प्राचीनतम यजीदी धर्म को जानिए

प्राचीन विश्व की प्राचीनतम धार्मिक परंपराओं में से एक है। यजीदियों की गणना के अनुसार अरब में यह परंपरा 6,763 वर्ष पुरानी है अर्थात ईसा के 4,748 वर्ष पूर्व यहूदियों, ईसाइयों और मुसलमानों से पहले से यह परंपरा चली आ रही है। 
* 'यजीदी' का शाब्दिक अर्थ 'ईश्वर के पूजक' होता है। ईश्वर को 'यजदान' कहते हैं। यजीदी अपने ईश्वर को 'यजदान' कहते हैं।
 
* शोध से पता चलता है कि यजीदियों का यजीद या ईरानी शहर यज्द से कोई लेना-देना नहीं। उनका संबंध फारसी भाषा के 'इजीद' से है जिसके मायने फरिश्ता है। इजीदिस के मायने हैं 'देवता के उपासक' और यजीदी भी खुद को यही कहते हैं।
 
* यजीदियों की कई मान्यताएं हिन्दू और ईसाइयत से भी मिलती-जुलती हैं। ईसाइयत के आरंभिक दिनों में मयूर पक्षी को अमरत्व का प्रतीक माना जाता था।
 
* यजदान से 7 महान आत्माएं निकलती हैं जिनमें मयूर एंजेल है जिसे मलक ताउस कहा जाता है। मयूर एंजेल को दैवीय इच्छाएं पूरा करने वाला माना जाता है।
 
*  यजीदी ईश्‍वर को इतना ऊपर मानते हैं कि उनकी सीधे उपासना नहीं की जाती। उन्हें सृष्टि का रचयिता तो मानते हैं, लेकिन रखवाला नहीं।
 
* यजीदियों में जल का महत्व है। धार्मिक परंपराओं में जल से अभिषेक किए जाने की परंपरा है।  
* पुनर्जन्म को मानते हैं।
 
* यजीदी अपने ईश्‍वर की 5 समय प्रार्थना करते हैं। सूर्योदय व सूर्यास्त में सूर्य की ओर मुंह करके प्रार्थना की जाती है।
 
* स्वर्ग-नरक की मान्यता भी है।
 
* धार्मिक संस्कार कराने वाले विशेषज्ञों की परंपरा है।
 
* व्रत, मेले, उत्सव की परंपरा भी है।
 
* समाधियां व पूजागृह (मंदिर) भी हैं।
 
* इनकी धार्मिक भाषा कुरमांजी है, जो प्राचीन परशियन (ईरान) की शाखा है।
 
* पृथ्वी, जल व अग्नि में थूकने को पाप समझते हैं।
 
* यजीदी धर्म परिवर्तन नहीं करते। यजीदी के लिए धर्म निकाला सबसे दुर्भाग्यपूर्ण माना जाता है, क्योंकि ऐसा होने पर उसकी आत्मा को मोक्ष नहीं मिलता।> >  

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए ...

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए रहस्य...
पहली बात तो यह कि आत्महत्या शब्द ही गलत है, लेकिन यह अब प्रचलन में है। आत्मा की किसी भी ...

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान
क्या आप जानते हैं कि प्राचीन काल में घर में कई शुभ वस्तुएं रखी जाती थीं, उनमें से एक ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य पढ़ें...
ज्योतिष में नवग्रह का बहुत महत्व है। कुंडली में अगर ग्रहों का अशुभ प्रभाव या ग्रहदोष हो ...

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान
रामायण के अनुसार रावण के पास कई लड़ाकू विमान थे। पुष्पक विमान के निर्माता विश्वकर्मा थे। ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे कराता था?
श्रीकृष्ण की एक अक्षौहिणी नारायणी सेना मिलाकर कौरवों के पास 11 अक्षौहिणी सेना थी तो ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?
हिंदू पंचांग के पंचांग अंग है:- तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। उचित तिथि, वार, नक्षत्र, ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

राशिफल