आसिफा वापस नहीं लौटी...


मंजरी भूरी आंखों वाली, गोरी चिट्टी, चंचल और खूब बातूनी थी वो....बातों से तो दिल जीत ही लिया करती थी, जानवरों से उसका लगाव उसे चरवाही में निपुण बनाता था....अपने भाई से गोद लिया था उसकी मां और पिता ने उसे...मगर अचानक उस दिन जंगल से घोड़ों को लेने गई आसिफा वापस नहीं लौटी...खूब ढूंढा घर वालों ने भी पुलिस वालों ने भी....सिर्फ दो जगह को छोड़कर...जहां से उससे जुड़े सुराग मिल पाते....
मंदिर में ही तो रखा गया था उसे, जहां नशे की गोलियां खिलाई गई, मारा गया, मारने से पहले किया गया और फिर अपनी जांघों पर उसकी गर्दन रख कर गला दबा दिया गया....पर वो ज़िंदा थी...फिर उसकी पीठ पर पैर रखे गए और पुरज़ोर तरीके से गला दबाया गया....नन्ही सी जान कितना दम भरती.. वो भी नशे में.....मंजरी आंखें बंद कर दी गईं....शब्दों को मौन कर दिया गया और चंचलता हमेशा के लिए अब स्थिर हो गई.....मकसद सिर्फ इतना था,कि उनकी बिरादरी को अपनी जगह से दूर भेजना था...
जिस समाज में हम अभी जी रहे हैं, बच्चों से रेप या शोषण की घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण ज़रूर हैं लेकिन नई नही हैं...आए दिन इस तरह के मामले सुनने और देखने मे आते हैं जो बेहद निंदनीय है...

लेकिन 8 साल की आसिफा के साथ हुई रेप की ये घटना एक बार फिर झिंझोड़कर रख देती है और न केवल के सवाल उठाती है, बल्कि उस सभ्य समाज को कटघरे में खड़ा करती है जो अपने सुख, भोग, इच्छा और दंभ का शिकार किसी को भी बना लेने का दुस्साहस कर लेता है...

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

नागपंचमी की 2 रोचक और प्रचलित कथाएं

नागपंचमी की 2 रोचक और प्रचलित कथाएं
किसी राज्य में एक किसान परिवार रहता था। किसान के दो पुत्र व एक पुत्री थी। एक दिन हल जोतते ...

नागपंचमी पर पढ़ें पौराणिक और पवित्र कथा,जब सर्प ने भाई बन ...

नागपंचमी पर पढ़ें पौराणिक और पवित्र कथा,जब सर्प ने भाई बन कर की बहन की रक्षा
सर्प ने प्रकट होकर कहा- यदि मेरी धर्म बहन के आचरण पर संदेह प्रकट करेगा तो मैं उसे खा ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें पूजा का मुहूर्त और विधि
श्रावण मास की शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को पूरे उत्‍तर भारत में नागपंचमी का पर्व मनाया जाता ...

इस साल 26 अगस्त को राखी का त्योहार, जानिए पर्व मनाने की ...

इस साल 26 अगस्त को राखी का त्योहार, जानिए पर्व मनाने की विधि और पवित्र मंत्र
रक्षाबंधन का शुभ पर्व इस वर्ष 26 अगस्त को हैं। आइए जानें इसे मनाने की पौराणिक और सरल विधि ...

बढ़ती उम्र में मां बनने जा रही है तो हो जाएं सावधान, हो सकते ...

बढ़ती उम्र में मां बनने जा रही है तो हो जाएं सावधान, हो सकते है ये खतरे
यदि आप किन्ही कारणों से देरी से मां बनने का निर्णय ले रही है तो आपको इसके जोखिम और परिणाम ...