मुक्त व्यापार समझौता एक वर्ष में

नई दिल्ली (वार्ता)| वार्ता| पुनः संशोधित मंगलवार, 29 अप्रैल 2008 (18:33 IST)
भारत और स्विट्‍जरलैंड के बीच मुक्त व्यापार व्यवस्था के लिए बातचीत शीघ्र शुरू होगी और दोनों पक्षों को एक वर्ष के अंदर समझौता हो जाने की उम्मीद है। दोनो पक्षों ने लघु और मझोले उद्योगों के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर भी बल दिया है।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कमलनाथ और भारत यात्रा पर आईं स्विट्‍जरलैंड की आर्थिक मामलों की मंत्री सुश्री डोरिस लियुथार्ड ने उम्मीद जाहिर की कि इस समझौते से यूरोपीय मुक्त व्यापार क्षेत्र (ईएफटीए) के चारों देशों स्विट्‍जरलैंड, आयरलैंड, लिचटेंस्टिन और नार्वे के साथ व्यापार बढ़ेगा।

कमलनाथ और सुश्री लियुथार्ड यहाँ दोनों देशों के उद्यमियों की बैठक को सम्बोधित करने से पहले संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।
वाणिज्य मंत्री ने कहा कि ईएफटीए के साथ मुक्त व्यापार समझौते की बातचीत शीघ्र शुरू करने पर सहमति बन गई है और बातचीत एक वर्ष के अंदर पूरी कर लिए जाने की उम्मीद है। स्विट्‍जरलैंड की मंत्री ने भी ऐसी ही उम्मीद जाहिर की।

दोनों नेताओं ने कहा कि इस समझौते में दोनों पक्ष नकली वस्तुओं की रोकथाम तथा बौद्धिक सम्पदा अधिकार की रक्षा के क्षेत्र में सहयोग के प्रावधानों को भी शामिल करेंगे।


और भी पढ़ें :