इंटीरियर डिजाइनर्स के लिए खुला आसमान

ND|
- दिनेश दुब

इंटीरियर जितना जाना पहचाना शब्द है उतना ही गलत समझा गया क्षेत्र भी। सामान्यतया लोग जानकारी के अभाव में डिजाइनर को डेकोरेटर समझ लेते हैं। इंटीरियर डिजाइनर और इंटीरियर डेकोरेटर में जमीन आसमान का फर्क है। जब दोनों को समग्र दृष्टि से देखा जाए तब तक यह फर्क पता कर पाना मुश्किल है। छात्रों को यह शिक्षा प्रदान करने वाले इंस्टीट्यूट फ इंडिया, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, एमआईटी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन जैसे कुछ ही चुनिंदा संस्थान हैं।

इंटीरियर डेकोरेटर किसी स्थान की साज-सज्जा करता है, उसे सुंदर बनाता है, ऐसेसरीज जोड़ता है यानि उस स्थान को डेकोरेट करता है। वहीं दूसरी ओर इंटीरियर डिजाइनर की समझ और अपेक्षाएँ व्यापक होती हैं। इंटीरियर डिजाइनर सर्वप्रथम वाल्यूम का ध्यान ऱखकर स्पेस प्लान करता है, इसके पश्चात उस स्थान का उपयोग करने वाले लोगों की संख्या समझता है और फिर आगे की और कार्रवाई करता है।

डिजाइनर को एरगोनॉमिक्स का ज्ञान होना बेहद आवश्यक है ताकि स्पेस प्लानिंग समुचित रूप से हो पाए। उदाहरण के लिए यदि डिजाइनर एक रेस्टारेंट की प्लानिंग कर रहा है तो वह आने वाले लोगों, वेटर्स व अन्य स्टॉफ की संख्या जानकर ही आगे बढ़ता है। यही नहीं उन लोगों का आना जाना, ट्रे या ट्रॉली की लंबाई-चौड़ाई व उपयोग किए जाने वाले अन्य उत्पादों को जानकर अपनी प्लानिंग को बेहतर बनाता है।
इंटीरियर जितना जाना पहचाना शब्द है उतना ही गलत समझा गया क्षेत्र भी। सामान्यतया लोग जानकारी के अभाव में डिजाइनर को डेकोरेटर समझ लेते हैं। इंटीरियर डिजाइनर और इंटीरियर डेकोरेटर में जमीन आसमान का फर्क है।







इंटीरियर के लिए उपयोग में आने वाले प्रत्येक मटेरियल का ज्ञान होना एक डिजाइनर के लिए अति आवश्यक है। वह उत्पादों के भौतिक एवं रसायनिक गुण जानकर सही जगह, सही अनुपात में उन्हें व्यवस्थित करता है। इससे वह स्थान इकॉनामिकल होने के साथ ही सुंदर बनता जाताहै। इंटीरियर डिजाइनर का ध्यान उपयोग में आने वाली एक छोटी कुर्सी पर भी रहता है। वह प्रयास करता है कि वह छोटी कुर्सी भी स्वयं बनाए ताकि किफायत के साथ ही खूबसूरती बरकरार रहे।

एक डिजाइनर प्रत्येक काम प्रेक्टिकल और फंक्शनल करता है। इसीलिए उसके छोटे से छोटे काम में भी गहरा चिंतन छुपा होता है। रंगों का उपयोग करते समय भी वह कलर सायक्लोजी पर ध्यान केन्द्रित करता है। वह स्थान, व्यक्ति, पेशा, उपयोग, वातावरण जैसे तत्वों को ध्यानमें रखकर सर्वश्रेष्ठ रंगों का चुनाव करता है।

उदाहरण के लिए पुरुष प्रधान जगह के लिए रंग अलग होगा और महिला प्रधान जगह के लिए अलग। यदि बारिश अधिक होती है तो रंग अलग होंगे यदि कम होती है तो रंग कुछ और होंगे। एक डिस्को थेक के रंग को वह कभी हॉस्पिटल में उपयोग नहीं लेगा।

सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :