संपत्त‍ि प्राप्ति के लिए दुर्गा सप्तशती का दुर्लभ प्रयोग


> हमारे शास्त्रों में कई ऐसे दुर्लभ हैं, जिनके पाठ व प्रयोग से मनुष्य को आशातीत सफलता व सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। बस आवश्यकता है साधक को इन्हें पूर्ण विधि-विधान के साथ संपन्न करने की।> दुर्गासप्तशती में वर्णित "दुर्गाष्टोत्तरशतनाम" ऐसा ही एक स्तोत्र है जिसे यदि बताए अनुसार मुहूर्त्त में पूर्ण विधि-विधान के साथ संपन्न कर लिया जाए, तो मनुष्य संपत्तिशाली होता है।
 
दुर्गासप्तशती के अनुसार उस मनुष्य को सर्वसिद्धि सुलभ हो जाती है व राजा भी उसके दास हो जाते हैं। लेकिन इसे संपन्न करने के लिए विशेष मुहूर्त की आवश्यकता होती है, जो वर्षों में सुलभ हो पाता है। हमारे मतानुसार यदि प्रतिदिन इस स्तोत्र का पाठ करते हुए धैर्य के साथ निर्धारित मुहूर्त की प्रतीक्षा की जाए तत्पश्चात् मुहूर्त प्राप्त हो जाने पर इस प्रयोग को सम्पन्न किया जाए तो लाभ में कई गुना वृद्धि होती है। प्रयोग -

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :