शरीर का भी होता है वास्तु, जानिए तन और मन की शुद्धि से कैसे चमकाएं किस्मत



* 8 सरल उपाय, आप भी आजमाएं
इन 8 बातों का रखेंगे ध्यान तो सोया भाग्य जागेगा, हर संकट का होगा समाधान


शरीर का भी होता है वास्तु, जानिए तन और मन की शुद्धि से कैसे चमकाएं किस्मत

वर्तमान समय में धन-संपत्ति और शांति की चाह में कई लोग वास्तु के अनुरूप अपने भवन, ऑफिस बनाने में खूब धन खर्च करते हैं। फिर भी उन्हें आत्मिक शांति का अनुभव नहीं होता। मनचाहा परिणाम न मिलने पर वे तोड़-फोड़ करने में लगे ही रहते हैं।

पर क्या कभी इस बात पर गौर किया है कि हमारा शरीर भी परमात्मा का निवास स्थान ही है, ऐसे में हमें अपनी आत्मा, अपने मन को भी वास्तु अनुरूप ढालने की कोशिश करनी चाहिए।

जब हम हमारे शारीरिक आचार-विचार में सुधार करेंगे ‍तभी हम अपने जीवन में सफल हो पाएंगे। आइए जानें भाग्यशाली बनने के सरलतम उपाय :-

1. हमेशा अपने घर तथा शरीर को साफ-सुधरा और सुगंधित बनाए रखें।

2.
जिस तरह वास्तु अनुरूप घर ही उत्तम फलदायी होता है, उसी तरह योग या व्यायाम से शरीर का वास्तु भी सुधारें।

3. प्रतिदिन ईश्वर की प्रार्थना करें। प्रार्थना से शरीर और मन स्वस्थ तथा शांतिमय बना रहता है।
4. भी शरीर की प्रकृति है उसे उत्तम बनाएं तथा अनुचित व्यवहार से दूर रहें।

5. दूसरों के साथ हमेशा आत्मीयता का व्यवहार बनाए रखें।

6. सभी तरह के व्यसनों एवं बुरी संगतों से दूर रहें।

7. सत्यवादी रहकर एकनिष्ठ बनें। इससे लक्ष्य और निर्णय का विकास होता है, साथ ही दिमाग शक्तिशाली बनता है।
8. हमें शुद्ध सात्विक आहार लेना चाहिए। ज्यादा ऑइली फूड, फास्ट फूड, जंक फूड, स्पाइसी फूड, ग्रेवी फूड आदि सभी को छोड़कर शुद्ध सात्विक और संपूर्ण आहार का चयन करें। भोजन के बाद मीठा खाना या फल लेना अति उत्तम।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :