महाकाल मंदिर में वैवाहिक परंपराएं आरंभ, शिवजी बने दूल्हा


दिव्य ज्योतिर्लिंग में 9 फरवरी से आरंभ हो गया है। पुजारी हल्दी-चंदन का उबटन लगाकर भगवान को वैवाहिक रस्मों से दूल्हा बनाएंगे। 9 दिन तक संध्या आरती के समय श्री महाकालेश्वर का नित नया श्रृंगार होगा। भगवान महाकाल के दिव्य रूप के दर्शन के लिए देश-विदेश से श्रद्धालु उमड़ना आरंभ हो गए हैं। देश-दुनिया के भक्त घर बैठे भी कर सकते हैं।  
 
शिव नवरात्रि उत्सव सिर्फ महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में मनाने की परंपरा है। 9 फरवरी को पहले दिन भगवान को हल्दी, चंदन तथा केसर के उबटन से स्नान करवा कर दूल्हा बनाया जाएगा। पश्चात चंदन का शृंगार कर नवीन वस्त्र सोला, दुपट्टा तथा जलाधारी में मेखला धारण करवाई जाएगी।
 
दूसरे दिन परंपरागत पूजन के बाद भगवान का शेषनाग श्रृंगार होगा। नवरात्रि के 9 दिनों में भगवान छबीना, घटाटोप, उमा-महेश, मनमहेश, चंद्रमौलेश्वर, शिवतांडव रूप में भक्तों को दर्शन देंगे। शिवरात्रि को महानिशाकाल में महाकाल का विशेष पूजन होगा। इसके बाद भगवान का सप्तधान स्वरूप में श्रृंगार कर सिर पर फूलों का सेहरा तथा फलों का मुकुट सजाया जाएगा।
 
सोमवार से बदली महाकाल की दिनचर्या
 
शिव नवरात्रि के समय राजाधिराज की दिनचर्या में बदलाव होगा। प्रतिदिन शाम 5 बजे होने वाला संध्या पूजन दोपहर 3 बजे होगा। इसके बाद पूजन-अभिषेक तथा विशेष श्रृंगार किया जाएगा। इससे पूर्व प्रतिदिन सुबह पुजारी नैवेध कक्ष में भगवान चंद्रमौलेश्वर का पूजन करेंगे। पश्चात कोटितीर्थ कुंड के समीप स्थित भगवान श्री कोटेश्वर का पूजन-अभिषेक होगा। पुजारी गर्भगृह में रूद्रपाठ करेंगे।
 
पंचमुखारविंद दर्शन
 
शिवरात्रि के बाद दूज पर भगवान का पंचमुखारविंद श्रृंगार होगा। यह श्रृंगार वर्ष में सिर्फ एक बार होता है। शिव नवरात्रि में जो भक्त राजाधिराज के दर्शन नहीं कर पाए, वे दूज पर एक साथ विभिन्न रूपों के दर्शन कर धर्मलाभ ले सकते हैं।
 
शिव महिमा का गान
 
शिव नवरात्रि में पं.रमेश कानिटकर 107 साल पुरानी परंपरा का निर्वहन करते हुए शिव महिमा का पाठ करेंगे। 
>
ऐसी और खबरें तुरंत पाने के लिए वेबदुनिया को फेसबुक https://www.facebook.com/webduniahindi पर लाइक और 
ट्विटर https://twitter.com/WebduniaHindi पर फॉलो करें।  
>

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें ...

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें पूजन
श्री घंटाकर्ण यंत्र अति विशिष्ट एवं प्रभावशाली है, जो वर्तमान में अन्य किसी पुस्तक में ...

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?
हिन्दू धर्म में व्यक्ति को समाधी देने या दाह संस्कार दोनों की ही परंपरा है, जो कि शास्त्र ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है गुनाहगार...
गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है और इसका धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। कहते है कि ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

26 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...

26 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...
रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी आनंदोत्सव का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। शारीरिक ...

26 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन

26 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 26 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। ...

26 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

26 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा
हिरण्यकशिपु का शासन बहुत कठोर था। देव-दानव सभी उसके चरणों की वंदना में रत रहते थे। भगवान ...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी के व्रत-उपवास का बहुत महत्व है।जिन लोगों की शादी नहीं ...

राशिफल