क्यों सड़कों पर उतर आए ईरान के लोग?

पुनः संशोधित सोमवार, 8 जनवरी 2018 (11:45 IST)
में कई साल बाद इतने बड़े पैमाने पर देखने को मिले हैं। अलग अलग शहरों में सड़कों पर उतरे ये हजारों लोग आखिर कौन हैं और क्या चाहते हैं, चलिए जानते हैं।
कब हुई शुरुआत?
ईरान में सरकार विरोधी प्रदर्शनों की शुरुआत 28 दिसंबर को मशाद शहर से हुई, जब बढ़ती के खिलाफ सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर आए। अगले दो दिनों के भीतर ये प्रदर्शन राजधानी तेहरान समेत कई और शहरों तक पहुंचे गए।

प्रदर्शनों का कारण?
कुछ प्रदर्शनकारी बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक असामनात के खिलाफ सड़कों पर उतरे हैं। वहीं बहुत से लोग सरकार की नीतियों से खफा हैं। प्रदर्शनों के दौरान, "रोहानी मुर्दाबाद", "फलस्तीन को भूल जाओ", और "गजा नहीं, लेबनान नहीं, मेरी जिंदगी ईरान के लिए है" जैसे नारे लग रहे हैं।
प्रतिबंधों की मार?
कुछ लोग आम जनता पर पड़ रहे आर्थिक बोझ की वजह ईरान की विदेश नीति को बता रहे हैं जो कई क्षेत्रीय संकटों में उलझा है, तो कइयों की राय में, ईरान पर लगे प्रतिबंधों का असर अब जनता की जेब पर होने लगा है। कुल मिलाकर लोग सरकार से नाराज हैं।

सरकार समर्थक भी सड़कों पर
ईरानी राष्ट्रपति हसन रोहानी और सर्वोच्च नेता अयातोल्लाह खमेनेई का समर्थन करने वाले कट्टरपंथियों ने भी सड़क पर उतर कर अपनी आवाज बुलंद की। हालांकि सरकार समर्थक इन प्रदर्शनाकरियों की संख्या सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों से काफी कम दिखी।
कितने शहरों में प्रदर्शन?
अब तक एक दर्जन से ज्यादा शहरों से प्रदर्शनों होने की खबर है, जिनमें जनजान, केरमानशाह, खोरामाबाद, अबार, अराक, दोरुद, इजेह, तोनेकाबोन, तेहरान, करज, मशाद, शहरेकोर्द और बांदेर अब्बास शामिल हैं।

क्या कहती है सरकार?
राष्ट्रपति हसन रोहानी ने कहा है कि लोगों में बढ़ रही हताशा को वह समझते हैं और जनता को प्रदर्शन करने का हक है। लेकिन उन्होंने कहा कि हिंसा और तोड़फोड़ को स्वीकार नहीं किया जा सकता है।
कैसे फैले प्रदर्शन?
का कहना है कि इन प्रदर्शनों को फैलाने के लिए सोशल मीडिया और खासकर टेलीग्राम का इस्तेमाल किया गया। इसके बाद सरकार ने कई मैसेजिंग एप्स पर रोक लगा दी है। सरकार ने टेलीग्राम से हिंसा भड़काने वाले अकाउंट्स को बंद करने के लिए कहा है।

कितने हताहत?
ईरान में हो रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनों में अब तक कम से कम 21 लोगों के मारे जाने की खबर है। इसके अलावा सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया है। प्रदर्शनों के कारण ईरान की सरकार को तीखी आलोचना झेलनी पड़ रही है।
क्या बोला विश्व समुदाय?
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे लोगों को गिरफ्तार ना करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा, "दमनकारी व्यवस्था हमेशा नहीं रह सकती। दुनिया देख रही है।" जर्मनी और फ्रांस ने भी प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता दिखाई है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा
अलबामा में एक कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर पैदल चल कर आया। बॉस को ...

इन लड़कियों की वजह से धोखेबाज़ एनआरआई पतियों की अब ख़ैर

इन लड़कियों की वजह से धोखेबाज़ एनआरआई पतियों की अब ख़ैर नहीं
रुपाली, अमृतपाल और अमनप्रीत, तीनों पंजाब के अलग-अलग शहरों की रहने वाली है. लेकिन तीनों का ...

खतरे में है भारत की सांस्कृतिक अखंडता और विरासत

खतरे में है भारत की सांस्कृतिक अखंडता और विरासत
भारत देश एक बहु-सांस्कृतिक परिदृश्य के साथ बना एक ऐसा राष्ट्र है जो दो महान नदी ...

सांप के जहर नहीं अंधविश्वास से मरते हैं लोग

सांप के जहर नहीं अंधविश्वास से मरते हैं लोग
सर्पदंश से दुनिया भर में होने वाली मौतों में से आधी से ज्यादा भारत में ही होती हैं। ...

आपकी उम्र का खाने पर क्या होता है असर

आपकी उम्र का खाने पर क्या होता है असर
आप जीने के लिए खाते हैं या खाने के लिए जीते हैं? ये सवाल इसलिए क्योंकि बहुत से लोग शान से ...

उनका काम आलोचना करना है और हमारा काम विकास करना है -दिनेश ...

उनका काम आलोचना करना है और हमारा काम विकास करना है -दिनेश शर्मा
कानपुर। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा की देश व प्रदेश में विकास ...

मौसम अपडेट : कोंकण, केरल और तटीय कर्नाटक में भारी बारिश के ...

मौसम अपडेट : कोंकण, केरल और तटीय कर्नाटक में भारी बारिश के आसार
पुणे। अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, ...

भारतीय नौसेना ने ऑफशोर गैस रिसाव को रोकने में ओएनजीसी की ...

भारतीय नौसेना ने ऑफशोर गैस रिसाव को रोकने में ओएनजीसी की मदद की
मुंबई। भारतीय नौसेना केवल समुद्र की ही रखवाली नहीं करती बल्कि जरूरत पड़ने पर वह दूसरों की ...