इन 10 पापों का नाश करती है पुण्यदायिनी मां गंगा


 
 
धर्म-पुराणों के अनुसार पाप 10 प्रकार के कहे गए हैं। 3 तीन प्रकार के शरीर के और 4 प्रकार के वाणी द्वारा किए गए एवं 3 मानसिक रूप से होने वाले पाप। अतः गंगा स्नान, गंगा एवं गंगा स्मरण, इन दस प्रकार के पापों को समाप्त कर मानव को कायिक, वाचिक एवं मानसिक रूप से निर्मल कर देती है।   
 
पुराणों के अनुसार पावन नदी गंगा 10 पापों को नष्ट करती है जो क्रमश: इस प्रकार है -
 
तीन दैहिक पाप - 
 
1 बिना दी हुई वस्तु को ले लेना
 
2 निषिद्ध हिंसा
 
3  परस्त्री गमन  
 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :