Widgets Magazine

क्या आपकी कुंडली में है संतान सुख

Author पं. हेमन्त रिछारिया|


एक स्त्री की पूर्णता तभी होती है जब वह मां बनती है, वहीं पुरुष भी पिता बनकर ही पितृ-ऋण से मुक्त होता है। लेकिन कभी-कभी जन्मपत्रिका में ऐसे ग्रहयोगों का सृजन हो जाता है जिनके फ़लस्वरूप पति-पत्नी से वंचित हो जाते हैं। आइए जानते हैं वे कौन सी ग्रहस्थितियां होती हैं जिनके कारण दंपत्तियों को संतान-सुख प्राप्त नहीं होता।
जन्मपत्रिका के पंचम् भाव, पंचमेश व शुक्र से संतान-सुख का विचार किया जाता है। यदि किसी दंपत्ति की जन्मपत्रिका में पंचम् भाव, पंचम् भाव के अधिपति (पंचमेश) एवं शुक्र पर पाप प्रभाव हो तो दंपत्ति को सन्तान-सुख प्राप्त नहीं होता है। यदि पति-पत्नी की जन्मपत्रिका में पंचम् भाव क्रूर ग्रहों द्वारा दृष्ट हो, पंचमेश अशुभ स्थानों में हो व शुक्र निर्बल या अस्त हो तो यह योग संतान-सुख बाधित करता है। 
स्त्री की जन्मपत्रिका में यदि पंचम् भाव पर राहु का प्रभाव हो तो गर्भपात की संभावना होती है। पंचम भाव पर यदि शनि, चन्द्र व शुक्र जैसे स्त्री ग्रहों का प्रभाव अधिक हो तो कन्या संतति होती है वहीं गुरु, सूर्य व मंगल जैसे पुरुष प्रधान ग्रहों का प्रभाव होने से पुत्र के योग बनते हैं।
 
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine