बेनजीर भुट्टो

मैंने प्रधानमंत्री पद और प्रेग्नेंसी साथ-साथ सम्हाले

ND
'मैंने पहली इस्लामी महिला प्रधानमंत्री चुने जाकर रूढ़ियों के कई बुर्ज ढहाए। इस दौरान औरत की राजनीति में भूमिका के बारे में भी काफी बहसें हुईं। मुझे लगा था इस सबके साथ मैं व्यक्तिगत जीवन कैसे चलाऊँगी? मगर मुल्क के काम के साथ-साथ ही मुहब्बत और मातृत्व भी मुबारक हुए। जिन लोगों ने एक औरत के गद्दी सम्हालने का विरोध किया था, उन्हीं लोगों ने प्रेग्नेंट होने पर मेरी खिल्ली भी उड़ाई। मगर मैंने परवाह नहीं की। आखिर एक औरत को भी दोनों जीवन एक साथ जीने का हक है, किसी मर्द की तरह...'।

प्रस्तुत है बेनजीर भुट्टो की आत्मकथा 'डॉटर ऑफ द ईस्ट' से कुछ अंश, जो बताते हैं एक धाकड़ राजनेता की जद्दोजहद, जो उन्होंने स्त्री होने के नाते की

मैंने यह जीवन नहीं चुना, इस जिंदगी ने मुझे चुना है। मेरी जिंदगी पाकिस्तान के उतार-चढ़ाव का आईना है। इस्लाम का नाम इस्तेमाल करने वाले दहशतगर्दों ने इसकी शांति को खतरे में डाला है। सैनिक तानाशाही ने धोखे का खतरनाक खेल खेला है। सत्ता खोने के डर से इसनेतरक्की पसंद ताकतों को दूर रखा है, जबकि दहशतगर्दी को भड़काया है। पाकिस्तान कोई सामान्य देश नहीं है और मेरी जिंदगी भी कोई सामान्य जिंदगी नहीं रही है। मेरे पिता और मेरे दोनों भाई मार डाले गए। मेरे पति, मेरी माँ और मुझे जेल हुई।
  'मैंने पहली इस्लामी महिला प्रधानमंत्री चुने जाकर रूढ़ियों के कई बुर्ज ढहाए। इस दौरान औरत की राजनीति में भूमिका के बारे में भी काफी बहसें हुईं। मुझे लगा था इस सबके साथ मैं व्यक्तिगत जीवन कैसे चलाऊँगी? इस काम के साथ-साथ मुहब्बत और मातृत्व भी मुबारक हुए।      


मुझे लंबे समयतक निर्वासन में रहना पड़ा। बावजूद इसके मैं खुद को खुशकिस्मत समझती हूँ, क्योंकि मैंने पहली इस्लामी महिला प्रधानमंत्री चुने जाकर रूढ़ियों के कई बुर्ज ढहाए। इस दौरान एक औरत की भूमिका के बारे में कई बहसें हुईं। मगर अंततः यह साबित हुआ कि एक मुस्लिम औरत अच्छे से मुल्क चला सकती है, आदमियों और औरतों दोनों के द्वारा अपनी नेता के रूप में स्वीकार की जा सकती है।

मुझे लगा था कि इस सबके साथ मैं व्यक्तिगत जीवन कैसे चलाऊँगी। मेरी खुशियाँ, मुहब्बत, शादी, बच्चे यह सब कैसे मुमकिन होगा? इंग्लैंड की रानी एलिजाबेथ प्रथम की तरह शायद मुझे भी कुँवारा रहना पड़े? मगर मेरी जिंदगी ने अपेक्षा की इन संकीर्णताओं को भी ठुकरा दिया। राजनीतिक जीवन के बावजूद मेरी शादी मुबारक हुई। मुझे अपने शौहर पर नाज है जो हर ऊँच-नीच में मेरे साथ खड़े रहे।

मैं इतिहास की किसी भी औरत के साथ अपनी जिंदगी बदलना नहीं चाहूँगी। बल्कि यूँ कहा जाए कि औरत होना ज्यादा चुनौतीपूर्ण था तो बेहतर होगा। हाँ, यह सच है कि आज भी औरतों के सामने मुश्किलें ज्यादा हैं, चाहे वे किसी भी जगह की हों। हमें अपने आपको साबित करने के लिए मर्दों से ज्यादा जोर लगाना पड़ता है, क्योंकि दुनिया यूँ ही नहीं मानती। हमें औरत होने की वजह से हो रहे पक्षपातपूर्ण रवैए से और हमलों से भी अपने आपको बचाना होता है। मगर दुनिया के दोगले व्यवहार की शिकायत करते बैठे रहने के बजाए उससे पार पाना पड़ता है।

ND|
मैं अपनी माँ की शुक्रगुजार हूँ, जिन्होंने मुझे समझाया कि प्रेग्नेंसी जीवनचर्या की एक सहज जैविक अवस्था है, यह कोई सीमा या बंधन नहीं है। अतः अपने आपको सिर्फ इसलिए सीमित करने की जरूरत नहीं कि एक औरत गर्भवती होती है! हालाँकि मेरे गर्भवती होने को मिलेट्री हेडक्वार्टर्स और राजनीतिक हलकों से लेकर अखबारों ने जबरन ही बहस का विषय बनाया। जबकि इससे मेरे कामकाज और भावनात्मकता पर कोई असर नहीं पड़ा था। मैंने गर्भावस्था संबंधी छोटे-मोटे ब्योरों को गुप्त ही रखा था, राजकाज के आड़े आने भी नहीं दिया था।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए
मक्खन खाने के भी अपने ही कुछ फायदे हैं। अगर नहीं जानते, तो जरूर पढ़ि‍ए, और जानिए मक्खन से ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे लौटें...
प्रकृति ने हमारे शरीर का ढांचा इस प्रकार बनाया है कि वह हमेशा आगे बढ़ने के लिए ही हमें ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी शादी की चिंता
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। ...

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना
बच्चे बहुत नाज़ुक मन के होते हैं, बिलकुल गीली मिट्टी जैसे। उन्हें आप जो सीखाना चाहते वे ...

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है
आत्महत्या। किसी के लिए हर मुश्किल से बचने का सबसे आसान रास्ता तो किसी के लिए मौत को चुनना ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध
सहजन... मुनगा और ड्रमस्टिक नाम से पहचाने जाने वाले पेड़ का एक अन्य इस्तेमाल वैज्ञानिकों ...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...
छुट्टियां होती है तो हमारा मन यात्रा को जाने के लिए लालायित हो जाता है। आदमी का मन लगातार ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में गिरफ्तार
वॉशिंगटन। भारतीय मूल के एक दंपति को अमेरिका में नामी-गिरामी लोगों के लिए कथित तौर पर देह ...