2007 का सेहत

ND
''जाको राखे साँइया मार सके न कोई... '' वाली कहावत तो आपने भी सुनी होगी, ल‍ेकिन जब यह कहावत चरितार्थ होकर हमारे आस-पास दिखने लगती है तो हम दाँतों तले अँगुली दबा लेते हैं। ऐसी ही कुछ घटनाएँ या कहें चमत्‍कार चिकित्‍सा जगत में घटित हुए हैं जो हमें इसे मानने को बाध्‍य करते हैं। 2007 में कुछ ऐसी ही चिकित्‍सा की जादूगारी से आप भी रू-ब-रू होइए-

ND
लक्ष्‍मी का ऑपरेशन- बिहार के अररिया जिले की लक्ष्‍मी का ऑपरेशन भारत के चिकित्‍सा जगत में एक चमत्‍कार माना गया। दो साल की बच्‍ची जो जन्‍म से ही विकृत पैदा हुई थी।

उसके शरीर के निचले हिस्‍से से बिना धड़ के एक और शरीर जुड़ा था। उसके माँ-बाप उम्‍मीद हार चुके थे। लेकिन बंगलौर के स्‍पर्श अस्‍पताल के डॉक्‍टर शरण पाटिल ने इस असंभव को संभव कर दिखाया। अब लक्ष्‍मी पूरी तरह स्‍वस्‍थ है और बिना सिकी सहारे के चल सकती है।

मनीष राजपुरोहित - 18 साल के मनीष राजपुरोहित को भारत का सबसे भाग्‍यवान युवा करार दिया गया है। वजह है उसका मौत के मुँह से बाहर निकल आना। यह घटना थी, आंध्रप्रदेश की जहाँ मनीष की बस एक लॉरी से टकरा गई थी और एक धातु की छड़ उसके सिर के आर-पार हो गई। लेकिन उस बहादुर ने असीम पीड़ा को सहते हुए हिम्‍मत बनाए रखी। मनीष को बंगलौर ले जाया गया, जहाँ उसका इलाज किया गया और अब वह पूर्णत: स्‍वस्‍थ है। मनीष का इलाज भी शरण पाटिल ने ही किया था।

12 साल का वैज्ञानिक- आकृत नाम का 12 साल का यह वैज्ञानिक, जिसने अपनी बुद्धिमत्‍ता से सबको चकित कर दिया है। वह बड़ी ही गंभीरता से कैंसर के इलाज पर शोध करता है। सात साल की उम्र में उसने एक ऐसी बच्‍ची का इलाज किया था, जिसकी ऊँगलियाँ आग से पूरी तरह झुलस गई थीं।

कमल शर्मा|
उसकी योग्‍यता से प्रभावित होकर ही उसे अमरीका के वैज्ञानिकों ने आमंत्रित किया। जहाँ उसके आईक्‍यू का परीक्षण किया गया। वहाँ के वैज्ञानिक उससे काफी प्रभावित हुए और उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि आकृत कैंसर पर अपने शोध में एक दिन कामयाब होगा।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है खून?
सभी जानते हैं कि बच्चे के लिए मां का दूध किसी वरदान से कम नहीं होता है। इसमें वे सभी पोषक ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल विधि यहां पढ़ें...
सबसे पहले मावे को किसनी से कद्दूकस कर लें। अब उसमें मैदा, अरारोट मिला लें।

निपाह वायरस क्या है?

निपाह वायरस क्या है?
यह चमगादड़ों के लार से फैलता है, इसलिए लोगों को इससे बचना चाहिए। निपाह वायरस से ग्रस्त ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने लगे हैं...
नए जमाने के साथ लड़कों की सोच में भी काफी बदलाव आए हैं। अब लड़के कमसिन उम्र की, कम अनुभवी व ...

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता
इन दिनों निपाह वायरस की सूचना ने सबको डरा रखा है। इस वायरस को भी नष्ट या कमजोर किया जा ...