ऐसा रोज होता है महिलाओं के साथ


बात किसी बाबा-जोगी, गुरु, संबंधी, सहकर्मी या अन्य व्यक्ति द्वारा किए गए शोषण की ही नहीं, बल्कि बात है महिलाओं या युवतियों के प्रति उस सोच, विचार, नजरिये और भावों की, जो बार उन्हें पीड़िता की श्रेणी में खड़ा करते हैं। कभी खूबसूरती, कभी सिर्फ रंग रूप, शारीरिक सौष्ठव जिसे तथाकथित "हॉट" शब्द से नवाजा जाता है, कभी अहम या स्वाभिमानी स्वभाव के कारण, तो कभी अपने कपड़ों के कारण उसके प्रति आपका नजरिया और भाव बदल जाते हैं। लेकिन तब का क्या, जब उनके पास न रंग-रूप होता है, न शारीरिक सौष्ठव और ना ही भद्दे कपड़े...। मेरा मतलब यहां नवजात से लेकर कम उम्र की मासूम बच्चियों और उम्रदराज महिलाओं से है जो किसी भी तरह से यौन भावनाओं को पैदा करने में कोई किरदार नहीं निभाती... तब.... तब कहां से आती है उनके प्रति घृणित सोच... यह महिलाओं से ज्यादा पुरुषों के लिए सोचने का विषय है... क्योंकि इन परिस्थियों में बदलाव के लिए उन्हें ही इस सोच की जिम्मेदारी लेनी होगी।
हर दिन कहीं न कहीं कोई महिला, युवती, मासूम और यहां तक कि उम्रदराज महिलाएं शोषण का शिकार होती हैं। कभी बस की भीड़ के बीच उन्हें आगे-पीछे, दाएं या बाएं से उन्हें छूने की कोशिश की जाती है, तो कभी देखने वाले की सिर्फ नजरें ही आत्मा को भेद कर रख देती हैं और इसके लिए शर्मसार भी उसे ही होना पड़ता है सिर झुकाकर या आंखें फेरकर। कभी आते-जाते रास्ते चलते हुए उसके अंगों को छूने का क्षणिक प्रयास उसे शर्मसार कर जाता है, तो कभी हर दिन बस स्टॉप से लेकर घर तक उसका पीछा करती नजरें उसे भय से भर देती हैं।
स्कूल में बढ़ने वाली बच्चियां न जाने कितनी बार शिक्षक द्वारा पीठ पर हाथ फेरने को अपनी शाबासी समझ गौरवान्वित होती हैं, तो कभी असहज। कभी घर पर आया कोई रिश्तेदार का गोद में बैठाकर दुलार करना उसे अच्छा लगने के बजाए दूर रहने पर मजबूर करता है, तो कभी घर में ही पिता, भाई या चाचा या नौकर से वह असहज महसूस करती है क्योंकि रात को सोते वक्त उसने इन रिश्तों को अपने आसपास अलग तरह से प्यार करते पाया, और मां को न बताने की चेतावनी देते भी।

कभी-कभी तो उसके चेहरे पर सिर्फ इसलिए तेजाब डाल दिया जाता है कि उसने प्रेम प्रस्ताव स्वीकार न कर, जीवन में अपना लक्ष्य प्राप्त करने का हवाला दिया होता है, जो कथित प्रेमी को नागवार गुजरता है, या फिर वह नहीं चाहता कि उसके सिवा दुनिया में कोई और उसकी पसंद की लड़की को देख सके।

एक वक्त इन खबरों को पढ़ना सुनना अचंभित, चिंतित और या शर्मसार करता था लेकिन हर दिन घटती इस तरह की घटनाएं आम हैं और चिंता की सीमा को पार कर चुकी हैं। अब सच को बनकाब करती ये खबरें शर्म से ज्यादा क्रोध या फिर रोमांच को जन्म देती हैं, इसमें कोई शक नहीं।

हालांकि ऐसा नहीं है कि हर बार वह चुप रहती है। अब वह भी आवाज उठाना जानती है, प्रेम और में अंतर करना समझती है और न्याय की लड़ाई लड़ना भी। लेकिन उससे भी पहले उसे एक लड़ाई खुद से लड़नी होती है, फिर अपनों से और फिर सबसे बड़ी लड़ाई दुनिया से। अंत में अगर वह खुद में बाकी बच जाए तो न्याय की लड़ाई भी लड़ लेती है... लेकिन सवाल यहां न्याय के साथ-साथ उसके प्रति उपजती घृणित, अपमानित करती भावनाओं का है। क्या इनसे आजादी संभव है?

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए
मक्खन खाने के भी अपने ही कुछ फायदे हैं। अगर नहीं जानते, तो जरूर पढ़ि‍ए, और जानिए मक्खन से ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे लौटें...
प्रकृति ने हमारे शरीर का ढांचा इस प्रकार बनाया है कि वह हमेशा आगे बढ़ने के लिए ही हमें ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी शादी की चिंता
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। ...

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना
बच्चे बहुत नाज़ुक मन के होते हैं, बिलकुल गीली मिट्टी जैसे। उन्हें आप जो सीखाना चाहते वे ...

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है
आत्महत्या। किसी के लिए हर मुश्किल से बचने का सबसे आसान रास्ता तो किसी के लिए मौत को चुनना ...

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज
बीते सप्ताह सोशल मीडिया पर दो महाराज छाये रहे। इन्दौर में रहने वाले भय्यू महाराज ने गत ...

बारिश के मौसम में बचें कान के इन्फेक्शन से, पढ़ें जरूरी ...

बारिश के मौसम में बचें कान के इन्फेक्शन से, पढ़ें जरूरी सलाह (वीडियो)
संक्रमण के कारण ही बारिश में कान के रोग भी पनपते हैं, जो फैलने पर आपके लिए परेशानी खड़ी ...

धन का संकट दूर करना है तो आजमाएं अनमोल एवं कारगर उपाय ...

धन का संकट दूर करना है तो आजमाएं अनमोल एवं कारगर उपाय (पढ़ें अपनी राशिनुसार)
अगर आप अपने ईष्ट का स्मरण कर भक्ति भाव से पूजन और नियमितता से नीचे दिए गए उपाय आजमाते हैं ...

ईयर फोन बन रहा है मौत का कारण, पढ़ें 10 जरूरी बातें

ईयर फोन बन रहा है मौत का कारण, पढ़ें 10 जरूरी बातें
आए दिन रास्ते में आपको कान में ईयरफोन लगाए लोग मिल जाएंगे जिनकी वजह से प्रतिदिन हादसे हो ...

ज्योतिष के अनुसार चंद्र की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार चंद्र की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
भारतीय ज्योतिष में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु ...