अंगुलियां चटकाने पर क्यों होती है आवाज़?

पुनः संशोधित सोमवार, 2 अप्रैल 2018 (14:52 IST)
वैज्ञानिकों का ध्यान लोगों की सबसे अजीब आदतों में से एक पर है- अंगुलियां चटकाने पर आवाज़ क्यों होती है?
अमेरिका और फ्रांस के शोधकर्ताओं का कहना है कि इसका कारण के तीन समीकरणों की मदद से बताया जा सकता है। उनके मॉडल से ये साबित होता है कि ये आवाज़ हड्डियों के जोड़ में जो तरल पदार्थ होता है, उसमें बुलबुले फूटने की वजह से होती है।

हैरानी की बात ये है कि इस प्रक्रिया पर एक पूरी सदी तक बहस होती रही। फ्रांस में विज्ञान के छात्र विनीत चंद्रन सुजा क्लास में अपनी अंगुलियां चटका रहे थे जब उन्हें इसके बारे में पता लगाने का ख़्याल आया।
उन्होंने अपने अध्यापक डॉ. अब्दुल बरकत के साथ गणितीय समीकरणों की एक सिरीज़ तैयार की जिसकी मदद से बताया जा सके कि अंगुलियों और कलाई के जोड़ों को चटकाने पर आवाज़ क्यों और कैसे आती है।

फूटते हैं बुलबुले
उन्होंने बीबीसी को बताया, "पहले समीकरण से पता चला कि जब हम अपनी अंगुलियां चटकाते हैं, हमारी हड्डियों के जोड़ों में अलग-अलग दबाव होता है।"

"दूसरे समीकरण से पता चलता है कि अलग दबाव से बुलबुलों का साइज़ भी अलग होता है।"
"तीसरा समीकरण में हमने अलग-अलग साइज़ वाले बुलबुलों को, आवाज़ करने वाले बुलबुलों के साइज़ के साथ जोड़ा।"

चंद्रन सुजा ने बताया कि इन सभी समीकरणों से एक पूरा गणित मॉडल बन गया जो अंगुली चटकने की आवाज़ के बारे में बताता है। चंद्रन इस वक्त कैलिफोर्निया के स्टेनफोर्ड विश्वविद्यालय में पोस्टग्रेजुएशन कर रहे हैं।

जब हम अपनी अंगुलियां चटकाते हैं तो हम अपने जोड़ों को खींच रहे होते हैं। और जब हम ऐसा करते हैं तो दबाव कम होता है। बुलबुले तरल के रूप में होते है जिसे साइनोवियल फ्लूड कहा जाता है। अंगुलियां चटकाने की प्रक्रिया में जोड़ों का दबाव बदलता है और उससे बुलबुले भी तेज़ी से घटते-बढ़ते हैं और इसी से आवाज़ पैदा होती है।
विपरीत सिद्धांत
इस मॉडल से दो विपरीत थ्योरी यानी सिद्धांतों में एक संबंध बनता नज़र आता है। बुलबुले के फूटने से आवाज़ पैदा होती है, ये बात पहले 1971 में सामने आई थी। लेकिन 40 साल बाद इसे नए प्रयोगों के बाद चुनौती दी गई जिसमें बताया गया कि बुलबुले अंगुलियां चटकाने के काफी देर बाद भी फ्लयूड में बने रहते हैं।

इस नए मॉडल के बाद ये मुद्दा हल होता दिख रहा है क्योंकि इसके मुताबिक कुछ बुलबुलों के फूटने से ही आवाज़ पैदा होती है। इसलिए, अंगुलियां चटकने के बाद भी छोटे बुलबुले तरल में बने रहते हैं।
इस स्टडी को सांइटिफिक रिपोर्ट्स जरनल में प्रकाशित किया गया है जिससे पता चलता है कि बुलबुले फूटने से जो दबाव पैदा होता है उससे वेव पैदा होती है जिसे गणित के समीकरणों से समझा जा सकता है और मापा जा सकता है। इससे ये भी पता चलता है कि कुछ लोग अपनी अंगुलियां क्यों नहीं चटका पाते हैं। अगर आपकी अंगुलियों के टखनों की हड्डियों में ज्यादा जगह है तो दबाव उतना नहीं हो पाता कि आवाज़ पैदा करे।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :