रुलाने के बाद हँसा गई भारतीय क्रिकेट टीम

WD|
वेस्टइंडीज में विश्व कप के शर्मनाक प्रदर्शन से दक्षिण अफ्रीका में ट्वेंटी-20 विश्व चैंपियनशिप की खिताबी जीत तक उतार- ढ़ाव से गुजरते भारतीय क्रिकेट के लिए 2007 कई खट्टी-मीठी यादें छोड़कर जाएगा।

भारतीय क्रिकेट में इस साल कई ऐसी घटनाएँ घटी जिसका असर भविष्य में भी उसके क्रिकेट पर देखने को मिलेगा। यदि इन घटनाओं से हटकर भारतीय टीम का प्रदर्शन देखा जाए तो उन्होंने क्रिकेट के दीवाने देश को खूब रुलाया तो उन्हें खुशियाँ मनाने के ढेरों मौके भी दिए।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड जरूर अपने कार्यकलापों के कारण लगातार चर्चा में रहा। इनमें उसके कुछ तुगलकी फरमान भी शामिल हैं जो आगे भी क्रिकेट पर गहरा असर डाल सकते हैं। इनमें इंडियन क्रिकेट लीग में शामिल होने वाले खिलाड़ियों पर प्रतिबंध खिलाड़ियों को मुंह बंद रखने और चयनकर्ताओं को कलम न चलाने का आदेश काफी चर्चा में रहे।
बोर्ड को इस बीच कुछ अवसरों पर बैकफुट पर जाना पड़ा जिसमें कोच की खोज का मामला भी शामिल है क्योंकि ग्रेग चैपल के इस्तीफे के बाद इस पद के लिए चुने गए दक्षिण अफ्रीकी ग्राहम फोर्ड ने बीसीसीआई की लुभावनी पेशकश भी ठुकरा दी थी। अब एक और दक्षिण अफ्रीकी गैरी कर्स्टन की नियुक्ति की गई है।

इससे पहले जनवरी के शुरू में भारत को दक्षिण अफ्रीका से न्यूलैंड्स में तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में मात खानी पड़ी थी। लेकिन इसके बाद उसने बांग्लादेश और इंग्लैंड से उनकी सरजमीं पर 1-0 के समान अंतर से टेस्ट श्रृंखलाएँ जीती जबकि पाकिस्तान को 27 साल बाद टेस्ट श्रृंखला 1-0 में हराया।
एकदिवसीय क्रिकेट में यदि विश्व कप इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ऑस्ट्रेलिया के हाथों मिली हार भुला दी जाए तो भारत का प्रदर्शन ओवरऑल अच्छा रहा। उसने इस बीच बांग्लादेश आयरलैंड दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान से श्रृंखलाएं जीती। इंग्लैंड से वह 3-4 के मामूली अंतर से हारा जबकि ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 4-2 से मात दी।

वेस्टइंडीज में भारतीय क्रिकेट पर लगे दाग हालाँकि धोनी की टीम ने दक्षिण अफ्रीका में ट्वेंटी-20 विश्व चैंपियनशिप में जीत दर्ज करके धो दिए। सचिन तेंडुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली जैसे दिग्गज इस टूर्नामेंट में नहीं खेले थे, जिससे कहा जाने लगा कि अब भारतीय क्रिकेट का भविष्य युवाओं के हाथों में ही सुरक्षित है।
धोनी की टीम ने दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और फाइनल में पाकिस्तान जैसी दिग्गज टीमों को हराकर यह खिताब जीतकर 1983 के बाद भारत को क्रिकेट में कोई बड़ी उपलब्धि दिलाई थी।

भारतीय टीम का स्वदेश पहुँचने पर मुंबई में जिस तरह से शाही स्वागत किया गया, उसे लेकर विदेशों में भले ही नाक भौं सिकाड़ी गई, लेकिन इससे भारत की क्रिकेट के प्रति दीवानगी दिखाई दी।
भारतीय क्रिकेट ने इस साल तीन कप्तान भी देखे। राहुल द्रविड़ ने इंग्लैंड दौरे के बाद अचानक ही कप्तानी छोड़कर सबको चौंका दिया। उनका यह फैसला अब भी रहस्य बना हुआ है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...
दर पे खड़ा मुलाकात को तुम आती भी नहीं, शायद मेरी आवाज़ तुम तक जाती भी नहीं।

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं
जब भी घर, कमरा या टेबल सजाने की बात आती है तब कैंडल्स का जिक्र न हो, ऐसा शायद ही हो सकता ...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...
रंगोली केवल व्रत-त्योहार पर ही नहीं बनाई जाती, बल्कि इसे घर के बाहर व अंदर हमेशा ही बनाया ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी बर्बाद
आइए जानें कि 5 कौन से ऐसे काम हैं जो भोजन के तुरंत बाद नहीं करना चाहिए ....

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...
आसमान में उड़े बहुत हैं, सागर तल से जुड़े बहुत हैं। किंतु समय अब फिर आया है, हमको धरती चलना ...

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास जानकारी
आकाश में न तो कोई बिच्छू है और न कोई शेर, पहचानने की सुविधा के लिए तारा समूहों की आकृति ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें आसान विधि
सबसे पहले सभी कैरी को छीलकर उसकी गुठली निकाल लीजिए। अब उसके बड़े-बड़े टुकड़े कर लीजिए।

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में 9 ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...