इस वर्ष के व्रत-त्योहार (2017)

मई माह के त्योहार
दिऩांक प्रमुख त्योहार अन्य त्योहार हिंदी माह पक्ष तिथि











1 मई रामानुजाचार्य ज., गुजरात, महाराष्ट्र स्था.दि.
मजदूर दि., दि. वैशाख
शुक्ल पंचमी-षष्ठी (5-6)
2 मई श्री गंगा सप्तमी
गंगोत्पत्ति, पुष्य (दिन 10.14 से) वैशाख
शुक्ल
सप्तमी (7)
3 मई मां बगलामुखी ज., पुष्य (दिन 9.12 तक)
मां पितांबरा ज., प्रेस स्वतंत्रता दि. वैशाख शुक्ल
अष्टमी (8)
4 मई सीता नवमी, जानकी ज.
संत भूराजी भगत ज. वैशाख
शुक्ल
नवमी (9)
5 मई

वैशाख
शुक्ल
दशमी (10)
6 मई मोहिनी एकादशी

वैशाख
शुक्ल
एकादशी (11)
7 मई
रवींद्रनाथ टैगोर ज. वैशाख
शुक्ल
द्वादशी (12)
8 मई सोम प्रदोष व्रत विश्‍व रेडक्रॉस दि. वैशाख
शुक्ल
त्रयोदशी (13)
9 मई श्री नृसिंह जयंती
गोखले जयंती वैशाख
शुक्ल
चतुर्दशी (14)
10 मई बुद्ध पूर्णिमा, वैशाख स्ना.स. वैशाख स्ना.दा.पूर्णिमा, वैशाखी पूर्णिमा वैशाख
शुक्ल
पूर्णिमा (15)
11 मई

ज्येष्ठ
कृष्ण
एकम (1)
12 मई नारद ज.
शब-ए-बारात (मुस्लिम समाज) ज्येष्ठ कृष्ण
द्वितीया (2)
13 मई

ज्येष्ठ
कृष्ण
द्वितीया (2)
14 मई सूर्य वृष संक्रांति, मदर्स डे, डॉ. रघुवीर दि.
गणेश चतुर्थी (चंद्रो.रा.9.40 पर) ज्येष्ठ कृष्ण
तृतीया (3)
15 मई सौर मा.ज्येष्ठ प्रा.
केवट ज. ज्येष्ठ
कृष्ण
चतुर्थी (4)
16 मई

ज्येष्ठ
कृष्ण
पंचमी (5)
17 मई संत तारण तरण गुरुपर्व
विश्व दूरसंचार दि., रानी अहिल्याबाई ज. ज्येष्ठ
कृष्ण
षष्ठी (6)
18 मई पंचक (शाम 5.42 से)

ज्येष्ठ
कृष्ण
सप्तमी (7)
19 मई पंचक

ज्येष्ठ
कृष्ण
अष्टमी (8)
20 मई पंचक

ज्येष्ठ
कृष्ण
नवमी (9)
21 मई पंचक राजीव गांधी पु. ज्येष्ठ
कृष्ण
दशमी (10)
22 मई पंचक (4.57 रा.अं.तक)
अचला एकादशी, राजाराम मोहनराय ज. ज्येष्ठ
कृष्ण
एकादशी (11)
23 मई भौम प्रदोष व्रत
ज्येष्ठ
कृष्ण
द्वादशी (12)
24 मई शिव चतुर्दशी

ज्येष्ठ
कृष्ण
त्रयोदशी-चतुर्दशी (13-14)
25 मई शनि जयंती, स्ना.दा.श्रा. अमावस्या वट सावित्री अमावस्या, नवतपा प्रा., आल्हा जयंती ज्येष्ठ
कृष्ण
अमावस्या (15)
26 मई

ज्येष्ठ
शुक्ल
एकम (1)
27 मई चंद्रदर्शन
पंडित नेहरू पु. ज्येष्ठ शुक्ल
द्वितीया (2)
28 मई रंभा तीज, रमजान मास प्रा., रोजा प्रा.
वीर सावरकर, महाराणा प्रताप, छत्रसाल ज. ज्येष्ठ
शुक्ल
तृतीया (3)
29 मई विनायकी चतुर्थी, पुष्य (शाम 6.26 से)
गुरु अर्जुनदेव पु. ज्येष्ठ शुक्ल
चतुर्थी (4)
30 मई पुष्य (शाम 5.19 तक)
श्रुत पंचमी ज्येष्ठ
शुक्ल
पंचमी (5)
31 मई
धूम्रपान निषेध दि. ज्येष्ठ
शुक्ल षष्ठी (6)


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?
अधिकतर हिंदुओं के पास अपने ही धर्मग्रंथ को पढ़ने की फुरसत नहीं है। वेद, उपनिषद पढ़ना तो ...

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। कलियुग का आरंभ शक संवत से 3176 वर्ष ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

आचार्य महाश्रमण के 57वें जन्म दिवस पर विशेष

आचार्य महाश्रमण के 57वें जन्म दिवस पर विशेष
आचार्य महाश्रमण एक ऐसी आलोकधर्मी परंपरा का विस्तार है, जिस परंपरा को महावीर, बुद्ध, ...

अपार धन चाहिए तो जपें श्रीगणेश के ये चमत्कारिक मंत्र

अपार धन चाहिए तो जपें श्रीगणेश के ये चमत्कारिक मंत्र
श्रीगणेश की आराधना को लेकर कुछ ऐसे तथ्य हैं, जिनसे आप अब तक अंजान रहे। जी हां, आप अगर ...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...
संसार में आकर मनुष्य केवल प्रारब्ध का भोग ही नहीं भोगता अपितु वर्तमान को भक्ति और आराधना ...

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान
हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों का उल्लेख मिलता है जिन्हें उचित विधि व निर्धारित ...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...
बौद्ध धर्म को भला कौन नहीं जानता। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परंपरा से निकला महान धर्म ...

राशिफल