प्रजातंत्र के अंदर-बाहर का फर्क

चुनावी वक्त में कौन जीतेगा, इस बात से ज्यादा जोर आजकल इस बात पर होने लगा है कि कौन हारेगा। यह भाव दर्शाता है कि प्रजातंत्र राह भटकने लगा है। उसके अलावा चुनाव पूर्व-पश्चात के गठबंधनों पर भी पक्ष-विपक्ष में बहुत नूराकुश्ती मचती है।
दूसरी ओर इन सब बातों से उतपन्न माहौल में सोशल नेटवर्क चिंगारी की तरह प्रयोग किया जाने लगा है। इधर विचार-की गोलबंदी में दिन-रात फिक्रमंद सोशल नेटवर्क के वीर हरहाल में अपनी बात थोपने की होड़ में बेतहाशा बेचैन होकर भाषा का संयम भी खो-देते हैं और फिर इस चक्रव्यूह में उलझते उन्हें खुद भान नहीं रहता कि वे जिन दोहरे मापदण्डों के विरोधी थे उन दोहरे मापदण्डों के पक्ष में ही तर्क देने लगते हैं। और बस यहीं आकर धूर्त-चालाक लोग उन्हें सही राह दिखाने की जगह प्रोत्साहन देने लगते हैं ताकि उनकी कुटिलता-धूर्तता अबाधित चलती रहे।
 
 इस द्वंद्व में अब सोशल मीडिया सहभागी बना हुआ है। सोशल मीडिया की सहभागिता से तापमान गर्म बना रहता है। कभी-कभी यह लड़ाई आभासी संसार से बाहर निकलकर वास्तविक रूप भी ले-लेती है। कहीं तो इस विरोध-पक्ष के चक्कर में आपसी दीवारें खड़ी हो गई हैं। फि‍क्र की बात यह है की यह कटुता, वैमनस्यता महज शाब्दिक न होकर समाज-देश को प्रभावित कर रही है। और इससे बढ़कर बात यह है कि यह सबकुछ उनके लिए किया जाता है जो उन्हें जानते भी नहीं । काल्पनिक लाभ या किसी की निगाहों में हीरो बनने की चाह में भी आरोप-प्रत्यारोप या ट्रोल किए जाते हैं। इसमें आमजन चाहे आपस में भिड़े रहते हैं पर राजनैतिक दलों पर इसका कोई खास असर नहीं दिखता। इसलिए इस पर बहुत ज्यादा चिंतित होने की जगह यह विचारिए की राजनितिक दलों के शीर्ष नेतृत्व आपस में इतनी कटुता नहीं रखते जितनी की हम समझ लेते हैं। इस बात के कई उदाहरण मिल जाएंग, फिलहाल एक बानगी देखिए - 
 
2009 में फि‍रोजाबाद की सीट पर हुए में डिंपल यादव जी पराजित हो गई। उनकी पराजय से उनके परिवार और समर्थक मायूस हुए पर अन्य सभी दल इतने ज्यादा व्यथित हुए की अगले उपचुनाव में उन्हें निर्विरोध संसद पंहुचा दिया, वह भी इस इतिहास के साथ कि यूपी के अबतक कुल 4 निर्विरोध सांसद में प्रथम निर्विरोध विजित महिला सांसद बनाकर! ध्यान रहे पुरे देश में आजतक कुल 44 सांसद ही निर्विरोध जीते हैं। 
 
इसलिए जरूरत है कि हम जागे और सही-गलत का फैसला करने के पश्चात ही विरोध-पक्ष में आवाज उठाएं। आवाज उठाना हक है पर ध्यान रहे कि मूर्खता में न फंसे न ही उल्लू बनें, बल्कि जो उल्लू बनाना चाहते हैं उन्हें समय-समय पर आइना दिखाते रहें, वो भी बिना भेदभाव के। चाहे अपने हों या पराए पर उनकी नूराकुश्ती में नहीं फंसना, यह सीख अपना ली-जाए तो हमारा प्रजातंत्र मजबूत बना रहेगा और वे लोग जो इस प्रजातंत्र को खिलवाड़ की तरह प्रयोग करना चाहते हैं उनके मंसूबे मन में ही धरे रह जाएंगे। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए
मक्खन खाने के भी अपने ही कुछ फायदे हैं। अगर नहीं जानते, तो जरूर पढ़ि‍ए, और जानिए मक्खन से ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे लौटें...
प्रकृति ने हमारे शरीर का ढांचा इस प्रकार बनाया है कि वह हमेशा आगे बढ़ने के लिए ही हमें ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी शादी की चिंता
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। ...

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना
बच्चे बहुत नाज़ुक मन के होते हैं, बिलकुल गीली मिट्टी जैसे। उन्हें आप जो सीखाना चाहते वे ...

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है
आत्महत्या। किसी के लिए हर मुश्किल से बचने का सबसे आसान रास्ता तो किसी के लिए मौत को चुनना ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध
सहजन... मुनगा और ड्रमस्टिक नाम से पहचाने जाने वाले पेड़ का एक अन्य इस्तेमाल वैज्ञानिकों ...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...
छुट्टियां होती है तो हमारा मन यात्रा को जाने के लिए लालायित हो जाता है। आदमी का मन लगातार ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में गिरफ्तार
वॉशिंगटन। भारतीय मूल के एक दंपति को अमेरिका में नामी-गिरामी लोगों के लिए कथित तौर पर देह ...