लज्जतदार राजगीरे की पकौड़ी

राजगीरे के आटे को एक बड़े बाउल में लेकर उसमें काली मिर्च, लाल मिर्च, जीरा, हरी मिर्च, नमक, धनिया मिला लें और पकौड़े का बेटर तैयार कर लें। अब इस तैयार बेटर में 2 चम्मच गरम तेल डालें और इसे काफी अच्छे से एक ही तरफ फेट लें। इससे पकौड़े अच्छे फूले हुए और क्रिस्पी बनेंगे।

घीया-गुड़ का शाही पौष्टिक हलवा

सबसे पहले लौकी को ‍छिलकर कद्दूकस कर लें। एक कड़ाही में घी गरम करके उसमें किसी हुई लौकी डालें और धीमी आंच पर अच्छी तरह सेंक लें। अब गैस की दूसरी ...

साबूदाने की खीर

खीर बनाने से आधे घंटे पूर्व साबूदाना धोकर, पानी निथारकर रख दें। अब एक गहरे तले वाले बर्तन में दूध गरम करें। 4-5 उबाल आने पर साबूदाना डाल दें। ...

केले की नमकीन चटपटी पूरी

सबसे पहले कच्चे केले को उबाल लें। ठंडे होने पर छिलके उतार कर हाथ से मैश कर लें। अब एक थाली में सिंघाड़ा अथवा राजगिरा आटा लेकर छान लें। उसमें ...

फ्रूट्‍स का फलाहारी मालपुआ

1 केला, 1 सेब, 1/2 कटोरी पपीते का गूदा (सब कद्दूकस करके मैश किए हुए), एक कटोरी सिंघाड़ा आटा, शक्कर 1 कटोरी, 1/2 कटोरी कटे मेवे, 1/2 चम्मच इलायची ...

आलू-साबूदाने की टिक्की

सबसे पहले भीगे हुए साबूदाने को मिक्सर में थोड़े-से पिस लें। अब आलू को छीलकर हाथ से मसल लें। तत्पश्चात उसमें पिसे हुए साबूदाने मिलाकर नमक, बारीक ...

खोया-पिस्ता का पेड़ा

सबसे पहले एक कड़ाही में खोया (मावा) और शक्कर को मिक्स करके कम आंच पर धीरे-धीरे चलाते रहें। इसे तब तक पकाएं, जब तक कि मिश्रण गाढ़ा नहीं हो जाता।

नारियल-खोया के लड्डू

नारियल को बधार कर पानी एवं नारियल को अलग कर लें। अब नारियल के अंदर का खोपरा निकाल कर उसके ऊपर की ब्राउन परत को हल्के हाथ से चाकू या किसनी की ...

आलू-केले की फलाहारी लजीज टिकिया

पहले कच्चे केले को उबालें, छीले और ठंडा होने के लिए रख दें। अब धनिया, हरी मिर्च व अदरक को बारीक काट लें। उबले केले और आलू का मिश्रण तैयार करके ...

कच्चे केले की मनभावन चिप्स

सबसे पहले कच्चे केले के छिलके उतार लीजिए। अब एक कड़ाही में घी अथवा तेल गरम रखें, तेल गरम होने के पश्चात किसनी के माध्यम से तेल में चिप्स घिसती ...

स्वादिष्ट फलाहारी साबूदाना की टिकिया

2 घंटों तक साबूदाने को धोकर भिगोएं। अब आलू को कद्दूकस कर लें। उसमें पिसे मूंगफली दाने, हरा धनिया, हरी मिर्च, नमक व सौंफ व जीरा मिलाएं। तत्पश्चात ...

पौष्टिक फलाहारी कुट्टू की खिचड़ी

सर्वप्रथम आलू छीलकर महीन काट लें। अब घी गर्म करके जीरा, अदरक और हरीमिर्च का छौंक देकर आलू और कुट्टू डालकर 5 मिनट भूनें। फिर (नारियल, हरा धनिया ...

मावा-मोरधन की पौष्टिक बर्फी

सबसे पहले मोरधन आटे को छानकर देशी घी में धीमी आंच पर भून लें। अब आटे को एक प्लेट में निकाल रख ले और मावे को चलनी से एक जैसा करके हल्का-सा भून ...

लजीज लौकी का हलवा

पहले घी डालकर कद्दूकस की हुई लौकी को हल्का-सा भून लें और अलग रख दें। अब कड़ाही में थोड़ा-सा पानी डालें, साथ में चीनी भी डालें और गर्म करने के लिए ...

फलाहारी कच्चे केले की पकौड़ी

सबसे पहले केले के दो टुकड़े करके छिलके सहित उबाल लीजिए। ध्यान रखें कि केले ज्यादा गलने न पाएं। ठंडे होने पर इनके छिलके उतार कर गोल-गोल टुकड़े काट ...

मेवा-पिंडखजूर के लजीज रोल

पिंडखजूर के बीज निकाल लें और उन्हें बारीक टुकड़ों में काट लें। मूंगफली दाने मिक्सी में दरदरे बारीक कर लें। अब एक थाली में आधा खोपरा बूरा लें।

मेवे-गुड के फलाहारी मीठे पैटिज

सामग्री : सफेद तिल 2 कप, खोया 1 कप, गुड़ 1 कप, इलायची पावडर 2 छोटे चम्मच, काजू, बादाम, पिस्ता, किशमिश व चिरौंजी आदि सूखे मेवे मनचाही मात्रा में। ...

तिल-खोया के सफेद लड्डू

सामग्री : धुले हुए तिल 200 ग्राम, खोया 250 ग्राम, मैदा 50 ग्राम, पिस्ता चूरा मनचाही मात्रा में, पिसी चीनी 200 ग्राम अथवा स्वादानुसार। विधि : तिल ...

आलू की लच्छा टोकरी

पहले आलू को छीलकर धो लें। फिर कद्दूकस करें। अब आलुओं के लच्छों को थोड़ी देर ठंडे पानी में डालें, ‍तत्पश्चात छलनी में डालें और हाथ स निचोड़ कर सारा ...

Widgets Magazine

सामयिक

प्रकाश हिन्दुस्तानी को राष्ट्रीय मीडिया अवॉर्ड

नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार प्रकाश हिन्दुस्तान को हाल ही में दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में ...

जान बचाने भागता ये 'मोबाइल गेटकीपर'

इंजन ड्राइवर के केबिन से लाल और हरा झंडा हाथों में लेकर कन्हैया लाल धीमी गति से चल रही ट्रेन से ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

प्रवासी कविता : कारगिल के शहीदों के नाम

लहू सनी यह बर्फ पिघलकर जब गंगा में मिल जाएगी भारत की धरती सीं‍चेगी और बालियां लहराएंगी ओणम-होली की ...

मिलियन डॉलर आर्म : सत्य घटना पर आधारित फिल्म

मुझे फिल्मों का कोई खास शौक नहीं है, पर मेरी पत्नी अक्सर मेरी रुचि व स्वभाव के अनुसार मुझे फिल्में ...

मेरे हिस्से आई अम्मा...

धूप हुई तो आंचल बनकर कोने-कोने छाई अम्मा, सारे घर का शोर-शराबा, सूनापन, तन्हाई अम्मा. उसने ख़ुद ...

Widgets Magazine