वॉल्ट डिज्नी : कार्टून की दुनिया के बादशाह



बच्चों को तो कार्टून बेहद पसंद होते ही है, लेकिन कई बार बड़ों को भी कार्टून देखना अच्छा लगता है, क्योंकि वह हमें हमारे बचपन की याद ताज़ा करा देते हैं।
कोई अच्छा हो तो वह तो हर किसी को पसंद आता है। ऐसा ही एक एनीमेशन कार्टून केरैक्टर है "मिक्की माउस"। जिसने हर उम्र, वर्ग के लोगों का दिल जीता हैं। बनाने वाले शख्स का नाम है "वॉल्ट डिज्नी", जिनका को शिकागो में हुआ था।

वॉल्ट डिज्नी एक अमेरिकी एंटरप्रेन्योर, एनीमेटर, वॉइस ओवर आर्टिस्ट और फिल्म निर्माता थे। अमेरिका में एनीमेशन को ऊंचाई पर पहुंचाने में उनका सबसे बड़ा योगदान था। वॉल्ट डिज्नी ने अविस्मरणीय सफलता प्राप्त की और मनोरंजन जगत में सराहनीय योगदान दिया। आइए पढ़ते हैं उनके जीवन की कुछ रोचक जानकारी....


डिज्नी बचपन में काफी शर्मीले स्वभाव के थे और उनको बचपन से ही ड्राइंग करना बहुत पसंद था। आगे चल कर उनमें काफी सकारात्मक बदलाव हुए। उनके पिता एक किसान थे, उन्होंने बाजार में फल, सब्जियां और अख़बार भी बेचे, उनकी आर्थिक स्थिति खास अच्छी नहीं हुआ करती थी।

उनके पिता का नाम "इलीज डिज्नी" था और वॉल्ट उनके चौथे नंबर के पुत्र थे। एक समय ऐसा था जब अपने पिता की मदद करने के लिए, डिज्नी अपने
भाई रॉय के साथ स्कूल जाने से पहले, सुबह 4:30 बजे अख़बार बांटने भी जाया करते थे, और शाम को स्कूल के बाद अख़बार, व मैगज़ीन बांटने जाते थे।
डिज्नी की अक्सर स्कूल में नींद लग जाती थी, जिससे उन्हें अंक भी कम मिलते थे। उन्होंने छह साल से अधिक समय अख़बार बांटने का काम किया। उन्होंने कान्सास सिटी आर्ट इंस्टीट्यूट के शनिवार के पाठ्यक्रम में भाग लिया और कार्टूनिंग में पत्राचार पाठ्यक्रम भी किया। एक समय में, डिज्नी ने जर्मनी के खिलाफ लड़ने के लिए संयुक्त राज्य सेना में शामिल होने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें कम उम्र होने कि वजह से ख़ारिज कर दिया गया। अपने जन्म प्रमाण पत्र पर, जन्म की तारीख़ को बदल कर, डिज्नी ने "रेड क्रॉस" में एक एम्बुलेंस ड्राइवर के रूप में भी काम किया। जिसके लिए उन्हें फ्रांस भेज दिया गया था, वह अपनी एम्बुलेंस पर भी कार्टून्स बनाया करते थे और अपनी कला से उसे सजा कर रखते थे।

उन्होंने अपने रुचि का काम मिलने से पहले कई अलग तरह के काम किए। और जब उन्हें एक कंपनी में आर्टिस्ट का जॉब मिला तब उन्होंने एम्बुलेंस ड्राइवर का जॉब छोड़ दिया। एक बार तो यह भी हुआ था कि उन्हें यह कह कर जॉब से निकाल दिया गया था कि उनमें कल्पनाशक्ति
और सृजनात्मकता नहीं है। लेकिन इससे वह टूटे नहीं,
उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपनी खुद की कंपनी खोली, जो पैसों की तंगी के कारण दिवालिया हो गई। तब भी वह नहीं थमे और वापस हिम्मत जुटा के उन्होंने अपने भाई की मदद से एक और कंपनी खोली जिसका नाम शुरुआत में "वाल्ट डिज्नी ब्रदर्स" रखा, जिसे बाद में बदल कर "वाल्ट डिज्नी कंपनी" कर दिया गया।

बहुत ही जल्दी यह कंपनी अच्छी चल पड़ी, कंपनी ने कई और लोगों को नौकरियां दीं। इस समय तक वाल्ट डिज्नी का जीवन काफ़ी हद तक पटरी पर आ गया था।
बाद में उन्होंने अपनी कंपनी में ही आर्टिस्ट के तौर पर काम कर रही एक लड़की से शादी करके उसे अपना जीवनसाथी बना लिया।

जिस कार्टून करैक्टर ने वाल्ट डिज्नी को नई ऊंचाईयों पर पहुंचाया, वह उन्होंने एक ट्रैन सफर के दौरान, रास्ते में रफ़ली बनाया जो अंत तक एक चूहे के आकार का बन गया। जिसे अपनी पत्नी की सलाह पर "मिक्की" नाम दे दिया। फिर उस केरैक्टर का एनीमेशन बना कर उसे अपनी आवाज़ भी दी। 18 नवंबर 1928, को मिक्की का पहला शो हुआ, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया और उसके बाद से वाल्ट डिज्नी ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और कई ब्रिलियंट एनीमेशन मूवीज इस दुनिया को दी।
एक फिल्म प्रोड्यूसर के रूप में डिज्नी ने 26 अकादमी अवार्ड्स, 3 गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स, 1 एमी अवार्ड जीता और फिल्म इंडस्ट्री का सबसे बड़ा ऑस्कर अवार्ड के लिए उनका नाम, 59 बार नामांकित हुआ, जिसमें से 22 बार वे इसे जीत गए।

वाल्ट डिज्नी वो शख्सियत हैं,जिन्होंने अपनी कल्पनाशीलता और सृजनात्मकता से दुनिया को, बेहद लोकप्रिय और पसंदीदा कार्टून "मिक्की माउस" व अन्य कार्टून केरैक्टर दिए। डिज्नी ने कई संघर्षो के बाद यह मुकाम पाया। वॉल्ट डिज्नी एक अमेरिकी एंटरप्रेन्योर, एनीमेटर, वॉइस ओवर आर्टिस्ट और फिल्म प्रोड्यूसर थे। उन्होंने ही अमेरिका में एनीमेशन को नई ऊंचाईयों पर पहुंचाया। और अंत में ज़्यादा धूम्रपान करने के चलते 15 दिसंबर 1966 में फेफड़ों के कैंसर से उनकी मृत्यु हो गई।



प्रस्तुति : नम्रता जायसवाल

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :