युद्ध का नया स्थल- 'सोशल मीडिया'

- प्रवीन शर्मा
नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का 22 दिसम्बर 2017 का वह ट्वीट सभी को याद होगा, जिसमें उन्होंने जानकारी दी थी कि मोबाइल डेटा का उपयोग करने वाले देशों की श्रृंखला में भारत ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। यह बहुत गर्व की बात है, हमारा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है। वहीं दूसरी ओर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, प्रिंट मीडिया तथा सोशल मीडिया ने बताया कि यह स्थान कोई आम स्थान नहीं है क्योंकि प्रतिमाह भारत में 150 गेगाबाइट का कंसम्पशन हो रहा है और यह चीन तथा यूएसए के जोड़ से भी अत्यधिक है। एक चीज में भारत और आगे बढ़ रहा है, जिसकी वजह से पूरा संसार परेशान है।


प्रतिदिन सुप्रभात तथा शुभरात्रि के संदेशों की वजह से की स्पेस भर रही है और इसका पूरा श्रेय भारतीयों को ही मिला है। अगर फ्री डेटा की लुभाने वाली स्कीम कुछ साल पहले आ गई होतीं तो शायद हमारे देश ने बहुत पहले ही यह उपलब्धि हासिल कर ली होती, क्योंकि पहले भी व्यक्ति खाली था, आज भी खाली है, कोई बदलाव नहीं आया है। फर्क बस इतना है कि पहले खाली समय व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं के बारे में सोचता था और आज व्यक्ति सिर्फ सोशल मीडिया पर बैठकर बिना सोचे-समझे चीजें पोस्ट करता है, किसी भी प्रकार की टिप्‍पणी करता है, सांझा करता है, और अब तो पसन्द करने के भी नए-नए तरीके आ गए हैं। सांझा करते वक्त व्यक्ति यह तक सोचने की जरूरत नहीं समझता है कि आखिर एक बार उसकी असलियत का पता तो लगा लें कि वह सत्य भी है अथवा नहीं।

बिना समय गंवाए वह बीस से तीस लोगों को उस गलत खबर जैसी हानिकारक बीमारी की चपेट में ले आता है, जिसके कारण एक नई अफवाह का जन्म होता है और वह अफवाह कब वास्तविकता में तब्दील हो जाती है पता ही नहीं चलता। इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण हमारी जेब में पड़ा दस रुपए का सिक्का है, अफवाहों का दौर कुछ इस तरह चला कि दस का सिक्का तो था, पर हम कुछ वस्तु नहीं खरीद सकते थे क्योंकि देश में ऐसी अफवाह फैल गई कि दस रुपए का सिक्का बंद हो चुका है जिसकी वजह से अधिकतर विक्रेताओं ने सिक्का लेने से मना कर दिया। पिछले कुछ वर्षों पहले सोशल मीडिया पर लोगों की संख्या कम थी, या यूं कहें कि पढ़े-लिखे लोगों की संख्या ज्यादा थी। डिग्रीधारक ही सिर्फ पढ़ा-लिखा नहीं होता, या शायद कुछ डिग्रीधारक पढ़े-लिखे नहीं समझे जाते। इसका मुख्य कारण शिक्षा व्यवस्था भी रही है।

कुछ वर्षों में सोशल मीडिया बिलकुल बदल गया है, कुछ समय पूर्व पोस्ट आते थे- इसको लाइक या टिप्‍पणी करो शाम तक अच्छी खबर मिलेगी, इसको आगे ग्यारह लोगों को भेजो आपके साथ कुछ अच्छा होगा, आदि, परन्तु आज की पोस्ट तो इसके विपरीत हैं- एक हिन्दू ने कहा, इस पर सौ लाइक्स भी नहीं आ सकते, एक मुसलमान ने कहा है कि देखते हैं कितना दम है हिन्दुओ में इस पर दो सौ शेयर भी न होंगे, आदि। क्या सही में कोई किसी जाति, धर्म, समुदाय के बारे में ऐसा कह सकता है? परंतु आज सोशल मीडिया ऐसी चीजों से भरा पड़ा है। वहीं दूसरी ओर इसको सांझा तथा बढ़ावा देने वालों की कमी भी नहीं है। ऐसी चीजें आती कहां से हैं? किसके पास इतना समय है? यह सब व्यक्तिगत फायदे के लिए है, या दो गुटों के बीच आपसी रंजिश को बढ़ावा देना इसका मकसद है या कहीं यही नया रोजगार तो नहीं? पोस्ट तो बहुत से हैं, परन्तु कुछ सही में विवादास्पद होते हैं। जैसे- दो दिल, पहला भारत तथा दूसरा पाकिस्तान।

सवाल- आपका दिल कौनसा है? क्या सही में फर्क है दो दिलो में? जैसा उनका है वैसा ही आपका है। कोई भी इस गलत चीज को गलत नहीं कहता क्योंकि आज के दौर में गलत चीज को गलत बोलने पर देशद्रोह का इल्जाम लग जाता है, परंतु आज के युग में ऐसे पोस्टों को ज्यादा पसंद किया जाता है, इन पोस्टों पर टिप्पणियां तथा शेयर्स की संख्या एक ज्ञानवर्धक पोस्ट से अधिक होती हैं। हमारे देश में ऐसी पोस्टों पर लड़ने वालों की कमी नहीं है। आज व्यक्ति ज्ञानी तो है, पर बस उतना ही जानता है, जितना सोशल मीडिया ने उसको बता दिया, ऐसे ज्ञान से रोजगार तो मिलता नहीं, शायद इसीलिए वह फिल्म, जाति, धर्म, हिन्दू-मुसलमान जैसी चीजों में फंसा हुआ है। सोशल मीडिया का पूर्ण इस्तेमाल कश्मीर में हो रहा है जहां उग्रवादी आम जनता को भड़काकर उग्रवाद को बढ़ावा दे रहे हैं, सिर्फ वहीं नहीं, बल्कि हर जगह जहां भी दंगे होते हैं, उसको भड़काने में सोशल मीडिया सहायक के रूप में कार्य करता है। क्या इन चीजों को रोका नहीं जा सकता?

आधुनिकता के इस दौर में क्या यह पता लगा पाना मुमकिन नहीं की, आखिर कहां से आ रहे हैं, यह सब विवादास्पद तथ्य? आज चीन संपन्‍न देशों की श्रेणी में काफी अच्छे स्थान पर है। वहां हर घर में रोजगार का साधन है। शायद यह इसलिए है क्योंकि वे लोग अपने खाली समय में अपने रोजगार तथा जरूरत के बारे में सोचते हैं। इसका मुख्य कारण सोशल मीडिया पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। भारत में इस पर प्रतिबंध लगाने से शायद युवा अपनी जरूरत को समझ सकेगा, अपने परिवार के बारे में भी शायद सोचने लगे? राजनीति वाले पोस्ट तो समझ आते हैं कि ऐसे क्यों हैं और यह कहां से आए हैं? प्रतिबंध या रोकथाम से राजनीति में इसका काफी गहरा असर पड़ेगा। उन बेचारों की क्या गलती। झूठी अफवाहें सोशल मीडिया से ही आती हैं। सोशल मीडिया तथा नेताओं की बातें सफेद झूठ के अलावा और कुछ नहीं हैं। इसलिए आज के युवा को सोशल मीडिया का उपयोग अत्यंत सीमित कर देना चाहिए।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी यह 6 बातें -
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर सेहत समस्याएं
बरसात के दिनों में कपड़े आसानी से सूख नहीं पाते और कई बार ये थोड़े ठंडे भी होते हैं ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे छुड़ाएं इनसे पीछा
चाहे आपका नैन-नक्श कितना ही लुभावना क्यों न हो, चाहे आपकी स्किन कितनी ही गोरी क्यों न हो ...

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत
थर्मोकोल से बने डिस्पोजल प्लेट, गिलास और दोने के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाने के हिमाचल सरकार ...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...
तुम्हारी देह और हमारे मन को जलाते अंगारों में हवा में घुल चुके तुम्हारे ही विचारों में ...

अटलजी को सादर नमन अर्पित करती कविता : देशप्रेम के गीत ...

अटलजी को सादर नमन अर्पित करती कविता : देशप्रेम के गीत गुनगुनाऊंगा
कुछ ही लोगों से सभी का नाता होता है नाता आदर्शों का, प्रेरणा का, सेवाभाव का, देशप्रेम के ...