लेसिक लेजर सर्जरी : जानें संभावित नुकसान एवं सावधानियां...


डॉ. संजय गोकुलदास आंखों की सामान्य समस्याओं जैसे पास एवं दूर की नजर, चश्मा एवं लगाने में परेशानी होने पर सर्जरी का प्रयोग आपके दृष्टि दोषों को दूर करने के लिए किया जाता है। वैसे तो यह तकनीक सुरक्षित एवं असरकार है, लेकिन इससे जुड़े संभावित नुकसान को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता। जानें संभावित नुकसान एवं सावधानियां -
1 कम या ज्यादा नंबर निकालना - गोकुलदास अस्पताल के वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. संजय गोकुलदास के अनुसार, हम किसी मरीज का कम करेक्शन करते हैं, ताकि मरीज को माइनस नंबर की आदत के अनुसार ढाला जा सके। यह मरीज के लिए ज्यादा आरामदेह होता है। मायोपिया होने पर मरीज का कम नंबर निकाला जाता है लेकिन ज्यादा करेक्शन कभी कभार ही किया जाता है।
2 चकाचौंध लगना - रात में प्रकाश की तीव्रता का आभास होता है वहीं दिन में सूर्य प्रकाश की तेज रोशनी का आभास होता है। कभी-कभी सिर भारी भी हो सकता है, लेकिन यह सभी समसएं लेसिक लेजर सर्जरी के बाद कुछ ही दिनों तक होता है, बाद में सब सामान्य हो जाता है।
3 फ्लेप की समस्या - लेकिन प्रक्रिया के दौरान कभी-कभी पुतली के अंदर की फ्लेप में छेद हो जाने के कारण प्रक्रिया पूर्ण नहीं होती। इसके लिए 3 माह बाद पुन: सर्जरी की जाती है और पुतली के फ्लेप को उसकी सही अवस्था में लाते हैं।
4 कारनियल एक्टेसिया - लेसिक प्रक्रिया के लिए व्यक्ति के पुतली की समह सामान्य होनी चाहिए। कम मोटाई वाली पुतली की अवस्था लेसिक के लिए पर्याप्त नहीं होती, जिसके कारण कारनियल एक्टेसिया हो सकता है। इसकी जानकारी ऑपरेशन से पहले, पेकीमीटरी जांच से लग जाती है, इस स्थिति में ऑपरेशन नहीं किया जाता।
5 अन्य - पुतली में सूजन, फ्लेप का खिसकना, संक्रमण पर्दे का खिसकना, कर्नियल फ्लेप निकल जाना, इपोथोलियल इनग्रोथ आदि अन्य समस्याओं में शामिल हैं। लेकिन इनकी संभावना बहुत ही कम होती है।  

अगले पेज पर पढ़ें सावधानियां... 


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...
देह हूं मैं प्राणों से भरी , अहसासों से भरी देह हूं मैं जब छूते हो मुझे मेरी ...

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी
वर्षों बाद वो दोनों सखियां मिलीं। मन में भावनाओं का ज्वार। आंखें ख़ुशी के आंसुओं से सिक्त। ...

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह ...

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे
योग के जरिए भी थायराइड से बचा जा सकता है। खासकर कपालभाती करने से थायराइड की समस्या से ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

बच्चों को दीजिए उनका आकाश

बच्चों को दीजिए उनका आकाश
हम प्रायः अपने बच्चों को उसके भाई-बहनों या मित्रों का अनुकरण करने को कहते हैं। जो हमारी ...

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि 5 खूबानी से उतनी ही कैलोरी मिलती हैं, जितनी कि एक सेब से...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे ...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे आपको
कीटो डाइट का एक दुष्परिणाम यह है कि इसके साथ आपको पर्याप्त फाइबर और पोषक तत्व नहीं मिल ...

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान
घुट रहा है दम, निकल रहे हैं प्राण। कोई सुन ले तो, दे दो उसे जीवनदान। सूख रहे हैं हलक, ...

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार
सबसे पहले काजू को सादे पानी में उबाल लें। काजू को उबालते वक्त उसमें थोड़ा-सा नमक मिला दें।