श्वान संचालन योग करके सुकून मिलेगा

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
(Down Dog/up Dog) : आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की क्या श्‍वान संचालन योग भी होता है। निश्‍चित ही कुछ आसन पशुओं के देखकर ही इजात किए गए हैं। यह अंग संचालन का एक हिस्सा है। हालांकि व्यक्ति इसे करता रहता है लेकिन उम्र बढ़ने के साथ ही वह इसे भूलता भी जाता है। पशुवत मनुष्य ही सेहतमंद बना रह सकता है।
अब हम डॉग संचानल की बात करते हैं। यह बहुत ही सरल है। कुत्ता जिस तरह से आलस लेता और वह जिस तरह से ऊंचा मुंह करके रोता है बस कुछ इसी तरह से करना है। यह अखाड़े में दंड लगाने जैसा भी है। हालांकि यह सूर्यनमस्कार कीयह
दो एक स्टेप है। पहली स्टेप को और दूसरी को कहते हैं। विदेशों में इसे अप डॉग और डाउन डॉग कहने लगे हैं।
हथेलियों को भूमि पर टिकाकर श्वास भरते हुए दाएं पैर को दूर तक पीछे की ओर ले जाएं और उसे पंजे के बल टिका दें। अब श्वास को धीरे-धीरे बाहर निकालते हुए बाएं पैर को भी पीछे ले जाकर दाएं पैर के साथ रखें। दोनों पैरों की एड़ियां परस्पर मिला दें। हथेलियों और पैरों के तलवे के बल पर शरीर को रखते हुए कूल्हों को थोड़ा ऊपर उठाएं। फिर ठोड़ी को कंठ में दबाते हुए गर्दन को पेट की ओर दबाएं। इसमें शरीर अंग्रेजी के उलटे यू के समान दिखाई देता है।
फिर घुटना और पेट जमीन पर टिकाते हुए भुजंगासन करें। पुन: डॉग पोजिशन में लौटकर फिर भुजंगासन करें। ऐसा सुविधानुसार 7, 14 या 21 बार करें। अंत में विश्राम मुद्रा में कुछ देर खड़े रहकर प्राणायाम करें और फिर नमस्ते करें।

इसका लाभ : यह आपकी बॉडी को स्लिम और फिट भी बनाए रखेगा। उम्र को बढ़ने से रोक देगा। हर तरह का तनाव हटाकर आत्मविश्वास बढ़ाने में सक्षम है। यह पूरे शरीर से तनाव को हटाकर शरीर को सुकून देता है। इससे थकान मिट जाती है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी यह 6 बातें -
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर सेहत समस्याएं
बरसात के दिनों में कपड़े आसानी से सूख नहीं पाते और कई बार ये थोड़े ठंडे भी होते हैं ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे छुड़ाएं इनसे पीछा
चाहे आपका नैन-नक्श कितना ही लुभावना क्यों न हो, चाहे आपकी स्किन कितनी ही गोरी क्यों न हो ...

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत
थर्मोकोल से बने डिस्पोजल प्लेट, गिलास और दोने के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाने के हिमाचल सरकार ...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...
तुम्हारी देह और हमारे मन को जलाते अंगारों में हवा में घुल चुके तुम्हारे ही विचारों में ...

अटलजी को सादर नमन अर्पित करती कविता : देशप्रेम के गीत ...

अटलजी को सादर नमन अर्पित करती कविता : देशप्रेम के गीत गुनगुनाऊंगा
कुछ ही लोगों से सभी का नाता होता है नाता आदर्शों का, प्रेरणा का, सेवाभाव का, देशप्रेम के ...