नंदी नाड़ी ज्योतिष क्या है, पढ़ें विशेषताएं

भगवान शंकर के गण नदी द्वारा जिस ज्योतिष विधा को जन्म दिया गया उसे के नाम से जाना जाता है। नंदी नाड़ी ज्योतिष
मूल रूप से दक्षिण भारत में अधिक लोकप्रिय और प्रचलित है, इस ज्योतिष विधा में ताड़ पत्र पर लिखे भविष्य के द्वारा ज्योतिषशास्त्री फल कथन करते हैं। ज्योतिष की यह एक अनूठी शैली है।

नाड़ी ज्योतिष की विधि


नाड़ी ज्योतिष विधि से जब आप अपना भविष्य जानने के लिए के लिए ज्योतिषशास्त्री के पास जाते हैं तब सबसे पहले पुरुष से उनके दायें हाथ के अंगूठे का निशान और महिलाओं से बाएं हाथ के अंगूठे का निशान लेते हैं। इसके बाद कुछ ताड़पत्र आपके सामने रखा जाता है और आपसे नाम का पहला और अंतिम शब्द पूछा जाता है। आपके नाम से जिस जिस ताड़पत्र का मिलाप होता है उससे कुछ अन्य प्रश्न और माता पिता अथवा पत्नी के नाम का मिलाप किया जाता है। जिस ताड़पत्र से मिलाप होता है उसे ज्योतिषशास्त्री पढ़कर आपका करते हैं।

नाड़ी ज्योतिष की विशेषता

अगर आपको अपनी जन्मतिथि, जन्म नक्षत्र, वार, लग्न का पता होता है तो आप आसानी से ताड़पत्री तलाश कर पाते हैं। यह विधि उनके लिए उत्तम है जिन्हें अपनी जन्मतिथि एवं जन्मसमय की जानकारी नहीं होती है।

अगर आपको भी अपनी जन्म तिथि एवं जन्म समय की जानकारी है तो आप भी इस विधि से अपना भविष्यफल जान सकते हैं। इस वधि से आप यह भी जान सकते हैं कि आपकी जन्मतिथि एवं समय क्या है। अन्य ज्योतिष विधि से अलग इसकी एक और मुख्य विशेषता यह है कि अन्य ज्योतिष विधि में बारह भाव होते हैं जिनसे फलादेश किया जाता है जबकि नंदी नाड़ी ज्योतिष विधि में सोलह भाव होते हैं।



Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

राहुकाल का समय और उससे बचने के उपाय

राहुकाल का समय और उससे बचने के उपाय
राहुकाल स्थान और तिथि के अनुसार अलग-अलग होता है अर्थात प्रत्येक वार को अलग समय में शुरू ...

वास्तु-फेंगशुई : स्टडी टेबल ऐसी होगी तो मिलेगी मनचाही सफलता

वास्तु-फेंगशुई : स्टडी टेबल ऐसी होगी तो मिलेगी मनचाही सफलता
क्या आपने स्टडी टेबल पर ध्यान दिया है। वह सुविधाजनक तो है लेकिन क्या वास्तु अनुरूप भी ...

वृषभ राशि में आए सूर्य, किस राशि के लिए शुभ, किसके लिए अशुभ

वृषभ राशि में आए सूर्य, किस राशि के लिए शुभ, किसके लिए अशुभ
मंगलवार, 15 मई 2018 को वृषभ राशि में सूर्य ने प्रवेश कर लिया है। आइए जानें किस राशि के ...

इन रत्नों से मिलेगा ग्रहों का शुभ प्रभाव, आप भी जानिए...

इन रत्नों से मिलेगा ग्रहों का शुभ प्रभाव, आप भी जानिए...
सूर्य को शक्तिशाली बनाने के लिए 3 रत्ती के माणिक को स्वर्ण की अंगूठी में, अनामिका अंगुली ...

यदि नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो अपनाएं ये 7 खास

यदि नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो अपनाएं ये 7 खास उपाय
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि नौकरी में आपकी मेहनत, प्रतिभा और वरिष्ठता के बावजूद मनचाही ...

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार
व्यास स्मृति में सोलह संस्कारों का वर्णन हुआ है। हमारे धर्मशास्त्रों में भी मुख्य रूप से ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं विशेषताएं
भगवान शंकर के गण नंदी द्वारा जिस ज्योतिष विधा को जन्म दिया गया उसे नंदी नाड़ी ज्योतिष के ...

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी
दूर बैठे ग्रह नक्षत्र कैसे मानव जीवन पर प्रभाव डाल सकते हैं? अक्सर यह सवाल मनुष्य के ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ग्रंथ
ज्योतिष का उदय भारत में हुआ, क्योंकि भारतीय ज्योतिष शास्त्र की पृष्ठभूमि 8000 वर्षों से ...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...
सूर्यस्वरूप सृष्टि में सबसे पहले प्रकट हुआ इसलिए इसका नाम आदित्य पड़ा।