पर्यावरण पर कविता : हरे भरे कल की पहल



डॉ. साधना सुनील विवरेकर
गर चाहें हरा भरा कल, करें आज ही पहल
गर करते हों वसुधा मां से प्यार
हरियाली का दो उसे उपहार

गर चाहें प्रकृति का उचित प्रबंधन
करें पर्यावरण का संरक्षण

पानी पेड़ पौधों का संबंध
प्रकृति का है प्रबंधन

आधुनिकता की है पहचान
से हो जुड़ाव

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :