Widgets Magazine

84 महादेव : श्री प्रयागेश्वर महादेव(71)

WD|
काफी समय पहले एक राजा थे शांतनु। धर्मात्मा और वेदों को जानने वाले राजा शांतनु एक दिन सेना के साथ शिकार करने लिए वन में गए। वहा एक स्त्री को देखा। राजा ने उससे परिचय पूछा तो स्त्री ने कहा कि राजन आप मेरा परिचय न पूछें, आप जो चाहते हैं उसके लिए मैं तैयार हूं। इसके लिए उसने एक शर्त रखी की वह रानी बनने के बाद जो भी करें राजा कभी उससे उस बारे में कुछ नहीं  पूछेगा। राजा ने स्वीकृति दी ओर स्त्री से विवाह कर लिया। विवाह के बाद रानी ने एक पुत्र को जन्म दिया और तुरंत नदी में प्रवाहित कर दिया। वचन के कारण राजा रानी से प्रश्न न पूछ सका। आठवें पुत्र को रानी नदी में प्रावाहित करने जा रही थी, तभी राजा ने रानी को रोका और कहा कि तुम इस पुत्र को नदी में प्रवाहित मत करो। रानी ने कहा कि आपको पुत्र चाहिए मैं आपको पुत्र सौपती हूं और वचन को तोड़ने के कारण मैं आपका त्याग करती हूं। मै जन्हू की कन्या गंगा हूं और देवताओं के कार्य सिद्ध करने के लिए मैंने आपसे विवाह किया था। यह आठ वसु है जो वशिष्ठ ऋषि के श्राप के कारण मनुष्य योनि में आए थे। गंगा वहां से आगे जाकर पुत्र हत्या के पाप के कारण रूदन करने लगी। गंगा के रूदन को सुनकर नारद मुनि आए और रूदन का कारण पूछा। गंगा ने कहा महर्षि मैंने पुत्रों  की हत्या की है। मुझे इस पापकर्म से मुक्ति कैसे मिलेगी। नारद मुनि ने कहा गंगा तुम अवंतिका नगरी में जाओं जहां तुम्हारी सखी क्षिप्रा रहती है।
वहां दुर्धेश्वर महादेव के दक्षिण में स्थित महादेव का पूजन करो, जिससे तुम्हारे सभी पाप नष्ट हो जाएंगे। गंगा अवंतिका नगरी आई ओर सखी क्षिप्रा के साथ मिलकर भगवान शिव का पूजन किया। फिर वहां सूर्य की पुत्री यमुना ओर फिर सरस्वती भी आ मिली। इस बीच इंद्र ने नारद मुनि से पूछा कि मुनिवर प्रयाग नजर नहीं आ रहा तो नारद ने कहा कि वह महाकाल वन में गया होगा, जहां चार नदियों का मिलन हो रहा है। प्रयाग के बाद इन चार नदियों के मिलन के कारण शिवलिंग प्रयागेश्वर महादेव के नाम से विख्यात हुए। मान्यता है कि जो भी मनुष्य प्रयागेश्वर महोदव के दर्शन-पूजन करता है उसके सभी पापों का नाश होता है और मोक्ष को प्राप्त करता है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

सबसे अधिक शुभ मुहूर्त यानी अक्षय तृतीया, पढ़ें विशेष महत्व

सबसे अधिक शुभ मुहूर्त यानी अक्षय तृतीया, पढ़ें विशेष महत्व
अक्षय तृतीया के दिन पंखा, चावल, नमक, घी, चीनी, सब्जी, फल, इमली और वस्त्र वगैरह का दान ...

सभी व्रतों में सर्वोत्तम है अक्षय तृतीया, जानिए कारण

सभी व्रतों में सर्वोत्तम है अक्षय तृतीया, जानिए कारण
इस पर्व पर अगर पति-पत्नी दोनों व्रत कर के पूजन करें तो सालों साल उनका सौभाग्य बना रहता

अक्षय तृतीया पर करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, जपें यह ...

अक्षय तृतीया पर करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, जपें यह चमत्कारी मंत्र
अक्षय तृतीया के दिन शाम के समय उत्तरमुखी होकर लाल आसान पर बैठकर मां लक्ष्मीजी की उपासना ...

सूर्य का मेष राशि में परिवर्तन, जानिए 12 राशियों पर असर...

सूर्य का मेष राशि में परिवर्तन, जानिए 12 राशियों पर असर...
14 अप्रैल, शनिवार को सुबह 8 बजकर 27 मिनट पर सूर्य ने मेष राशि में प्रवेश कर लिया हैं। ...

स्वयंसिद्ध मुहूर्तों में अक्षय तृतीया को माना गया है खास, ...

स्वयंसिद्ध मुहूर्तों में अक्षय तृतीया को माना गया है खास, जानिए महत्व
‘अक्षय तृतीया’ के रूप में प्रख्यात वैशाख शुक्ल तीज को स्वयं सिद्ध मुहूर्तों में से एक ...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...
ज्यादातर ज्योति‍षी का मानना है कि अगर कुंडली में मंगल कमजोर हो तो गुरुवार का दिन प्रतिकूल ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य पढ़ें...
विद्यार्थी को इस मंत्र को प्रत्येक दिन नहा-धोकर पवित्र आसन पर बैठकर धूप दीप जलाकर ...

18 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

18 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

अक्षय तृतीया पर क्यों करते हैं कुंभ दान, पढ़ें महत्व

अक्षय तृतीया पर क्यों करते हैं कुंभ दान, पढ़ें महत्व
अक्षय तृतीया पर कुंभ का पूजन व दान अक्षय फल प्रदान करता है। धर्मशास्त्र की मान्यता अनुसार ...

अक्षय-तृतीया पूजन (यहां पढ़ें जैन पद्धति से)

अक्षय-तृतीया पूजन (यहां पढ़ें जैन पद्धति से)
जैन धर्म में अक्षय तृतीया का विशेष महत्व है। इसी दिन जैन धर्म के पहले तीर्थंकर भगवान ...

राशिफल