टोरंटो फेस्टिवल में उर्दू फिल्म

ND|
ND

टोरंटो में 35वें में पहली बार उर्दू भाषा में बनी फिल्म 'हरुद' यानि पेश की गई। यह फिल्म कश्मीर पर बनाई गई है। डेढ़ घंटे की इस फिल्म के तीन शो पेश किए गए, इस फिल्म के लेखक और निर्देशक 40 वर्षीय कश्मीरी अदाकार हैं। इस मेले में सात बॉलीवुड फिल्में पेश किया जा रही है। 'हरुद' पहली उर्दू फिल्म है जो टोरंटो में दिखाई जा रही है।

आमिर बशीर बॉलीवुड फिल्मों में पिछले 13 वर्षों से अपने अभिनय के जौहर दिखा रहे हैं, लेकिन यह उनकी लिखी और निर्देशित की हुई पहली फिल्म है। अभिनय से पहले आमिर बशीर एक पत्रकार के तौर पर एक टीवी चैनल के साथ काम कर रहे थे। फिल्म में मशहूर ईरानी अदाकार रजा नाजी के अलावा शाहनवाज बट, शमीम बशारत और मुदस्सर खान ने अभिनय किया है।

रजा नाजी को साँग ऑफ स्पैरो यानी गौरय्ये के गीत में अदाकारी के लिए सिल्वर बियर पुरस्कार मिल चुका है।
फिल्म की कहानी एक कश्मीरी खानदान के आसपास घूमती है जिसका बड़ा बेटा रहस्यमय ढंग से गायब हो जाता है। फिर उसकी माँ उसे तलाश करती फिरती है और छोटा भाई जिन हालात से गुजरता है उसका चित्रण हुआ है। पिछले बीस वर्षों में बहुत कम फिल्में कश्मीर पर बनी हैं। 'हरुद' की कहानी पारंपरिक हीरो और विलेन से थोड़ी अलग है।


और भी पढ़ें :