क्या आपके घर में भी नेगेटिव एनर्जी है? जानें 5 अचूक उपाय


बिना बात के घर में बेचैनी रहती है, घर में आते ही मूड खराब हो जाता है, घर की चीजें जल्दी-जल्दी खराब होती है। पूजा पाठ में मन नहीं लगता है। आपस में तनाव बना रहता है तो आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा है। इसे दूर करने के प्रस्तुत है।
1.

कलह का वातावरण
ऐसी स्थिति में आप रोजाना घर में गुग्गल, पीला सरसो और लोबान जलाएं और इसका धुंआ पुरे घर में दिखाएं, इससे बहुत लाभ होगा घर से कलह का वातावरण समाप्त होगा।

2. हमेशा भय का वातावरण
नकारात्मक ऊर्जा के कारण भय का वातावरण बना रहता है। ऐसी स्थिति में आप जल में लौंग और गुलाब की कुछ पत्तियां डाल कर आप अपने इष्टदेव का ध्यान कर पुरे घर में जल का छिड़काव करें इससे लाभ होगा।
3. जब वास्तु दोष हो मकान में
मुख्या द्वार पर हल्दी और सिंदूर और गाय के घी में मिला कर पांच बार तिलक करें और प्रातः काल
सबसे पहले गेट खोलते ही तांबे के पात्र से जल छिड़काव करें, घर में कभी नकारात्मक शक्तियों का वास नहीं रहेगा।

4 . आर्थिक अभाव में बिगड़ा घर का माहौल
आर्थिक अभाव की वजह से घर में तनाव का माहौल बन जाता है। सबका मन दुखी रहने लगता है। घर में नकारात्मकता फैल जाती है, ऐसी स्थित में घर का बड़ा आदमी चाहे पुरुष हो या स्त्री पीले वस्त्र पहन कर प्रातः घर के सभी सदस्यों से चावल लेकर उसके साथ घी लेकर किसी भी धार्मिक स्थान पर दें। यह उपाए आप बृहस्पति वार के दिन करें, धीरे-धीरे आर्थिक स्थिति में सुधार होना शुरू हो जाएगा।

5 . सब कुछ होते हुए भी घर में शांति नहीं है
अगर किसी से आप वादा करते हैं लेकिन उसे पूरा नहीं करते हैं तो घर में नकारात्मकता आती है। किसी से कर्ज लिया है लेकिन कर्ज लौटा नहीं पाए तब भी घर में कभी खुशनुमा माहौल नहीं रह सकता। संतान हमेशा प्रताडित करती है। ऐसे में आप उस व्यक्ति से माफ़ी मांगें जिसको किसी भी बात का आश्वासन दिया था और कर्ज थोड़ा-थोड़ा जरूर लौटाएं। शनिवार के दिन हमेशा विकलांग या असहाय लोगों में वस्त्र और भोजन बांटें।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... (जानें 12 राशियां)
15 मई को सूर्यदेव अपनी राशि परिवर्तन कर वृषभ में विराजे हैं। अब आने वाले 1 माह यानी 15 ...

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर
27 मई से बुध वृषभ राशि, भरणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा, जिसके परिणाम स्वरूप आपकी राशि पर ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को शुभाशुभ फल
27 मई को बुध अपनी राशि परिवर्तन कर वृष राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं कि किन-किन ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष बातें...
ज्योतिष गणित में सूक्ष्म विवेचन के बाद अब स्वीकारा जा चुका है कि- जिस चंद्रमास में सूर्य ...

चल रहा है नौतपा, जानिए कौन सा दिन कैसा होगा, विशेष जानकारी

चल रहा है नौतपा, जानिए कौन सा दिन कैसा होगा, विशेष जानकारी
रोहिणी नक्षत्र में सूर्य के प्रवेश करते ही धरती और सूर्य के बीच की दूरी काफी कम हो जाती ...

सिर्फ करोड़पति ही नहीं अरबपति भी बनाते हैं ज्योतिष के यह

सिर्फ करोड़पति ही नहीं अरबपति भी बनाते हैं ज्योतिष के यह योग
अपनी जन्मकुंडली में धनवान होने के योग स्वयं देख सकते हैं। जानिए कुछ प्रमुख चमत्कारी धनवान ...

11 सोमवार, 11 शिव नाम और 11 अक्षत का करिश्मा...

11 सोमवार, 11 शिव नाम और 11 अक्षत का करिश्मा...
लगातार 11 सोमवार ऐसा करने से अवश्य ही कार्य आश्चर्यजनक रूप से संपन्न होगा।

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, ...

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, शिव ने रखा शीश पर
चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 नक्षत्र कन्याओं के साथ संपन्न हुआ। चंद्र का रोहिणी पर ...

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा
चंद्रमा के जन्म की कहानी पुराणों में अलग-अलग मिलती है। मत्स्य एवम अग्नि पुराण के अनुसार ...