Widgets Magazine

5 उपाय दिलाए शत्रु पीड़ा से शर्तिया मुक्ति

Author पं. हेमन्त रिछारिया|


जीवन में ना चाहते हुए भी कभी न कभी किसी से शत्रुता हो ही जाती है। शत्रुता प्रकट हो या गुप्त सदैव कष्टकारक होती है। शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय हैं जिनके प्रयोग से आप शत्रुबाधा से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में जो आपको कर करते हैं-
1. पाशुपतास्त्र स्तोत्र- इस स्तोत्र का एक निश्चित संख्या में पाठ कर गुग्गल से हवन करने से शत्रुबाधा से मुक्ति मिलती है।
2. सर्वारिष्ट स्तोत्र- इस स्तोत्र का नियमित 43 दिन तक पाठ व हवन करने से शत्रुबाधा सहित समस्त अरिष्टों का नाश होता है।
3. बगुलामुखी अनुष्ठान- इस अनुष्ठान को विधिपूर्वक करने से होता है। 
 
4. बजरंग बाण- नियमित बजरंग बाण का पाठ करने से शत्रुपीड़ा से मुक्ति मिलती है।
 
5. श्वेतार्क मदार- श्वेतार्क मदार (सफ़ेद अकाव) की जड़ रवि-पुष्य, गुरु-पुष्य, होली, दीपावली, ग्रहण, सर्वार्थ सिद्धि योग में गले में धारण करने से शत्रुओं से सदैव रक्षा होती है।
(दुरुपयोग की आशंका के कारण उपरोक्त प्रयोगों की विस्तारित विधि यहां नहीं दी जा रही है।)
 
-ज्योतिर्विद पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine