनात्मक कार्यों जैसे अभिनय, लेखन आदि के अलावा ये पुलिस, सेना आदि में भी अपने व्यक्तित्व का सफल परिचय देते हैं। पारिवारिक जीवन सामान्य होता है। अंक 1 व 3 वालों से इनकी अधिक बनती है।

शुभ रंग- संतरी, शुभ तिथि- 5 व 9।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

दरिद्रता से चाहिए जल्दी छुटकारा तो राशि अनुसार करें यह खास ...

दरिद्रता से चाहिए जल्दी छुटकारा तो राशि अनुसार करें यह खास उपाय
यह उपाय 12 राशियों के अनुसार बताए गए हैं। यह उपाय अगर अपने ईष्ट का स्मरण कर भक्ति भाव से ...

कुंडली में लग्न का मतलब जानते हैं आप ! जानिए कितना ...

कुंडली में लग्न का मतलब जानते हैं आप ! जानिए कितना महत्वपूर्ण है यह?
जब भी आप ज्योतिष की बात करते हैं या किसी ज्योतिष के पास जाते हैं, आपको एक शब्द जरूर सुनने ...

बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते हैं धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे ...

बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते हैं धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे जातक, जानिए भविष्यफल
वैदिक ज्योतिष की गणनाओं के लिए महत्वपूर्ण माने जाने वाले 27 नक्षत्रों में से धनिष्ठा को ...

क्या लाया है नए घर का सपना आपके लिए, जानें 12 तरह के स्वप्न ...

क्या लाया है नए घर का सपना आपके लिए, जानें 12 तरह के स्वप्न फल
सपनों की दुनिया भी काफी सूक्ष्म है। सपने देखने के क्रम में ऐसे स्थान या दृश्य दिखाई पड़ते ...

इस साल क्या है रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, ...

इस साल क्या है रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, क्या धनिष्ठा पंचक बनेगा रुकावट
रक्षाबंधन का त्योहार इस वर्ष 26 अगस्त को है। इस साल अच्छी बात यह है कि राखी के दिन भद्रा ...

रक्षाबंधन पर देना है बहन को उपहार तो इस बार दीजिए उसकी राशि ...

रक्षाबंधन पर देना है बहन को उपहार तो इस बार दीजिए उसकी राशि अनुसार
हर भाई चाहता है कि उसकी बहन के जीवन में खुशियां बनी रहे। हम लाए हैं बहनों की राशि अनुसार ...

भाई के लिए शुभ और मंगलदायक होती है इन 5 चीजों से बनी राखी, ...

भाई के लिए शुभ और मंगलदायक होती है इन 5 चीजों से बनी राखी, जानिए वैदिक राखी बनाने की विधि
अपने लाड़ले भाई के लिए बहनें सामान्य रेशम डोर से लेकर सोने, चांदी, डायमंड और स्टाइलिश ...

पवित्रा एकादशी : तेजस्वी संतान और वायपेयी यज्ञ का फल देती ...

पवित्रा एकादशी : तेजस्वी संतान और वायपेयी यज्ञ का फल देती है यह पवित्र एकादशी
पवित्रा एकादशी को पुत्रदा एकदशी, पवित्रोपना एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस वर्ष यह ...

मंगल के 21 शुभ नाम, जो जीवन के हर क्षेत्र में देते हैं ...

मंगल के 21 शुभ नाम, जो जीवन के हर क्षेत्र में देते हैं मंगलमयी परिणाम
मंगल जीवन में मांगलिक यानि शुभ कार्यों का कारक है। यह साहस और ऊर्जा का कारक भी माना गया ...

21 अगस्त को पवित्रा-पुत्रदा एकादशी, जानिए क्या-क्या न खाएं, ...

21 अगस्त को पवित्रा-पुत्रदा एकादशी, जानिए क्या-क्या न खाएं, ये नियम पालेंगे तो नहीं होगा अनिष्ट...
हिन्दू धर्म के अनुसार एकादशी व्रत करने की इच्छा रखने वाले मनुष्य को दशमी के दिन से ही कुछ ...