लफ़्ज़ों की रूह में उतर जाते थे जगजीत

- दिनेश 'दर्द' की पुण्यतिथि पर बाँसुरी वादक रोनू मजूमदार और भजन व ग़ज़ल गायक अनूप जलोटा से हुई बातचीत पर आधारित-
 
यूँ तो मौत के पास हर शख़्स का नाम-पता है। तय वक़्त और तारीख़ पर वो बिना दस्तक, अपनी डायरी में दर्ज नाम तक पहुँच भी जाती है। कहीं-कहीं तो हालाँकि हर मौत, तमाम ज़िंदा लोगों का भी बहुत कुछ तहस-नहस कर देती है। और कहीं किसी के मर जाने से किसी को कोई फ़र्क़ तक नहीं पड़ता। मगर आज हम यहाँ उस शख़्स का ज़िक्र कर रहे हैं, जिसकी मौत के साथ, उसके चाहने वालों का भी बहुत कुछ ख़त्म हो गया। कहने को बेशक ये बात कही जा सकती है कि रफ़्ता-रफ़्ता वक़्त हर ज़ख़्म को भर देता है। मगर कभी-कभी किसी के बग़ैर जीने का तज्रुबा, वक़्त की इस मिसाल पर सियाही उंडेल देता है। और ऐसे मोजिज़े (चमत्कार) बहुत कम ही होते हैं। इन्हीं चुनिंदा मोजिज़ों में से बात हो रही है उस मोजिज़े की, जो लफ़्ज़ों की रूह तक उतर कर दीगर शायरों की ग़ज़लों को अपनी आवाज़ दिया करता था। इतना ही नहीं, वो अपने सुनने वालों को अपनी आवाज़ की उन गहराइयों में ले जाता था, जहाँ फ़ज़ा के साथ-साथ आँखें भी नम हो जाया करती थीं। और इस मोजिज़े का नाम था जगजीत सिंह।
 
नहीं हुई चित्रा जी से बात करने की हिम्मत : जगजीत साहब के बारे में इतना कुछ लिखा-पढ़ा जा चुका है कि कुछ भी लिखता, तो शायद वो दोहराया हुआ-सा ही लगता। उनके बारे में कुछ नया लिख सकूँ, इसी ग़रज़ से मैंने उनके क़रीबियों के नंबर डायल किए। सबसे पहला फोन लगाया उनकी पत्नी चित्रा जी को। अभी घंटी जा ही रही थी कि ज़ेहन में सैकड़ों सवाल चीख पड़े। मसलन, उनसे जगजीत जी के बारे में कुछ भी पूछने की हिम्मत कैसे जुटा पाऊँगा। क्या पूछूँगा। वो फोन रिसीव करेंगी, तो बात कैसे शुरू कर सकूँगा। अगर बात करते-करते वो रो पड़ीं, तो मैं उनको और ख़ुद को कैसे सम्हालूँगा। इसी तरह के तमाम सवाल-संशय परेशान किए हुए थे कि मैंने फोन काट दिया। और फिर हिम्मत नहीं जुटा सका।
 
बाँध से छूटे पानी की तरह बह निकले : मेरी फेहरिस्त में ख्यात भजन और ग़ज़ल गायक अनूप जलोटा और मैहर घराने के प्रसिद्ध बाँसुरीवादक पं.रोनू मजूमदार के नाम भी थे। रोनू जी से गाहेबगाहे बात होती ही रहती है। लिहाज़ा, बातचीत को लेकर मैं उनके साथ सहज हूँ इसलिए पहले रोनू जी को ही फोन लगाया। मेरे फोन लगाने की वजह मालूम पड़ते ही उन्होंने जगजीत जी के बारे में तमाम बातें ऐसे साझा कीं, जैसे एक मुद्दत से किसी से 'भार्इसाब' (रोनू जी, जगजीत सिंह को भाईसाब ही कहा करते थे) के बारे में बातें करने को तरस रहे हों। बाँध से छूटे पानी की तरह बह निकले। 
 
गुरुजी के कहने पर लाइव कंसर्ट बंद किए : उन्होंने बताया कि भाईसाब मुझ पर छोटे भाई की तरह स्नेह रखते थे। 1983 से 1990 तक मैंने उनके साथ ख़ूब काम किया। हालाँकि 1990 के बाद भी मैंने उनके साथ काम करना पूरी तरह नहीं छोड़ा। केवल मेरे गुरुजी की आज्ञा थी कि मैं संगीत के शास्त्रीय पक्ष पर अधिक ध्यान दूँ, इसलिए भाईसाब के साथ लाइव कंसर्ट बंद कर दिए। मगर एल्बम पर काम करता रहा। उनका एल्बम 'सज्दा', जिसमें भाईसाब के साथ लता मंगेशकर जी ने भी अपनी आवाज़ दी थी और 'फेस टू फेस' आदि मैंने क्रमश: 1991 और 1994 में किए।
 
मेरी शादी में ख़ूब भाँगड़ा किया था उन्होंने : पहली बार विदेश यात्रा मैंने उन्हीं के साथ की थी। एक लाइव कंसर्ट के लिए वो मुझे अपने साथ यूएसए ले गए थे। मैंने अपनी शादी के बारे में बताया, तो कहने लगे, 'मेरा भाँगड़ा भी रखना यार।' और फिर मेरे पिताजी डॉ. भानू मजूमदार के साथ उन्होंने ख़ूब भाँगड़ा किया। आज भी जब शादी की वीडियो रिकॉर्डिंग में उन्हें नाचते हुए देखते हैं, तो आँखें भर आती हैं। शादी के मंडप में उन्होंने जो भाँगड़ा किया, वो आज तक सबको याद है। बड़ा प्यारा और अपनेपन से भरा हुआ साथ रहा उनका। एक बात और, वो ये कि मुझसे पंजाबी में ही बात किया करते थे भाईसाब। चूँकि मैं 9 भाषाएँ बोल लेता हूँ। हिन्दी तो मेरी मातृभाषा है, वो तो मैं बोलूँगा ही और फिर मैं बनारस का हूँ। इसके अलावा जो भाषा मैं बहुत अच्छे से बोल लेता हूँ, वो है पंजाबी।
 
आँखें भर आईं और गाड़ी रोकना पड़ी : अभी परसों (07/10/2014) की ही बात है शायद, जब मैं गाड़ी चला रहा था। उस समय भाईसाब की ही याद में एक ग़ज़ल, 'कोई ये कैसे बताए के वो तन्हा क्यों है, वो जो अपना था, वही और किसी का क्यों है...', बज रही थी। ये ग़ज़ल सुनते ही मेरी आँखें भर आईं और आख़िर मुझे गाड़ी रोक देना पड़ा। ऐसा हो भी क्यूँ नहीं। आख़िर साज़ और आवाज़ का बिल्कुल वही रिश्ता है, जो पानी से नमी का होता है, जो हवाओं से ख़ुशबू का होता है। जिस तरह नमी से पानी को अलग किया जाना मुमकिन नहीं, उसी तरह ख़ुशबू को हवाओं से जुदा कर पाना भी नामुमकिन है। शायद इसीलिए उनकी आँखों में एकाएक नमी छा गई।
 
जगजीत के साथ दिलजीत भी थे वो : कहने लगे, जितने बड़े लेजेंड्री गायक थे। उनकी आवाज़ में दर्द का सैलाब भी वैसा ही था। रुला देते थे बस। गाने के अलावा उनकी एक ख़ास बात ये थी, कि वो एक मददगार इंसान थे। वो मदद करने के बाद कभी उसके बारे में बात नहीं करते थे। सचमुच एक दानी पुरुष थे वो। जितने भी लोगों की उन्होंने मदद की, उनमें से बहुत कम लोग हैं, जो सामने आकर इस बात को कहेंगे, मगर मैं कहूँगा कि मेरी भी मदद उन्होंने की थी। मैंने कहीं फेसबुक पर भी इस बात का ज़िक्र किया है कि मेरे बहुत कठिन समय में जगजीत भाई ने मेरी मदद की थी, लेकिन फिर कभी उसका ज़िक्र नहीं किया। इतना बड़ा दिल था उनका, वो दिलों को जीतने वाले थे। मैं कहूँगा कि जगजीत के साथ-साथ 'दिलजीत' भी थे वो। ऐसा व्यक्ति मेरे जीवन में फिर नहीं आया कभी।
 
किसी को तकलीफ़ में देख नहीं पाते थे : उनका मदद करने का आलम ये था कि तकलीफ़ में किसी को देख ही नहीं पाते थे वो। आप उनके साथी कलाकारों से पूछें, तो आपको मालूम पड़ जाएगा कि वो कितने बड़े राजा किस्म के आदमी थे। ऐसी तबीयत आपको किसी में देखने को नहीं मिलेगी। ऐसी बात नहीं है कि वो अब नहीं रहे, तो मैं बस कहने के लिए कह रहा हूँ। ये सत्य बात है, मेरे बहुत कठिन समय में मेरे बहुत काम आए बहुत।
 
सो नहीं सका था उस रात : मैं बाल मुरलीकृष्ण जी के साथ जुगलबंदी के टूर पर अमेरिका जा रहा था, तब जाते समय रास्ते में ही उनके कोमा में जाने की ख़बर आ गई थी। मैंने उसी समय उनके कोमा से लौट आने की प्रार्थना की। मगर ईश्वर ने मेरी प्रार्थना स्वीकार नहीं की। डॉक्टरों ने भी जवाब दे दिया था। प्रोग्राम देते वक़्त मुझे उनके न रहने की ख़बर मिली। फिर उस रात सो नहीं सका था मैं। उनके साथ किए काम की सारी यादें एकसाथ घूम गईं। 'झुकी-झुकी सी नज़र...', 'सच्ची बात कही थी मैंने, लोगों ने सूली पे चढ़ाया...', 'बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी...' सहित कई ग़ज़लें आज भी दिलो-दिमाग़ में गूँजने के साथ-साथ रगों में बहती रहती हैं।
 
रोनू, तू मेरा दर्द समझता है : मुझसे हरदम कहते थे, 'रोनू ! तेरी बाँसुरी का मैं दीवाना हूँ, मेरे दर्द को बस तू ही समझता है।' सारी इंडस्ट्री जानती है, कि हम एक-दूसरे के कितना क़रीब थे। मैंने जब उन्हें छोड़ा, तो वो दु:खी हो गए। आज भी लोग उनके गायन के साथ मुझे बाँसुरी बजाते हुए पुराने वीडियो देखते हैं, तो कहते हैं कि रोनू मजूमदार उनके दर्द को समझते थे। उनके साथ किए काम की याद कभी हल्की पड़ती ही नहीं। वो यूँ ही उम्रभर मेरे साथ रहेगी। उनके जैसा फ़नकार, ऐसा बड़ा भाई और ऐसा व्यक्ति नसीब से ही मिलता है।
 
अनूप जलोटा ने जगजीत सिंह को कुछ यूँ किया याद-

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :