Widgets Magazine

भगवान जगन्नाथ अस्वस्थ, सिर्फ मिल सकेंगे वैद्य

हमारे सनातन धर्म की खूबसूरती यही है कि हमने ईश्वर को स्वयं से अभिन्न माना है। हमने अपने ईश्वर को सुलाया, जगाया, स्नान कराया, भोजन कराया, यहां तक कि ग्रहणकाल में सूतक भी लगाया। हमारा परमात्मा सर्दी-गर्मी से प्रभावित होता है। आपने ग्रीष्मकाल में कई मन्दिरों में भगवान के लिए वातानुकूलित लगे देखे होंगे वहीं सर्दियों में विग्रह को ऊनी पोशाकें धारण किए भी देखा होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारे भगवान भी होते हैं। चौंकिए मत, स्नान यात्रा के पश्चात् ज्वर के कारण अस्वस्थ होते हैं।

प्रति वर्ष ज्येष्ठ पूर्णिमा को भगवान जगन्नाथ की 'स्नान यात्रा' का महोत्सव मनाया जाता है। इस वर्ष यह महोत्सव 9 जून को मनाया जाएगा। इसमें भगवान का ठण्डे जल से अभिषेक किया जाता है व अभिषेक के उपरान्त भगवान को ज्वर होता है। भगवान जगन्नाथ अस्वस्थ होने के कारण 15 दिनों तक अपने भक्तगणों को दर्शन नहीं देते। इस अवधि में केवल उनके निजी सहायक व वैद्य ही उनके दर्शन कर सकते हैं।

इन 15 दिनों की अवधि में भगवान जगन्नाथ को ज्वरनाशक औषधियों, फ़लों का रस, खिचड़ी, दलिया इत्यादि का भोग लगाया जाता है। इस अवधि को 'अनवसर' कहा जाता है। इस अवधि के बीत जाने पर भगवान पुन: स्वस्थ होकर भक्तों को दर्शन देने हेतु रथ पर सवार होकर मन्दिर से बाहर आते हैं। जिसे 'रथयात्रा' कहा जाता है। जो प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को निकलती है। इस वर्ष भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा को निकलेगी।
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क : astropoint_hbd@yahoo.com

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...
ज्यादातर ज्योति‍षी का मानना है कि अगर कुंडली में मंगल कमजोर हो तो गुरुवार का दिन प्रतिकूल ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य पढ़ें...
विद्यार्थी को इस मंत्र को प्रत्येक दिन नहा-धोकर पवित्र आसन पर बैठकर धूप दीप जलाकर ...

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे
हिंदुओं में वर्तमान में यह प्रचलन बढ़ने लगा है कि वे अपने बच्चों के नाम कुछ हटकर रखने लगे ...

शुक्र का स्वराशि वृषभ में प्रवेश, क्या होगा 12 राशियों पर ...

शुक्र का स्वराशि वृषभ में प्रवेश, क्या होगा 12 राशियों पर असर...
शुक्र ने अपनी स्वराशि वृषभ में प्रवेश कर लिया है। शुक्र को सौंदर्य, भोग-विलास, ...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...
चांदी को भी पवित्र धातु माना गया है। सोना-चांदी आदि धातुएं केवल जल अभिषेक से ही शुद्ध हो ...

सबसे चमकदार ग्रह है शुक्र

सबसे चमकदार ग्रह है शुक्र
चन्द्रमा के बाद रात के आकाश में सबसे ज्यादा शुक्र ही है। शुक्र का आकार और घनत्व करीब-करीब ...

क्या आपके अपनों को भी लगती है नजर, तो ऐसे करें सरल उपाय

क्या आपके अपनों को भी लगती है नजर, तो ऐसे करें सरल उपाय
नजर लगे व्यक्ति को पान में गुलाब की सात पंखुड़ियां रखकर खिलाए। नजर लगा हुआ व्यक्ति इष्ट ...

नौकरी पाने के लिए जरूरी योग-संयोग जानिए...

नौकरी पाने के लिए जरूरी योग-संयोग जानिए...
जीवन की कोई भी शुभ या अशुभ घटना राहु और केतु की दशा या अंतरदशा में घटित हो सकती है। यह ...

मां बगलामुखी की पौराणिक कथा

मां बगलामुखी की पौराणिक कथा
मां देवी बगलामुखीजी के संदर्भ में एक पौराणिक कथा के अनुसार एक बार सतयुग में महाविनाश ...

22 अप्रैल को मनेगी गंगा सप्तमी, आजमाएं ये 8 उपाय

22 अप्रैल को मनेगी गंगा सप्तमी, आजमाएं ये 8 उपाय
वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी कहा जाता है। इस वर्ष ये तिथि 22 ...

राशिफल