दूसरा बच्चा लाता है दांपत्य जीवन में खुशि‍यां

WD|
शादी के बाद बच्चों का जीवन में आगमन, जीवन में नई खुशि‍यां लाता है। अलग-अलग कारणों से आजकल लोग एक ही बच्चा पैदा करने का विचार रखते हैं। कई लोगों का यह भी मानना है कि एक ही बच्चा इसलिए होना चाहिए क्योंकि दूसरे बच्चे से जीवन काफी प्रभावित हो जाता है। लेकिन अगर आप भी यही सोच रखते हैं, तो हम आपको बता दें, कि दूसरा बच्चा आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाता है। 
 
जी हां, एक ताजा में इस बात पता चला है, कि पहले बच्चे के जन्म से ही दंपती के बीच आने वाली दूरियों को दूसरा बच्चा कम करता है। वह उन्हें फिर से करीब लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह खुलासा हुआ है, मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में। शोधकर्ता वैवाहिक जीवन से जुड़े एक शोध के पश्चात इस नतीजे पर पहुंचे कि‍, वे दंपती जिन्हें पहले बच्चे के जन्म के बाद चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा था, दूसरे बच्चे के जन्म के बाद फिर से नवदंपती की तरह प्यार भरा जीवन जीने लगे।    
 शोधकर्ताओं ने अध्ययन के दौरान यह भी पाया, कि दूसरे बच्चे के जन्म के बाद शुरुआती लगभग चार सप्ताह दंपती को संतुलन बनने में लग जाता है और चार महीने के बाद वे इस बदलाव के अनुसार अपने जीवन को ढाल लेते हैं। 
> इससे पहले भी वैवाहिक जीवन पर एक अध्ययन किया गया था, जिसमें यह तथ्य सामने आए थे, कि हर बच्चे के जन्म के बाद वैवाहिक सुख में कमी आना स्वाभाविक है, लेकिन “कपल एंड फैमिली सायकोलोजी: रिसर्च एंड प्रैक्टिस” पत्रिका में प्रकाशित इस शोध में यह बात सामने आई कि परिवार में बच्चे के जन्म के बाद दंपती कुछ व्यवधान अनुभव करते हैं लेकिन कुछ समय में फिर स्थितियां सामान्य हो जाती हैं।
 
इस शोध में गर्भावस्था के आखिरी के तीन महीने से लेकर जन्म के बाद एक, चार, आठ और 12 महीने तक की स्थि‍ति वाले लगभग दो सौ दंपतियों को शामिल किया गया था। शोध को करने वाले शोधकर्ताओं के दल का नेतृत्व कर रही मनोविज्ञान प्रोफेसर ब्रेंडा वोलिंग ने कहा - ''कि दूसरे बच्चे के जन्म के बाद कई महत्वपूर्ण बदलाव आता है लेकिन वह अधि‍क समय के लि‍ए नहीं होता।''            
तो, अब आप भी इस सोच से खुद को आजाद कर लिजिए और यह जान लिजिए कि दूसरा बच्चा आपके जीवन में पहले की तरह हरियाली वापस लाने में मदद करता है। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :