कैसा होगा नया साल, जानिए आगामी संवत्सर के अनुसार

surya



विरोधकृत नामक होगा नवीन संवत्सर, जानिए 12 राशियों पर असर
के पश्चात मनाया जाएगा। सनातन धर्म की मान्यता अनुसार से प्रारंभ होगा। इस नवीन संवत्सर का नाम विरोधकृत होगा। जो रुद्रविंशतिका का 5 वां संवत्सर है। इसके स्वामी चन्द्र हैं। ज्योतिषीय गणना अनुसार ब्रह्मा, विष्णु एवं रुद्र विंशतिका के अन्तर्गत बीस-बीस संवत्सर आते हैं। इस प्रकार कुल साठ संवत्सर होते हैं।

वर्ष 2018 के मंत्री मंडल में सूर्य राजा एवं शनि मंत्री होंगे। मेघेश शुक्र एवं धनेश चंद्र होंगे। विरोधकृत संवत्सर में फ़सलों के उत्पादन में कमी, आतंकी वारदातों में वृद्धि, वर्षा में कमी, सूखा, एवं सत्तापक्ष को मानसिक कष्ट रहेगा। अनाज मंहगा होगा। दूध एवं फ़लों के रस का उत्पादन बढ़ेगा। चांदी सस्ती होगी।

विरोधकृत संवत्सर में ग्रहण-

विक्रम संवत् 2075 के अन्तर्गत विरोधकृत संवत्सर में तीन सूर्यग्रहण एवं दो चंद्रग्रहण होंगें। तीनों सूर्यग्रहण भारत में दृश्य नहीं होंगे। शेष दो चंद्रग्रहण में से केवल एक चंद्रग्रहण भारत में दृश्य होगा, जो आषाढ़ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा दिन शुक्रवार दिनांक 27 जुलाई 2018 होगा। यह खग्रास चंद्रग्रहण संपूर्ण भारत में दृश्य एवं मान्य होगा।

12 राशियों पर प्रभाव-

आइए जानते हैं कि लाभ-हानि की दृष्टि से समस्त 12 राशियों के लिए विरोधकृत संवत्सर, विक्रम संवत् 2075 के अनुसार नया वर्ष 2018 कैसा रहेगा-

1. मेष- रोग व शोक

2. वृष- नेष्टसूचक, अशुभ

3. मिथुन- नेष्टसूचक, अशुभ

4. कर्क- सुख शांति

5. सिंह- सुख, समृद्धि

6 कन्या- नेष्टसूचक, अशुभ

7. तुला- नेष्टसूचक, अशुभ

8. वृश्चिक- रोग व शोक

9. धनु- सुख, शांति

10. मकर- सुख, समृद्धि

11 कुंभ- सुख, समृद्धि

12. मीन- सुख, शांति

-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

सूर्य आए कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर होगा आपकी राशि ...

सूर्य आए कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर होगा आपकी राशि में ...
16 जुलाई 2018 सोमवार को 22:42 बजे कर्क राशि में गोचर करने जा रहे हैं। सूर्यदेव के इस ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है मनचाही दौल‍त पाना
यदि आप भी शिवजी की कृपा से धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो यहां बताया गया ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव पूजन तो यह लेख आपके लिए है, पढ़ें राशि अनुसार शिव पूजन
प्रस्तुत है इस श्रावण मास में कुछ ऐसे उपाय जो आप घर में बैठकर ही आसानी से कर सकते हैं और ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है बुद्धिमान, पढ़ें 7 विशेष जानकारी
सावन मास में शिव का पूजन पूरी विधि विधान से करना चाहिए। जानिए, अलग-अलग धाराओं से शिव ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...

23 जुलाई को है देवशयनी एकादशी व्रत, चातुर्मास होंगे आरंभ, ...

23 जुलाई को है देवशयनी एकादशी व्रत, चातुर्मास होंगे आरंभ, मंगल कार्य निषेध
हरिशयनी एकादशी, देवशयनी एकादशी, पद्मा एकादशी, पद्मनाभा एकादशी नाम से पुकारी जाने वाली ...

क्यों सुनना चाहती थीं पार्वती अमरनाथ की अमरकथा, पढ़ें रोचक ...

क्यों सुनना चाहती थीं पार्वती अमरनाथ की अमरकथा, पढ़ें रोचक जानकारी...
एक बार पार्वतीजी से ने शंकरजी से पूछा, ‘मुझे इस बात का बड़ा आश्चर्य है कि आपके गले में ...

सभी समस्याओं का निवारण चाहते हैं तो गुप्त नवरात्रि में जपें ...

सभी समस्याओं का निवारण चाहते हैं तो गुप्त नवरात्रि में जपें ये विशेष मंत्र...
जीवन में नित्य नई समस्या तथा बाधा उत्पन्न होती है। देवी कृपा से उन्हें दूर करना सुगम है। ...