क्या आप जानते हैं कब कराएं महामृत्युंजय का जाप




विशेष परिस्थितियों में जपें यह महामंत्र

जपने से अकाल मृत्यु तो टलती है, आरोग्यता की भी प्राप्ति होती है। स्नान करते समय शरीर पर लोटे से पानी डालते वक्त इस मंत्र का जप करने से स्वास्थ्य-लाभ होता है। दूध में निहारते हुए इस मंत्र का जप किया जाए और फिर वह दूध पी लिया जाए तो यौवन की सुरक्षा में भी सहायता मिलती है, साथ ही इस मंत्र का जप करने से बहुत-सी बाधाएं दूर होती हैं अत: इस मंत्र का यथासंभव जप करना चाहिए। निम्नलिखित स्थितियों में इस मंत्र का जाप कराया जाता है-
* ज्योतिष के अनुसार यदि जन्म मास, गोचर और दशा, अंतर्दशा, स्थूलदशा आदि में ग्रह पीड़ा होने का योग है।
* किसी महारोग से कोई पीड़ित होने पर।
* जमीन-जायदाद के बंटवारे की संभावना हो।
* हैजा-प्लेग आदि महामारी से लोग मर रहे हों।
* राज्य या संपदा के जाने का अंदेशा हो।
* धनहानि हो रही हो।
* मेलापक में नाड़ीदोष, षड़ाष्टक आदि आता हो।
* राजभय हो।
* मन धार्मिक कार्यों से विमुख हो गया हो।
* राष्ट्र का विभाजन हो गया हो।
* मनुष्यों में परस्पर घोर क्लेश हो रहा हो।
* त्रिदोषवश रोग हो रहे हों।




Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

गलत समय में सहवास करने से पैदा हुए ये दो दैत्य, आप भी ध्यान ...

गलत समय में सहवास करने से पैदा हुए ये दो दैत्य, आप भी ध्यान रखें
शास्त्रों में सहवास करने का उचित समय बताया गया है। संधिकाल में उच्च स्वर, सहवास, भोजन, ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास जानकारी
आकाश में न तो कोई बिच्छू है और न कोई शेर, पहचानने की सुविधा के लिए तारा समूहों की आकृति ...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में 9 ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...

राजा हिरण्यकश्यप के अंत के लिए भगवान विष्णु ने किया था ...

राजा हिरण्यकश्यप के अंत के लिए भगवान विष्णु ने किया था पुरुषोत्तम मास का निर्माण
तेरहवें महीने के निर्माण के संबंध में किंवदंती है कि भगवान ब्रह्मा से राजा हिरण्यकश्यप ने ...

ऐसे घर में हो जाता है गृहस्वामी का नाश या आकस्मिक मौत

ऐसे घर में हो जाता है गृहस्वामी का नाश या आकस्मिक मौत
तो निश्चित ही उस घर के गृहस्वामी पर संकट बना रहता है, उसका नाश हो सकता है या आकस्मिक मौत ...

जानिए रोहिणी नक्ष‍त्र का स्वरूप, कथा और खास बातें...

जानिए रोहिणी नक्ष‍त्र का स्वरूप, कथा और खास बातें...
रोहिणी जातक सुंदर, शुभ्र, पति प्रेम, संपादन करने वाले, तेजस्वी, संवेदनशील, संवेदनाओं से ...

कैसे बाली दूसरों की आधी शक्ति खींच लेता था, जानिए रहस्य

कैसे बाली दूसरों की आधी शक्ति खींच लेता था, जानिए रहस्य
*सभी जानते हैं कि देवराज इंद्र का पुत्र और किष्किंधा का राजा बाली जिससे भी लड़ता था लड़ने ...

11वां रोजा : मगफिरत का अशरा शुरू, इबादत की टहनी पर मगफिरत ...

11वां रोजा : मगफिरत का अशरा शुरू, इबादत की टहनी पर मगफिरत का फूल
मोक्ष की बात हरेक मजहब में कही गई। जैसे जैन धर्म में मोक्ष के लिए 'रत्न-त्रय', सनातन धर्म ...

28 मई से 3 जून 2018 : साप्ताहिक राशिफल

28 मई से 3 जून 2018 : साप्ताहिक राशिफल
गर्म जगह पर रहने वाले लोगों को छुट्टियां बिताने के लिए किसी ठंडे प्रदेश की तलाश रहेगी। ...

राशिफल