भारत को मिली पहली महिला राष्ट्रपति

हर क्षेत्र में महिलाओं ने फहराया परचम

PTI
वर्ष 2007 ने भारत को एक ऐसी अमूल्य सौगात दी है, जो इतिहास के पन्नों में सुनहरे अक्षर बनकर हमेशा के लिए अंकित हो जाएगी। आजादी की 60वीं सालगिरह मना रहे दुनिया के इस सबसे बड़े लोकतंत्र में पहली बार एक महिला ने राष्ट्रपति पद की बागडोर संभाली है, लेकिन आधी आबादी संसद एवं विधायिकाओं में 33 फीसदी आरक्षण के लिए इस साल भी तरसती रह गई।

प्रतिभा पाटिल ने 25 जुलाई, 2007 को भारत की पहली महिला राष्ट्रपति बनने का गौरव हासिल किया और देश की महिलाएँ खुशी से झूम उठीं। महाराष्ट्र के जलगाँव से प्रतिभा पाटिल के राजनीतिक सफर की जो शुरूआत हुई तो कई उपलब्धियाँ उनके खाते में आईं।

राजस्थान की पहली महिला राज्यपाल होने का गौरव हासिल कर चुकीं प्रतिभा ने राष्ट्रपति पद के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी भैरोसिंह शेखावत को तीन लाख मतों के अंतर से हराया।

WD
असरदार सोनिया : अनिच्छा के बावजूद राजनीति में आईं सोनिया गाँधी वह चेहरा हैं, जिन्हें टाइम पत्रिका ने वर्ष 2007 में दुनिया के सर्वाधिक प्रभावी 100 व्यक्तियों की सूची में शामिल किया। फोर्ब्स पत्रिका ने सोनिया को सर्वाधिक प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची में इस साल छठा स्थान दिया। इसके बावजूद संसद तथा विधायिकाओं में 33 फीसदी आरक्षण महिलाओं के लिए इस साल भी सपना ही बना रहा।

महिला आरक्षण विधेयक के बारे में सरकार ने कहा कि वह सहमति बनाने की कोशिश कर रही है तो विपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार अंतर्कलह के कारण यह विधेयक लाना ही नहीं चाहती।

गाँधीवादी निर्मला देशपांडे कहती हैं कि महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण बेहद उपयोगी होगा। फिलहाल इस बारे में कहना मुश्किल है कि विधेयक कब तक लाया जाएगा। भाजपा नेता सुषमा स्वराज का कहना है हम किसी भी रूप में इस विधेयक का समर्थन करने के लिए तैयार हैं बशर्ते सरकार विधेयक तो लाए।

ND
सनसनी सानिया : बहरहाल 33 फीसदी आरक्षण के सपने के बीच ही महिलाओं की उपलब्धियों को और आगे बढ़ाया टेनिस की सनसनी सानिया मिर्जा ने। हैदराबाद की यह युवा खिलाड़ी किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में वरीयता पाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। यह उपलब्धि सानिया को वर्ष 2007 में यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट में मिली जिसमें वे अमेरिका की लारा ग्रेनविले को हराकर तीसरे दौर में पहुँची।

WD|
आज घर-घर का पसंदीदा चेहरा बन चुकीं सानिया को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 'बेटी बचाओ' अभियान में अपना ब्रांड एंबेसेडर नियुक्त किया है।


और भी पढ़ें :