ओडिशा बाढ़ : वायुसेना से 4 हेलीकॉप्टरों की मांग

पुनः संशोधित सोमवार, 17 जुलाई 2017 (10:38 IST)
भुवनेश्वर। ओडिशा में कम दबाव का क्षेत्र बनने से लगातार भारी बारिश के कारण नागाबालि और कल्याणी नदी उफान पर हैं और रायगड़ा जिले में कल्याणसिंहपुर मंडल के 12 गांवों को बाढ़ ने अपने चपेट में ले लिया है तथा बचाव अभियान के लिए वायुसेना से 4 मांगे गए हैं।

राहत एवं बचाव अभियान में सेना के साथ ओडिशा रैपिड एक्शन फोर्स, दमकल विभाग और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों को लगाया गया है। लोगों को बाढ़ग्रस्त इलाकों से बाहर निकालने के लिए वायुसेना से 4 हेलीकॉप्टर मंगाए गए हैं।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि क्षेत्र में 3 पुलों के बह जाने के कारण सड़क संपर्क बाधित होने के साथ-साथ तिरुबेली और सिंगापुर रोड स्टेशन के बीच रेलवे पुल के क्षतिग्रस्त होने से रेल सेवाओं पर बुरा असर पड़ा है।

मुख्यमंत्री ने यहां एक उच्चस्तरीय बैठक में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की और प्रशासनिक अधिकारियों को युद्धस्तर पर राहत एवं बचाव अभियान शुरू किए जाने के निर्देश दिए।

पटनायक ने बताया कि विशेष राहत आयोग कार्यालय में स्थापित प्रदेश नियंत्रण कक्ष बाढ़ की स्थिति पर नजर रखे हुए हैं तथा रायगड़ा जिला कलेक्टर को इसका प्रभार देने के साथ ही राहत एवं बचाव सहित अन्य एहतियाती कदम उठाने के निर्देश भी दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री ने विकास आयुक्त को सभी विभागों के साथ समन्वय बनाए रखने तथा दक्षिणी संभाग के क्षेत्रीय उपायुक्त एवं पुलिस उपमहानिरीक्षक को स्थिति की निगरानी करने के निर्देश दिए हैं। राज्य परिवहन निगम के सूत्रों ने बताया कि प्रमुख सड़कों पर बाढ़ का पानी जमा हो जाने के कारण रायगड़ा और भवानीपटना के बीच सड़क संपर्क टूट गया है।

पूर्व तटीय रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक संबलपुर रेल मंडल के तिरुबेली और सिंगापुर रोड के बीच रेल पटरी का एक हिस्सा बाढ़ के पानी में बह जाने के कारण टिटलागढ़ और रायगड़ा खंड पर ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुई हैं। कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है, वहीं कुछ ट्रेनों को बीच के स्टेशनों पर ही समाप्त कर दिया गया।
मौसम विभाग के मुताबिक अगले 2 दिनों तक दक्षिणी ओडिशा में भारी बारिश होने का अनुमान है तथा इस कारण बाढ़ की स्थिति बनी रहेगी। राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में पदस्थ अधिकारियों का अवकाश रद्द कर दिया है तथा उन्हें अपना मुख्यालय न छोड़ने के लिए कहा गया है। मौसम विभाग की चेतावनी को ध्यान में रखते हुए मछुआरों को समुद्र में मछली नहीं पकड़ने जाने के निर्देश दिए गए हैं।

बाढ़ के कारण कल्याणसिंहपुर ब्लॉक के सभी स्कूल बंद रहेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बुडुगुदा आश्रम विद्यालय में सभी छात्र सुरक्षित है और अब जलस्तर घट रहा है। कोरापुट से एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 3 दिनों से लगातार बारिश ने कोरापुट जिले के कई मैदानी इलाकों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई। प्रारंभिक रिपोर्टों के मुताबिक जेयपोरे और कोरपुत उप डिवीजनों में 600 से ज्यादा घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :