2007 का सेहत

ND
''जाको राखे साँइया मार सके न कोई... '' वाली कहावत तो आपने भी सुनी होगी, ल‍ेकिन जब यह कहावत चरितार्थ होकर हमारे आस-पास दिखने लगती है तो हम दाँतों तले अँगुली दबा लेते हैं। ऐसी ही कुछ घटनाएँ या कहें चमत्‍कार चिकित्‍सा जगत में घटित हुए हैं जो हमें इसे मानने को बाध्‍य करते हैं। 2007 में कुछ ऐसी ही चिकित्‍सा की जादूगारी से आप भी रू-ब-रू होइए-

ND
लक्ष्‍मी का ऑपरेशन- बिहार के अररिया जिले की लक्ष्‍मी का ऑपरेशन भारत के चिकित्‍सा जगत में एक चमत्‍कार माना गया। दो साल की बच्‍ची जो जन्‍म से ही विकृत पैदा हुई थी।

उसके शरीर के निचले हिस्‍से से बिना धड़ के एक और शरीर जुड़ा था। उसके माँ-बाप उम्‍मीद हार चुके थे। लेकिन बंगलौर के स्‍पर्श अस्‍पताल के डॉक्‍टर शरण पाटिल ने इस असंभव को संभव कर दिखाया। अब लक्ष्‍मी पूरी तरह स्‍वस्‍थ है और बिना सिकी सहारे के चल सकती है।

मनीष राजपुरोहित - 18 साल के मनीष राजपुरोहित को भारत का सबसे भाग्‍यवान युवा करार दिया गया है। वजह है उसका मौत के मुँह से बाहर निकल आना। यह घटना थी, आंध्रप्रदेश की जहाँ मनीष की बस एक लॉरी से टकरा गई थी और एक धातु की छड़ उसके सिर के आर-पार हो गई। लेकिन उस बहादुर ने असीम पीड़ा को सहते हुए हिम्‍मत बनाए रखी। मनीष को बंगलौर ले जाया गया, जहाँ उसका इलाज किया गया और अब वह पूर्णत: स्‍वस्‍थ है। मनीष का इलाज भी शरण पाटिल ने ही किया था।

12 साल का वैज्ञानिक- आकृत नाम का 12 साल का यह वैज्ञानिक, जिसने अपनी बुद्धिमत्‍ता से सबको चकित कर दिया है। वह बड़ी ही गंभीरता से कैंसर के इलाज पर शोध करता है। सात साल की उम्र में उसने एक ऐसी बच्‍ची का इलाज किया था, जिसकी ऊँगलियाँ आग से पूरी तरह झुलस गई थीं।

कमल शर्मा|
उसकी योग्‍यता से प्रभावित होकर ही उसे अमरीका के वैज्ञानिकों ने आमंत्रित किया। जहाँ उसके आईक्‍यू का परीक्षण किया गया। वहाँ के वैज्ञानिक उससे काफी प्रभावित हुए और उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि आकृत कैंसर पर अपने शोध में एक दिन कामयाब होगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...