जानिए क्या है पंचक, क्यों वर्जित है इस दौरान शुभ कार्य...

ज्योतिष में पंचक को शुभ नक्षत्र नहीं माना जाता है। इसे अशुभ और हानिकारक नक्षत्रों का योग माना जाता है। नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग ...

Widgets Magazine

शतभिषा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

ज्योतिष शास्त्र में समस्त आकाश मंडल को 27 भागों में विभक्त कर प्रत्येक भाग का नाम एक-एक नक्षत्र रखा गया है। सूक्ष्मता से समझाने के लिए प्रत्येक ...

धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

'धनिष्ठा' का अर्थ होता है 'सबसे धनवान'। वैदिक ज्योतिष की गणनाओं के लिए महत्वपूर्ण माने जाने वाले 27 नक्षत्रों में से धनिष्ठा को 23वां नक्षत्र ...

श्रवण नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

'श्रवण' का अर्थ होता है 'सुनना' और जो सुना गया है। उत्तराषाढ़ा और धनिष्ठा के बीच में श्रवण नक्षत्र होता है। नक्षत्र मंडल में इसका 22वां स्थान ...

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में जन्मे जातक का भविष्यफल

'उत्तराषाढ़ा' का अर्थ होता है विजय के पश्चात। नक्षत्र मंडल में यह 21वां नक्षत्र है। पूर्वाषाढ़ा तथा उत्तराषाढ़ा नक्षत्र भी उसी प्रकार से जोड़ा ...

पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

नक्षत्र मंडल में पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र 20वें नंबर पर है। 'पूर्वाषाढ़ा' का अर्थ 'विजय से पूर्व' होता है। वैदिक ज्योतिष पूर्वाषाढ़ा को एक स्त्री ...

मूल नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

नक्षत्र मंडल में मूल का स्थान 19वां है। 'मूल' का अर्थ 'जड़' होता है। मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक को पीपल के वृक्ष में प्रसाद और जल ...

ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

नक्षत्र मंडल में ज्येष्ठा का स्थान 18वें नंबर पर है। 'ज्येष्ठा' का मतलब होता है 'बड़ा'। ज्येष्ठा नक्षत्र को गंड मूल नक्षत्र भी कहा जाता है। कुछ ...

अनुराधा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल...

अनुराधा का अर्थ होता है सफलता। नक्षत्र मंडल का 17वां नक्षत्र है अनुराधा नक्षत्र। आकाशगंगा में अनुराधा का विस्तार 213 अंश 20 कला से 226 अंश 40 ...

विशाखा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

नक्षत्र मंडल में विशाखा का नंबर 16वां है। 'विशाखा' का अर्थ होता है विभाजित शाखा। विशाखा नक्षत्र वाले लोग अपने लक्ष्य को पाने के लिए पागलपन की हद ...

स्वाति नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

स्वाति नक्षत्र, नक्षत्र मंडल में उपस्थित 27 नक्षत्रों में 15वां है। स्वाति नक्षत्र राहु का दूसरा नक्षत्र है। राहु यानी अधंकार। राहु कोई ग्रह ...

चित्रा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

चित्रा का अर्थ दैदीप्यमान होता है। नक्षत्र क्रम में चित्रा नक्षत्र 14वां नक्षत्र है। चित्रा में इन्द्र का व्रत और पूजन किया जाता है।

हस्त नक्षत्र : जानिए अपना व्यक्तित्व

हस्त का अर्थ होता है हाथ। नक्षत्र क्रम में हस्त नक्षत्र का 13वां स्थान है। यह आकाश में हाथ के पंजे के आकार में फैला है। इस नक्षत्र का स्वामी ...

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का ...

'उत्तरा फाल्गुनी' का अर्थ है 'बाद का लाल नक्षत्र'। इस नक्षत्र समूह में सैकड़ों तारों के बीच मूलत: प्रमुख 9 तारे धरती से स्पष्ट दिखाई देते हैं। ...

पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का ...

'पूर्वा फाल्गुनी' का शाब्दिक अर्थ है- 'पहले आने वाला लाल रंग'। आकाश मंडल में पूर्वा फाल्गुनी को 11वां नक्षत्र माना जाता है। यह सूर्य की सिंह की ...

मघा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल...

मघा का अर्थ महान होता है। आकाश में मघा नक्षत्र का 10वां स्थान है। मघा नक्षत्र के चारों चरण सिंह राशि में आते हैं। इस नक्षत्र का राशि स्वामी ...

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

अश्लेषा का अर्थ आलिंग होता है। आकाश मंडल में अश्लेषा नक्षत्र का स्थान 9वां है। यह कर्क राशि के अंतर्गत आता है। इस नक्षत्र का स्वामी बुध है। ...

पुष्य नक्षत्र : जानिए अपना व्यक्तित्व

पुष्य का अर्थ पोषण होता है। इसे 'ज्योतिष्य और अमरेज्य' भी कहते हैं। 'अमरेज्य' शब्द का अर्थ है- देवताओं का पूज्य। राशि में 3 डिग्री 20 मिनट से 16 ...

पुनर्वसु नक्षत्र : जानिए अपना व्यक्तित्व

पुनर्वसु का अर्थ पुन: शुभ होता है। आकाश मंडल में पुनर्वसु 7वां नक्षत्र है। इस नक्षत्र का स्वामी गुरु है और राशि स्वामी बुध है। अदिति इस नक्षत्र ...

Widgets Magazine

ज़रूर पढ़ें

एक हजार वर्ष पूर्व रूस में था हिन्दू धर्म?

एक हजार वर्ष पहले रूस ने ईसाई धर्म स्वीकार किया। माना जाता है कि इससे पहले यहां असंगठित रूप से ...

इन 20 चमत्कारिक मंदिरों पर जाने से होगी मुराद पूरी

गुप्तकाल तक को बौद्धकाल माना जा सकता है। बौद्धकाल और गुप्तकाल में कई मंदिरों का निर्माण हुआ। मंदिर ...

चाणक्य नीति : इन 7 को न जगाएं नींद से...

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जीवन को सुखी बनाए रखने के लिए शास्त्रों में कई अचूक नियम दिए गए हैं। अत: ...

Widgets Magazine

नवीनतम

चाणक्य से सीखें जीवन जीने के अचूक मंत्र

इतनी सदियां गुजरने के बाद आज भी यदि चाणक्य के द्वारा बताए गए सिद्धांत और नीतियां प्रासंगिक हैं, तो ...

आप भी जानिए सितंबर 2015 के शुभ-अशुभ योग...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कार्य-सिद्धि योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्‍पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी ...