आंवला नवमी पर 5 घंटे का है शुभ मुहूर्त, जानें पूजा विधि और महत्व

awlavishnu
 
* आंवला नवमी पर करें आंवले के वृक्ष की पूजा, हर मनोकामना होगी पूरी... * आंवला नवमी : जानें पूजा विधि और पूजन का शुभ मुहूर्त एवं व्रतकथा>  
आंवला भगवान विष्णु का पसंदीदा फल है। आंवले के वृक्ष में समस्त देवी-देवताओं का निवास होता है इसलिए आंवला नवमी के दिन इसकी पूजा करने का विशेष महत्व होता है। इस दिन द्वापर युग का प्रारंभ हुआ था। भारतीय सनातन पद्धति में आंवला नवमी की पूजा को महत्वपूर्ण माना गया है। आंवला नवमी को अक्षय नवमी के रूप में भी जाना जाता है। कार्तिक माह शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन इस वर्ष रविवार, 29 अक्टूबर को मनाई जा रही है।
 
पूजन के शुभ मुहूर्त का समय- रविवार, 29 अक्टूबर। सुबह 6.34 मिनट से दोपहर 12.04 मिनट तक रहेगा। पूजन के लिए 5 घंटे 29 मिनट का समय शुभ माना गया है। 
 
पूजन का महत्व- इस दिन पुत्ररत्न तथा सुख-सौभाग्य व समृद्धि की कामना से महिलाएं आवंले के वृक्ष का पूजन करती हैं। 108 बार परिक्रमा कर वृक्ष की जड़ को दुग्ध की धार अर्पित करती हैं। पूजन पश्चात ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त करती हैं। इस व्रत को खासतौर पर कार्तिक स्नान करने वाली महिलाएं करती हैं।
 
आंवला नवमी खासकर महिलाओं द्वारा यह नवमी पुत्ररत्न की प्राप्ति के लिए मनाई जाती है। कहा जाता है कि यह पूजा व्यक्ति के समस्त पापों को दूर कर पुण्य फलदायी होती है जिसके चलते कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को महिलाएं आंवले के पेड़ की विधि-विधान से पूजा-अर्चना कर अपनी समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए प्रार्थना करती हैं।
 
जानिए क्या करें इस दिन ?
 
आंवला नवमी पर आंवले के वृक्ष के पूजन का महत्व है। इस दिन आंवले के वृक्ष के नीचे पूर्व दिशा में बैठकर पूजन कर उसकी जड़ में दूध देना चाहिए। इसके बाद पेड़ के चारों ओर कच्चा धागा बांधकर कपूर बाती या शुद्ध घी की बाती से आरती करते हुए 7 बार परिक्रमा करनी चाहिए। इस दिन महिलाएं किसी ऐसे गार्डन में जहां हो, वहां जाकर वहीं भोजन करती हैं।
 
क्या कहती हैं प्राचीन परंपरा
 
अक्षय नवमी पर नगर प्रदक्षिणा करने से पूरे कार्तिक मास में किए गए दान-पुण्य तथा प्रदक्षिणा का फल मिलता है। वर्तमान में इसकी जानकारी कम लोगों को है लेकिन जिन्हें है, वे पूरी श्रद्धा से प्रदक्षिणा कर धर्मलाभ लेते हैं। इस दिन कई स्थानों पर नगर प्रदक्षिणा की परंपरा भी है।
 
कैसे करें आंवला नवमी पर पूजन
 
* कार्तिक शुक्ल नवमी के दिन महिलाएं सुबह से ही स्नान-ध्यान कर आंवले के वृक्ष के नीचे पूर्व दिशा में मुंह करके बैठती हैं।
 
* इसके बाद वृक्ष की जड़ों को दूध से सींचकर उसके तने पर कच्चे सूत का धागा लपेटा जाता है।
 
* तत्पश्चात रोली, चावल, धूप दीप से वृक्ष की पूजा की जाती है।
 
* महिलाएं आंवले के वृक्ष का पूजन कर 7 या 108 परिक्रमाएं करती हैं।
 
* उसके बाद भोजन करने का विधान है जिसके प्रभाव से मनुष्य रोगमुक्त होकर दीर्घायु बनता है।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है आपकी राशि का उपाय
किसी से कोई वस्तु मुफ्त में न लें। लाल रंग का रूमाल हमेशा प्रयोग करें।लाल किताब के ...

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग
योग यानी जुड़ना और जुड़ना जिससे भी सच्चे मन से हो जाए, उससे ही योग लग जाता है। जब किसी को ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राहु के बारे ...

कर्ज से मुक्ति हेतु करें हनुमानजी के ये 4 उपाय

कर्ज से मुक्ति हेतु करें हनुमानजी के ये 4 उपाय
यदि किसी कारणवश आप कर्ज में डूब गए हैं या कर्ज से परेशान हैं तो हनुमान भक्ति से कर्ज से ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो यह 6 उपाय आजमाएं
परिश्रम से बड़ा कोई धन नहीं। लेकिन सांसारिक सुखों को हासिल करने के लिए जो धन चाहिए वह अगर ...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...
बुध ज्ञान का कारक शत्रु चन्द्र की राशि कर्क में 25 जून, सोमवार से आ रहा है, इसके साथ ही ...

भीष्म पितामह का वध कैसे हुआ, जानिए रहस्य

भीष्म पितामह का वध कैसे हुआ, जानिए रहस्य
फिर पांडव पक्ष युद्ध क्षे‍त्र में भीष्म के सामने शिखंडी को युद्ध करने के लिए लगा देते ...

भगवान राम ने इस तरह ढूंढा था सेतु बनाने का स्थान

भगवान राम ने इस तरह ढूंढा था सेतु बनाने का स्थान
पंचवटी (नासिक) में माता सीता का अपहरण होने के बाद प्रभु श्रीराम सर्वतीर्थ (जटायु का वध ...

निर्जला एकादशी 2018 : जानें पूजन का शुभ समय और दान करने का ...

निर्जला एकादशी 2018 : जानें पूजन का शुभ समय और दान करने का मंत्र
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की निर्जला एकादशी सभी एकादशियों में ...

निर्जला एकादशी पर क्यों करें शीतल जल का वितरण, क्या मिलता ...

निर्जला एकादशी पर क्यों करें शीतल जल का वितरण, क्या मिलता है इसका फल, जानिए...
निर्जला एकादशी के दिन भगवान विष्णु की आराधना की जाती है। आर्थिक रूप से समर्थवान लोग ...

राशिफल