बुरे दौर से गुजरकर बेहतरीन क्रिकेटर बने संजू सैमसन

पुणे| पुनः संशोधित बुधवार, 12 अप्रैल 2017 (18:25 IST)
पुणे। आईपीएल-10 में पहला शतक जड़कर सुखिर्यों में आए ने कहा कि वह बुरे दौर से गुजरकर बेहतरीन और व्यक्ति बन गए हैं। सैमसन ने बीती रात राइजिंग पुणे सुपरजॉइंट्स के खिलाफ 63 गेंद में 102 रन बनाए।
उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि बुरा समय आपको हमेशा जीवन के बारे में सीखाता है। अगर आप हमेशा सफल होते हैं तो आप सीख नहीं सकते। अगर आप गलतियां करते हो तो आप इनसे काफी कुछ सीखते हो और बेहतर इंसान बनते हो। मेरे बीते समय ने मुझे बेहतरीन क्रिकेटर और इंसान बनाया है। उनका घरेलू सत्र काफी खराब रहा था जिसमें कुछ अनुशासनात्मक संबंधित मुद्दे भी रहे।

सैमसन रणजी ट्रॉफी मैच के बीच में टीम के ड्रेसिंग रूम को छोड़कर चले गए थे लेकिन केरल क्रिकेट संघ (केसीए) ने उन्हें एक शर्त के साथ चेतावनी देते हुए छोड़ दिया कि उनके पिता अपने बेटे की क्रिकेटिया गतिविधियों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। इस शतक की क्या अहमियत है तो उन्होंने कहा कि यह विशेष पारी थी लेकिन उन्हें और आगे जाना है।
उन्होंने कहा कि यह मेरी जिंदगी के विशेष दिनों में एक से है लेकिन हर क्रिकेट का सपना भारत के लिए खेलना है। भारतीय टीम दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम है और इसमें जगह बनाने के लिए आपकोक कुछ विशेष करना होगा। मैं खुश हूं कि मैंने एक बड़ी पारी खेली लेकिन अभी और बढ़िया करना है। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :