दुनिया के ये 8 धर्म, जानें कौन कितना प्राचीन

Last Updated: मंगलवार, 18 अप्रैल 2017 (12:23 IST)
1.हिन्दू धर्म : स्वायंभुव मनु हुए 9057 ईसा पूर्व, वैवस्वत मनु हुए 6673 ईसा पूर्व, श्रीराम का जन्म 5114 ईसा पूर्व और श्रीकृष्ण का जन्म 3112 ईसा पूर्व हुआ। इस मान से 12 से 15 हजार वर्ष प्राचीन वर्तमान शोधानुसार ज्ञात रूप से लगभग 24 हजार वर्ष पुराना धर्म। हालांकि पौराणिक मान्यताओं अनुसार 90 हजार वर्ष प्राचीन है।
2.धर्म : जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभनाथ स्वायंभुव मनु (9057 ईसा पूर्व) से पांचवीं पीढ़ी में इस क्रम में हुए- स्वायंभुव मनु, प्रियव्रत, अग्नीघ्र, नाभि और फिर ऋषभ। 24वें तीर्थंकर महावीर स्वामी ने इस धर्म को एक नई व्यवस्‍था दी।

3.यहूदी धर्म : आज से लगभग 4 हजार साल पुराना यहूदी धर्म वर्तमान में इसराइल का राजधर्म है। हजरत आदम की परंपरा में आगे चलकर हजरत इब्राहिम हुए और फिर हजरत मूसा। ईसा से लगभग 1500 वर्ष पूर्व हुए ह. मूसा ने यहूदी धर्म की स्थापना की थी।
4.पारसी धर्म : पौराणिक इतिहास अनुसार ईसा से लगभग 1200 से 1500 वर्ष पूर्व ईरान में महात्मा जरथुस्त्र हुए थे। उन्होंने ही पारसी धर्म की स्थापना की थी। यह धर्म कभी ईरान का राजधर्म हुआ करता था। हालांकि इतिहासकारों का मत है कि जरथुस्त्र 1700-1500 ईपू के बीच हुए थे।

5..धर्म : और इस्लाम धर्म से पूर्व बौद्ध धर्म की उत्पत्ति हुई थी। गौतम बुद्ध का जन्म ईसा से 563 साल पहले जब कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी अपने नैहर देवदह जा रही थीं, तो रास्ते में लुम्बिनी वन में हुआ।
6.ईसाई धर्म : हजरत इब्राहिम की परंपरा में ही आगे चलकर 5वीं ईसा पूर्व ईसा मसीह हुए। उनका जन्म फिलिस्तीन के बेथलेहम में नाजारेथ के एक यहूदी बढ़ई के यहां हुआ था। ईसा मसीह के 12 शिष्यों ने ईसाई धर्म की नींव रखी थी।
7.इस्लाम धर्म : हज. मुहम्मद अलै. का जन्म सन् 571 ईस्वी. में मक्का में पीर के दिन हुआ था। आपने इस्ला‍म धर्म की स्थापना की। आगे चलकर खलिफाओं ने इस धर्म को फैलाया।

8.धर्म : सिख धर्म के दस गुरुओं की कड़ी में प्रथम हैं गुरु नानक जिनका जन्म 1469 को तलवंडी, पंजाब में हुआ था। अब यह हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में है। सिख धर्म में कुल 10 गुरु हुए हैं। अंतिम गुरु गोविंदसिंह जी थे।
9.दुनिया में शिंतो, ताओ, जेन, यजीदी, पेगन, वूडू, बहाई धर्म, अहमदिया, कन्फ्यूशियस, काओ दाई आदि अनेक धर्म हैं लेकिन ये सभी उपरोक्त धर्मों से निकले ही धर्म हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

गलत समय में सहवास करने से पैदा हुए ये दो दैत्य, आप भी ध्यान ...

गलत समय में सहवास करने से पैदा हुए ये दो दैत्य, आप भी ध्यान रखें
शास्त्रों में सहवास करने का उचित समय बताया गया है। संधिकाल में उच्च स्वर, सहवास, भोजन, ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास जानकारी
आकाश में न तो कोई बिच्छू है और न कोई शेर, पहचानने की सुविधा के लिए तारा समूहों की आकृति ...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में 9 ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...

राजा हिरण्यकश्यप के अंत के लिए भगवान विष्णु ने किया था ...

राजा हिरण्यकश्यप के अंत के लिए भगवान विष्णु ने किया था पुरुषोत्तम मास का निर्माण
तेरहवें महीने के निर्माण के संबंध में किंवदंती है कि भगवान ब्रह्मा से राजा हिरण्यकश्यप ने ...

25 मई 2018 के शुभ मुहूर्त

25 मई 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- ज्येष्ठ, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. ...

महापर्व पर्युषण क्या है, जानिए

महापर्व पर्युषण क्या है, जानिए
*पर्युषण का अर्थ है परि यानी चारों ओर से, उषण यानी धर्म की आराधना। श्वेतांबर और दिगंबर ...

शादी के इन उपायों से बेटी के लिए घर बैठे आएगा रिश्ता, आजमा ...

शादी के इन उपायों से बेटी के लिए घर बैठे आएगा रिश्ता, आजमा कर देखें
बेटी के लिए सुयोग्य वर की तलाश में माता-पिता चिंतित होने लगते हैं। समस्त प्रयासों के साथ ...

सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं अधिक मास की कमला (पद्मिनी) ...

सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं अधिक मास की कमला (पद्मिनी) एकादशी की यह पौराणिक व्रत कथा
पूर्वकाल में त्रेयायुग में हैहय नामक राजा के वंश में कृतवीर्य नाम का राजा महिष्मती पुरी ...

25 मई को कमला (पद्मिनी) एकादशी : ये दुर्लभ व्रत देता है ...

25 मई को कमला (पद्मिनी) एकादशी : ये दुर्लभ व्रत देता है कीर्ति और मोक्ष, पढ़ें सरल विधि
पुरुषोत्तम मास में अनेक पुण्यों को देने वाली एकादशी का नाम पद्मिनी है। इस वर्ष यह एकादशी ...

राशिफल