शुद्ध पर्यावरण की चाह है लेकिन करते क्या हैं इसके लिए


वैज्ञानिक आकलन करते हैं। कोपेनहेगेन में सम्मेलन होते हैं और प्रेमी पर रैली निकाल कर संतुष्ट हो लेते हैं। बाजारवाद के चलते न किसी उद्योगपति की इसमें रुचि है और न ही राजनीतिज्ञ की। धरती के गर्भ से लगातार प्राकृतिक संसाधनों का दोहन किया जा रहा है, जिसके कारण धरती इसके दुष्परिणाम भुगत रही है।
डेढ़ वर्ष पूर्व जीइओ-4 ने चेताया था कि यदि आर्थिक विकास के नाम पर प्राकृतिक संसांधनों का इसी तरह दोहन होता रहा तो आने वाले 150 वर्ष में जलवायु परिवर्तन के चलते धरती का पर्यावरण किसी भी प्राणी और मानव के रहने लायक नहीं रह जाएगा।

हजारों फिट नीचे खदान से कोयला और हीरा निकाला जाता है। बोरिंग के प्रचलन के चलते जगह-जगह से धरती में छिद्र कर दिए गए है। पहले वृक्ष कटते थे अब जंगल कटते हैं। पहाड़ कटते हैं। नदियों को प्रदूषित कर दिया गया है और समुद्र के भीतर भी खुदाई का काम जारी है। अंतरिक्ष में भी कचरा फैला दिया गया है।
उक्त सभी कारणों के चलते तूफानों और भूकंपों की संख्या बढ़ गई है। मौसम पूरी तरह से बदल गया है कहीं अधिक वर्षा तो कहीं सूखे की मार है। प्रकृति अपना रौद्र रूप दिखाकर बार-बार मानव को चेतावनी दे रही है, लेकिन मानव ने धरती पर हर तरह के अत्याचार जारी रखे हैं।


खेतों की जगह तेजी से कालोनियां ले रही है। शहरी और ग्रामीण विकास के चलते अंधाधुंध वृक्ष काटे जा रहे हैं। चिपको आंदोलन अब कहीं नजर नहीं आता। हरित क्रांति के नाम पर शुरुआत में रासायनिक खाद और तमाम तरह के जहरीले उत्पादन बेचे गए और जब इसके नुकसान सामने आने लगे तो बाजारवादी ले आए हैं जैविक खाद का नया फंडा।
ग्लेशियर पिघल रहे हैं। इसके पिघलने से धरती के तापमान में वृद्धि हो रही है। ग्रीन हाऊस गैसों के 'प्रमुख उत्सर्जक देशों' में अमेरिका सबसे आगे है। नवीनत आँकड़े कहते हैं कि वैश्विक कार्बन डाइ ऑक्साइड उत्सर्जन में अमेरिका तथा चीन का हिस्सा लगभग 20 प्रतिशत है।

वैज्ञानिकों ने अतीत और वर्तमान के आंकड़े इकठ्ठे कर कम्प्यूटर में दर्ज कर जब तीस साल के बाद की पृथ्‍वी के हालात जानना चाहे तो पता चला कि धरती का तापमान पूरे एक डिग्री बढ़ चुका है। हिमालय के ग्लेशियरों के पिघलने की गति बढ़ती जा रही है, समुद्र का स्तर 1.5 मिलीमीटर प्रतिवर्ष बढ़ रहा है और अमेजन के वर्षा वन तेजी से खत्म होने के लिए तैयार है बस यह तीन स्थिति ही धरती को खत्म करने के लिए काफी है। यह स्थिति क्यों बनी जरा इस पर सोचे।
समुद्र, जंगल और ग्लेशियर यह तीनों मिलकर धरती की 90 प्रतिशत गर्मी को तो रोक ही लेते हैं साथ ही धरती के 'वेदर' और 'क्लाइमेट' को जीवन जीने के लायक बनाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पिछले कुछ वर्षों में बाजारवाद, साम्राज्यवाद और जनसंख्या विस्फोट के चलते तीनों को तेजी से नुकसान पहुँचा है। इस नुकसान के भयानक परिणाम सामने आने के बाद भी राजनीतिज्ञों और ताकतवर लोगों की नींद नहीं टूटी है।
तमाम तरह का औद्योगिक उत्पादन और उसका कचरा समेटे नहीं सिमट रहा है तो कुछ को समुद्र में और कुछ को इस कदर जलाया जा रहा है, जिससे आसमान के नीले और सफेद रंग को भी अपने नीले और सफेद होने पर सोचना पड़ रहा है। अब एकदम साफ आसमान की कल्पना धूमिल होती जा रही है। दुनिया के हर बंदरगाह की हालत खराब हो चली है। समुद्र और आसमान को स्वच्छ रखना मुश्‍किल होता जा रहा है।

न्यूक्लियर टेस्ट तो बहुत बड़ी घटना है, लेकिन छोटी-छोटी घटनाओं से ही धरती माता का दिल दहल जाता है। अमेरिका या ब्रिटेन जैसे विकसित राष्‍ट्रों में पुरानी बिल्डिंग या स्‍टेडियम को गिराने के लिए धरती के भीतर 50-50 टन डाइनामाइट लगाए जाते हैं। इससे धरती भीतर से टूटती जा रही है।
अरब के एक खरबपति द्वारा दुबई के समुद्र में विशालकाय टापू बनाया जा रहा है जहां दुनिया की सबसे खूबसूरत बस्ती बसाई जाएगी। इस टापू को बनाने के लिए अरब के कई पहाड़ों को मौत की सजा दी जा रही है। उक्त टापू को बनाने के लिए उस समुद्री स्थान पर रोज हजारों टन पत्थर पहुंचता है। इस तरह की उथल-पुथल वहीं नहीं चीन, जापान, रशिया, अमेरिका आदि जगह पर हो रही है जो धरती को धरती नहीं रहने देगी।

इस धरती के पर्यावरण को बिगाड़ने के लिए प्रत्येक व्यक्ति, संस्था, समाज, संगठन और राष्ट्र जिम्मेदार है। सभी अपने-अपने स्तर पर धरती को नुकसान पहुंचाने में लगे हैं।
हर साल किसी न किसी देश में जलवायु परिवर्तन पर सम्मेलन होते हैं। रियो डी जेनेरियो में पर्यावरण को लेकर विकसित और विकासशील राष्ट्र कई दफे इकठ्ठे हुए, फिर वे ही जिनेवा में भी मिटिंग करते हैं। लेकिन क्या इसका कोई परिणाम निकला? यही सब सोचते हुए लगता है आखिर कौन चाहता है पर्यावरण का संरक्षण करना? या कहें कि चाहते तो सब हैं लेकिन अपने स्तर पर करते कुछ नहीं हैं...

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज
बीते सप्ताह सोशल मीडिया पर दो महाराज छाये रहे। इन्दौर में रहने वाले भय्यू महाराज ने गत ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

भारतीय वायुसेना में निकली नौकरी, एक लाख रुपए वेतन, ऐसे करें ...

भारतीय वायुसेना में निकली नौकरी, एक लाख रुपए वेतन, ऐसे करें आवेदन
अगर सेना में शामिल होकर देशसेवा के साथ एक प्रतिष्ठित नौकरी करना चाहते हैं तो यह आपके लिए ...

शनि का खौफ दिखाकर पाली का मदनलाल बन गया दाती महाराज

शनि का खौफ दिखाकर पाली का मदनलाल बन गया दाती महाराज
'शनि शत्रु नहीं मित्र है', इस वाक्य से जनमानस में चर्चित होने वाले दाती महाराज पर आश्रम ...

अब रेलगाड़ियों में भी उन्नत वैक्यूम बायो टॉयलेट

अब रेलगाड़ियों में भी उन्नत वैक्यूम बायो टॉयलेट
नई दिल्ली। भारतीय रेल की लगभग सभी रेलगाड़ियों में बायो टॉयलेट लगाने के बाद अब उनकी जगह ...

योग दिवस पर पीएम मोदी बोले, योग ने दिखाई रोग से निरोग की

योग दिवस पर पीएम मोदी बोले, योग ने दिखाई रोग से निरोग की राह
देहरादून। शहर के वन अनुसंधान संस्थान परिसर में 50 हजार से ज्यादा लोगों के साथ गुरुवार ...

भाजपा नेताओं का बड़ा ऐलान, औरंगजेब की हत्यारे आतंकियों को ...

भाजपा नेताओं का बड़ा ऐलान, औरंगजेब की हत्यारे आतंकियों को मारने पर 21 लाख का इनाम
नई दिल्ली। भाजपा के एक सांसद और एक विधायक ने सेना के जवान औरंगजेब की गोली मारकर हत्या ...

भारतीय वायुसेना के जाबांजों ने 15 हजार फीट की ऊंचाई पर ...

भारतीय वायुसेना के जाबांजों ने 15 हजार फीट की ऊंचाई पर आसामान में किया योग
नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना के जाबांजों ने योग का शानदार प्रदर्शन करते हुए करीब 15,000 फीट ...

देहरादून में 50 हजार लोगों के साथ पीएम मोदी का योग, 150 से ...

देहरादून में 50 हजार लोगों के साथ पीएम मोदी का योग, 150 से अधिक देशों पर मनाया जा रहा है योग दिवस
देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को योग दिवस के अवसर पर देहरादून 50000 ...

उरुग्वे ने 64 साल बाद विश्व कप में दोनों शुरुआती मैच जीतकर ...

उरुग्वे ने 64 साल बाद विश्व कप में दोनों शुरुआती मैच जीतकर अंतिम 16 में प्रवेश किया
रोस्तोव ऑन दान (रूस)। लुई सुआरेज ने अपने 100वें अंतरराष्ट्रीय मैच को यादगार बनाकर आज यहां ...

Xiaomi ने लांच‍ किया Redmi y2, 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा

Xiaomi ने लांच‍ किया Redmi y2, 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा
शिओमी ने अपना स्मार्ट फोन Redmi y2 भारत में लांच कर दिया है। एक इंवेंट में इस फोन को लांच ...

दोबारा घटे सैमसंग के इस स्मार्ट फोन के दाम, 2000 रुपए हुआ ...

दोबारा घटे सैमसंग के इस स्मार्ट फोन के दाम, 2000 रुपए हुआ सस्ता
सैमसंग ने गैलेक्सी जे 7 प्रो की कीमत में दोबारा कटौती की है। फोन में 2,000 रुपए की कटौती ...

भारत में शुरू हुई नोकिया के इस सस्ते फोन की बिक्री, जानिए ...

भारत में शुरू हुई नोकिया के इस सस्ते फोन की बिक्री, जानिए फीचर्स
नोकिया का Nokia 8110 4G 'Banana' भारत में बिक्री के उपलब्ध हो गया है। नोकिया ने इसे ...

Xiaomi Mi 8 SE: दुनिया का पहला स्मार्टफोन जिसमें लगा है ...

Xiaomi Mi 8 SE: दुनिया का पहला स्मार्टफोन जिसमें लगा है शक्तिशाली स्नैपड्रैगन 710 प्रोसेसर, कीमत जानकर उछल जाएंगे!
चीनी कंपनी शाओमी ने शुक्रवार को चीन में स्मार्टफोन मी 8 का एक छोटा वेरियंट लॉन्च किया। यह ...

3000 की छूट, कैशबैक ऑफर और Vivo X21 के साथ फ्री मिलेंगी ये ...

3000 की छूट, कैशबैक ऑफर और Vivo X21 के साथ फ्री मिलेंगी ये एसेसरीज
वीवो ने अपना नया स्मार्ट फोन X21 भारत में लांच कर दिया है। वीवो इस फोन को ई-कॉमर्स ...