Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

भारत में पैदा होगा दुनिया का 'मुक्तिदाता'

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
संकलन: अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'

एशिया में सैन्य तनाव अपने चरम पर है। भारत-पाकिस्तान, उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया, चीन-ताइवान आदि देशों के अलावा बर्मा, बांग्लादेश, श्रीलंका जैसे छोटे देश भी असंतोष की आग में जल रहे हैं। यहां प्रस्तुत है भारत के संदर्भ में नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियां।


'भारत में वह होगा जो दुनिया में नहीं होगा। एक गरीब घर में पैदा होगा दुनिया का मुक्तिदाता और पहले सब लोग उससे नफरत करेंगे लेकिन बाद में सभी उससे प्यार करेंगे। उनका नाम होगा....

नास्त्रेदमस के बारे में : 14 दिसंबर 1503 को फ्रांस में जन्मे नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणियां सौ छंदों के अनेक शतकों में की हैं। ऐसे शतकों की संख्या बारह है जिनमें से अंतिम दो शतकों के अनेक छंद उपलब्ध नहीं हैं। इन शतकों को सेंचुरी कहा गया है। नास्त्रेदमस की इस कालगणना के अनुसार हम चन्द्रमा की द्वितीय महान चक्र अवधि से गुजर रहे हैं, जो सन् 1889 से शुरू हुई है और सन् 2243 में समाप्त होगी। नास्त्रेदमस के अनुसार, यह अवधि मनुष्य जाति के लिए रजतयुग है। नास्त्रेदमस ने ये भविष्यवाणियां लगभग 499 वर्ष पहले की थीं।

नास्त्रेदमस के अनुसार तीसरे महायुद्ध की स्थिति सन् 2012 से 2025 के मध्य उत्पन्न हो सकती है। तृतीय विश्वयुद्ध में भारत शांति स्थापक की भूमिका निबाहेगा। सभी देश उसकी सहायता की आतुरता से प्रतीक्षा करेंगे। नास्त्रेदमस ने तीसरे विश्वयुद्ध की जो भविष्यवाणी की है उसी के साथ उसने ऐसे समय एक ऐसे महान राजनेता के जन्म की भविष्यवाणी भी की है, जो दुनिया का मुखिया होगा और विश्व में शांति लाएगा। लेकिन यह महान व्यक्ति कहां जन्म लेगा इस बात को लेकर मतभेद हैं।

हालांकि ज्यादातर जानकार मानते हैं कि दुनिया का 'मुक्तिदाता' भारत में ही जन्म लेगा। कहीं ऐसा तो नहीं कि उस 'महापुरुष' ने जन्म ले लिया हो और वह राजनीति में सक्रिय भी हो। वह राजनेता होगा या धर्मयोद्धा यह कहना मुश्किल है।

नास्त्रेदमस ने इस संबंध में बहुत-सी भविष्यवाणियां की हैं। यहां कुछ का उल्लेख करेंगे।

 

अगले पन्ने पर पढ़ें...पहली भविष्यवाणी

Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine