हिन्दी कविता : वृक्ष..


धरा का भूषण है
यह प्रतिपल नूतन आभूषण है
 
जन-जन का यह जीवनदाता
देश का है यह भाग्य-विधाता
 
कबहुं वृक्ष नहि निज फल चखता
परमारथ का संगीत सुनाता
 
पानी को यह संचित कर
सृष्टि को नवजीवन देता
 
प्राणीमात्र का जीवनदाता
पशु-पक्षी का शरणदाता
 
यह है अद्भुत त्यागी-बलिदानी
अचरज करते ऋषि-मुनि ज्ञानी
 
इसके त्याग की कहानी
गाते-सुनाते जन-मन वाणी
 
यह अनुपम धरोहर है राष्ट्र की
इसे सहेजो प्राण त्यागकर
 
यदि तुम इसे सहेज पाओगे

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :