सन्धिवात (गठिया) की चिकित्सा

ND|
* सोंठ और एरण्ड बीज की गिरि 10-10 ग्राम दूध के साथ पीसकर गाढ़ा लेप तैयार करें। दर्द वाले अंगों पर इस लेप को लगाकर सूखने दें और फिर पट्टी बांध दें। इस लेप से दर्द बंद हो जाता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा
* पंचामृत लौह गूगल, रसोनादि गूगल और रास्नाशल्लकी वटी तीनों 1-1 गोली सुबह व रात को सोने से पहले दूध के साथ 2-3 माह तक लेना चाहिए।

* इसी के साथ, भोजन के बाद आधा कप पानी में अश्वगन्धारिष्ट, महारास्नादि काढ़ा और दशमूलारिष्ट तीनों 2-2 चम्मच डालकर दोनों वक्त पिएं।
* महानारायण तेल, महाविषगर्भ तेल, पीड़ा शामक तेल तीनों 50-50 ग्राम लेकर एक बड़ी शीशी में डालकर हलके हाथ से मालिश करें। यह चिकित्सा सन्धिवात रोग को दूर करने में सफल सिद्ध होती है।

सावधानी : सन्धिवात रोग पाचन संस्थान से शुरू होता है, इसलिए सुपाच्य, सादा और ताजा आहार ही लेना चाहिए, जो पूरी तरह पच सके। ऐसे पदार्थों का भूलकर भी सेवन नहीं करना चाहिए, जो पचने में भारी हों, देर से पचते हों और आंव तथा कब्ज पैदा करने वाले हों।
* दर्द दूर करने के लिए 'भाप सेंक विधि' से जोड़ों को सेंकना चाहिए। एक तपेली में एक लीटर पानी डालकर इसमें एक मुट्ठीभर अजवायन और 10 ग्राम नमक डाल दें और आग पर उबलने के लिए रख दें। जब भाप उठने लगे, तब तपेली पर तार की जाली रख दें। दो नैपकिन लेकर पानी में गीले करके निचोड़ लें। इन कपड़ों को चार तह करके जाली पर रख दें। यह भाप लगने से गर्म हो जाए तब इसे उठाकर दूसरा कपड़ा या नैपकिन गर्म होने के लिए रख दें। गर्म किए गए पहले कपड़े को दर्द वाले अंग पर रखकर बारी-बारी से गर्म करते रहें यानी एक कपड़े से सेंक करें और दूसरा कपड़ा गर्म होने के लिए जाली पर रख दें।
प्रतिदिन 15-20 मिनट तक ऐसा करने से तुरंत राहत तो मिलती ही है, धीरे-धीरे दर्द होना बंद हो जाता है। घुटनों, टखनों, हथेलियों, तलुओं, कमर व पीठ में होने वाले हड्डी के जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए यह उपाय निरापद और तत्काल असर करने वाला है।

सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :