बारिश की बूंदों में भीगी स्कूल की यादें


WD|
प्रीति सोनी की हल्की फुहारों से मौसम का आगाज़। बारिश का मौसम कभी रोमांस, प्रेमी युगल की दूरियों के एहसास से जुड़ा होता है, तो कभी बच्चों, युवाओं की मस्ती और हरे-भरे पिकनिक स्पॉट की याद दिलाता है। लेकिन बारिश के मौसम की शुरूआत से जुड़ी कुछ ऐसी यादें भी है, जो हर व्यक्ति को अपने में डूबो कर ही छोड़ती हैं। ऐसी यादें जिनसे आज कोई भी इंसान अछूता नहीं होगा ... जी हां, आप समझ ही गए होंगे, कि हम किन यादों की बात कर रहें हैं...> >
 

वही यादें, जब आप इन दिनों बचपन में हर साल नई किताब-कॉपियों और नई यूनिफार्म को खरीदने के लिए रोमांचित हुआ करते थे। वही यादें जब किताब कॉपियों की दुकानों पर उपलब्ध पानी की बॉटल, कंपॉक्स, लंचबॉक्स और नए बस्ते भी आपका मन लुभाया करते थे..। और वही यादें, जब आप बड़ी लगन के साथ किताबों पर कवर चढ़ाकर, नाम लिखी हुई पर्चियां चिपकाया करते थे। 

उन दिनों दो महीने की गर्मियों की छुटटी के बाद स्कूल के शुरूआती दिनों का रोमांच अपने चरम पर होता था। नया साल, नए विषयों को पढ़ने के लिए मन उत्सुक होता था। फिर भले ही बाद में कुछ विषय हमें बोरिंग या कठिन लगने लगते थे, लेकिन शुरूआत हम पूरी ईमानदारी और मेहनत के साथ करते थे। कोरी कॉपियों को भरने का जो उत्साह मन में हुआ करता था, वह अब देखने को नहीं मिलता। नए बस्ते और किताबों के साथ नई यूनिफार्म में जब एक हाथ में पानी की बॉटल ओर छाता लेकर स्कूल के लिए निकलते थे, तो पल-पलट कर मुस्कुराते हुए विदा करती मां को देखना हमें अपने आप में किसी राजकुमार या राजकुमारी से कम महसूस नहीं होता था। और जब स्कूल से लौटकर हम घर जाते तो लगता था कि कोई जंग जीतकर आए हों। इन दिनों में तो लंचबॉक्स में मां के हाथ के मीठे या नमकीन पराठों का मजा ही दुगुना होता था। सभी साथि‍यों के साथ मिल बांटकर खाना, स्कूल में ही तो सीखा था हमने। और किसी के साथ कोई भेद न करना भी स्कूल की छत के नीचे ही सीखा, जब खुद के घर से ज्यादा, साथी के घर का अचार पसंद आता था। यही परंपरा आज भी हमारे अंदर कायम है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...

महिलाओं से होने वाली हर दिन की ये 5 गल्तियां बाद में कर ...

महिलाओं से होने वाली हर दिन की ये 5 गल्तियां बाद में कर देंगी भयंकर बीमार
आज बेहद नाजुक हैं। आपको अपने आप को इस तरह से रखना है कि अपने ही हाथों बुलाई मुसीबत आपको ...