चंद्रग्रहण- किसे मिलेंगे शुभ फल, किसके लिए है कष्ट, पढ़ें विस्तृत आलेख


Author पं. देवेन्द्रसिंह कुशवाह|
2015 को पर विशेष 
 
 
हिन्दू नववर्ष नवसंवत् के बाद भारत का पहला खग्रास चन्द्र ग्रहण चैत्र शुक्ल पूर्णिमा शनिवार, 4 अप्रैल 2015 को लगभग देश के सभी हिस्सों में ग्रस्तोदय खंडग्रास के रूप में दिखाई देगा। ग्रस्तोदय (ग्रस्त उदय) मतलब जिस समय ग्रहण होगा, सूर्यास्त हो गया होगा और चन्द्र उदय के समय ग्रहण होगा। जबकि खंडग्रास का मतलब है ग्रहण पूर्ण न दिखकर एक भाग में ग्रहण लगा हुआ दिखाई देगा। देश में जिन स्थानों पर चन्द्रोदय शाम 7 बजकर 15 मिनट बाद होगा, वहां ग्रहण दिखाई नहीं देगा, क्योंकि ग्रहण शाम 7.15 तक खत्म हो जाएगा। 
 
भारतीय समयानुसार भूमंडल में चन्द्र ग्रहण का स्पर्श मोक्षादि समय निम्नानुसार होगा- 
 
ग्रहण स्पर्श- दोपहर 3 बजकर 45 मिनट 
सम्मिलन- सायं 5 बजकर 24 मिनट 
ग्रहण मध्य- सायं 5 बजकर 30 मिनट 
उन्नमिलन- सायं 5 बजकर 36 मिनट 
(समाप्ति)- सायं 7 बजकर 18 मिनट 
पर्वकाल- 3 घंटा 30 मिनट 
 
ग्रहण स्पर्श होने से मोक्ष होने तक के समय को पर्वकाल कहा जाता है। अगर हम इंदौर, उज्जैन की बात करें तो इंदौर और उज्जैन में चन्द्रोदय शाम 6 बजकर 38 मिनट और 6 बजकर 40 मिनट पर होगा इसलिए इंदौर में शाम 6 बजकर 38 मिनट और उज्जैन में 6 बजकर 40 मिनट ग्रस्तोदित चन्द्र ग्रहण दिखाई देगा चूंकि शाम 7 बजकर 15 मिनट तक ग्रहण मोक्ष (समाप्ति) का समय है इसलिए करीब 37 मिनट तक ग्रहण दिखाई देता रहेगा। 
 
 
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं मिलेगा पूरा फल, मंत्र की गल‍ती कर सकती है बर्बाद
श्रावण भगवान शिव का प्रिय महीना है, इन दिनों चारों ओर से मंत्र जाप की ध्वनि सुनाई देगी, ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं भोलेनाथ प्रसन्न
श्रावण मास कहें या सावन मास इस पवित्र महीने में भगवान भोलेशंकर की कई प्रकार से आराधना ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ने, आप भी जानिए
अमरनाथ गुफा की ओर जाते हुए शिव सर्वप्रथम पहलगाम पहुंचे, जहां उन्होंने अपने नंदी (बैल) का ...

19 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...

19 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...
संपत्ति के कार्य लाभ देंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। दुष्टजन हानि पहुंचा ...

19 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन

19 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 19 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। आप राजसी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। आपको ...

19 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त

19 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- दक्षिणायन, मास- आषाढ़, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...