'काला सोना' बदलेगा किस्मत!

Refinery
पिछले कई वर्षों से विवादों में रही राजस्थान रिफाइनरी का कार्य प्रारंभ की घोषणा से एक बार फिर पश्चिमी क्षेत्र सहित संपूर्ण राज्य में खुशी का माहौल है। सरकार की इस महत्वाकांक्षी परियोजना में 43,129 करोड़ रुपए का निवेश होगा जिससे प्रदेश को 34,000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय होने का अनुमान लगाया जा रहा हैं।
2017 तक पूरी होने वाले इस रिफाइनरी का कार्य अब 2022-23 तक पूरा होने की बात कही जा रही है। यह रिफाइनरी बाड़मेर की धरती में करीब 4 अरब बैरल तेल का खजाना है। इससे रोज 200 कुओं से करीब 1.75 लाख बैरल तेल उत्पादन किया जाएगा। इस रिफाइनरी की क्षमता सालाना 90 लाख टन रिफाइन करने की है जिसमें से 25 लाख टन कच्चा तेल बाड़मेर में और बाकी का 65 लाख टन कच्चा तेल गुजरात से आएगा।
पहले बाड़मेर का कच्चा तेल रिफाइन होने के लिए गुजरात जाता था। पचपदरा में पेट्रोकेमिकल हब बनने से तेल रिफाइन होकर 6 पेट्रोलियम उत्पादों में बदल जाएगा, जो बीएस-6 मानक के हिसाब से होगा। इस रिफाइनरी का निर्माण एचपीसीएल और राजस्थान सरकार करवा रही है।

यहां आपको बताते चलें कि ये प्रोजेक्ट कांग्रेस राज में शुरू हुआ था जिसे बाद में बीजेपी ने बदल दिया और नए सिरे से डील की गई। नई डील के मुताबिक 4 साल की देरी से प्रोजेक्ट की लागत 43 हजार 129 करोड़ पहुंच गई है, जो कांग्रेस सरकार के वक्त 37 हजार 229 करोड़ रुपए थी। वसुंधरा सरकार ने एचपीसीएल के साथ 15 साल तक 1,123 करोड़ रुपए सालाना बिना ब्याज के देने का करार किया है, जो कांग्रेस राज में 3,736 करोड़ रूप से सालाना 15 सालों तक दिया जाना था।
इस रिफाइनरी के सहारे भले ही अपनी पीठ थपथपा रही हो, लेकिन बाड़मेर के पचपदरा इलाके के वे लोग अब भी दुखी हैं जिन्होंने विकास के बड़े-बड़े सपने दिखाए जाने पर अपनी जमा-पूंजी यहां लगा रखी है। इसके अतिरिक्त राजस्थान रिफाइनरी को लेकर एक ओर राज्य सरकार थार से निकलने वाले काले सोने से हजारों लोगों की किस्मत बदलने की बात कह रही है और रिफाइनरी के निर्माण से प्लास्टिक, पेंट, फाइबर जैसे कई उद्योगों के विकास का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी ओर पचपदरा झील के प्रमुख नमक उत्पादन क्षेत्र के नष्ट होने के कारण नमक उत्पादनकर्ताओं के रोजगार पर संकट के बादल मंडराने लग गए है।
गौरतलब है कि पचपदरा व सॉल्ट क्षेत्र के लंबे विशाल भू-भाग में उस स्थान पर ही रिफाइनरी लगने जा रही है, जहां अभी वर्तमान में नमक उत्पादन हो रहा है और जो क्षेत्र नमक उत्पादन के लिए संरक्षित है। रिफाइनरी का निर्माण होने पर नमक की खानें बंद हो जाएंगी और अंग्रेजों की रानी विक्टोरिया की रसोई का स्वाद बढ़ाने वाले 'पचपदरा के नमक' उद्योग का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। विदित हो कि पचपदरा झील प्राचीन प्रमुख नमक उत्पादन क्षेत्र 3,234 वर्गमील में फैला है और सदियों से 'खारवाल' नामक जाति पचपदरा के लोगों द्वारा पीढ़ी-दर-पीढ़ी नमक उत्पादन किया जा रहा है।
इस 43,129 करोड़ रुपए की लागत वाली परियोजना के 4 साल में पूरा होने के बाद इससे प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष तौर पर 10,000 लोगों के रोजगार मिलने की बात सरकार कह रही है, पर नमक खानों के बंद होने से जो हजारों लोग बेरोजगार होंगे, उनके बारे में सरकार कुछ नहीं कर रही है।

कई वर्षों पूर्व माननीय ने एक समझौते में खारवाल समाज को नमक की खानों का मालिकाना हक दिया है, साथ ही माननीय सुप्रीम कोर्ट के समझौते के बिंदु क्रमांक 16 के तहत यह शर्त लगाई गई है कि सरकार जब भी विकास के लिए नमक उत्पादकों के खानों की भूमि ले तो उनके पुनर्वास की व्यवस्था की जिम्मेवारी सरकार की होगी। इसलिए सरकार को चाहिए कि वह पचपदरा नमक उत्पादन क्षेत्र में प्रस्तावित तेल रिफाइनरी में नमक उत्पादकों के हितों का भी ध्यान रखे। रिफाइनरी से सर्वश्रेष्ठ नमक उत्पादन उद्योग क्षेत्र नष्ट हो रहा है तो रिफाइनरी को अन्यत्र लगाने के बारे में सोचे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...
भारत जैसे देश में यदि लोग अपनी उम्र के औसतन चार साल और बढ़ाना चाहते हैं तो उसे विश्व ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए कैसा होगा आने वाला समय ?
जन्मपत्रिका के माध्यम से किसी भी जातक का अतीत, वर्तमान और भविष्य बताया जा सकता है, फिर ...

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य लाभ
पौराणिक लेख और कई अत्याधुनिक शोधों ने इस बात को प्रमाणित किया है कि सफेद मूसली एक ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष प्रार्थना और मंत्र...
नागपंचमी के दिन प्रात:काल स्नान करने के उपरान्त शुद्ध होकर यथाशक्ति (स्वर्ण, रजत, ताम्र) ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन राशि‍यों की बदलने वाली है किस्मत ...
सूर्यदेव नवग्रहों के राजा हैं। सिंह राशि के स्वामी हैं। अग्नितत्व प्रधान ग्रह हैं। कुंडली ...