एक आदिवासी लड़की की डायरी

NDND
सत्रह साल की एक लड़की टुनी मुदुली ने बेल्जियम में भारत का प्रतिनिधित्व किया और वह 'मुझे वहाँ से निकालो' (गेट मी आउट ऑफ देयर) अभियान में करोड़ों वंचित बच्चों की ओर से बोली। दरअसल वह अपनी निष्ठा और दृढ़ संकल्प की वजह से ही 'वहाँ से बाहर' आई है। वह अभी भी अवयस्क है लेकिन उसने अपनी जिंदगी में कई बाधाओं का सामना किया है और उनको पार किया है।

उड़ीसा के कोरापुट जिले में पश्चिमी घाटों में बसे एक अजनबी से गाँव की टुनी मुदुली पारजा जनजाति की पहली लड़की है जिसने दसवीं की परीक्षा पास की है। उसके बाद से उसने और भी कई सफलताएँ प्राप्त की हैं और अब वह डॉक्टरी पढ़कर लोगों की सेवा करना चाहती है।

टुनी अपने भाई-बहनों में सबसे अलग थी। उसके माता-पिता पेट भरने के लिए यहाँ से वहाँ मजदूरी करते फिरते थे। कई महीनों तक उन्होंने हैदराबाद के एक ईंट भट्टे में काम किया। काम पर जाने के लिए वे अपने बच्चों को अकेला छोड़ जाते। गाँव में दूसरी अन्य लड़कियों की तरह टुनी ने खाना बनाना तथा घर का दूसरा काम-काज सीख लिया था। लेकिन उसमें पढ़ने की एक अदम्य इच्छा हमेशा से रही थी। इसलिए जब उसके माता-पिता पदलाम और नबीना ने उसे गाँव से करीब 30 किलोमीटर दूर एक सरकारी आवासीय स्कूल में दाखिल कराया तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

कोरापुट जिले के नंदपुर ब्लॉक के बलादा सरकारी आवासीय स्कूल में उसने अपनी काबिलियत को साबित कर दिया। लेकिन जब वह चौथी
टुनी अब कई आदिवासी बच्चों के लिए एक अनुकरणीय उदाहरण है। न केवल उसके पिता बल्कि गाँववालों को भी उस पर गर्व है। प्रसन्न पदलाम कहता है, 'मुझे अभी भी नहीं पता है कि टुनी कहाँ गई थी, यह बेल्जियम है कहाँ। लेकिन अब मुझे भरोसा है कि कुछ सालों में ही वह डॉक्ट
कक्षा में थी, उस समय हैदराबाद में एक ईंट भट्टे में काम करते हुए उसकी माँ का देहांत हो गया। टुनी के लिए यह दोहरा झटका था- एक तो वह अपनी माँ की मौत से पहले ही टूट चुकी थी, ऊपर से उसके पिता ने उसे पढ़ाई छोड़कर घर संभालने को कहा।


हालाँकि टुनी के लिए शिक्षा सबसे बढ़कर थी, लेकिन उसने सोचा कि शायद उसके पिता ठीक कह रहे हैं। वह सोचती थी कि पढ़ाई जारी रखने से ज्यादा जरूरी परिवार की देखभाल करना था।

ND|
- रंजन के. पांड
एक स्थानीय कार्यकर्ता चौधरी संताकर टुनी की मदद कर रहा था। उसने बताया, 'टुनी ने पूरी तरह से घर संभाल लिया। आखिरकार, दस साल की उम्र में अपने परिवार की आमदनी बढ़ाने के इरादे से वह भी अपने भाई संजीत के साथ मजदूरी करने लगी।'

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....
आपका पहला पीरियड हो या अनगिनत बार आ चुके हों, इन्हें झेलना इतना आसान नहीं। मुश्किलभरे उन ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से पूछना चाहिए
क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने कभी एक लेडी डॉक्टर से मिलने की जरूरत नहीं समझी? आप ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी बढ़ाने के 5 टिप्स
घर या कमरे में कम रोशनी न केवल घर की सजावट को कम करती है बल्कि रहने वाले सदस्यों की सेहत ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास पाएं...
घर में सारा सामान सुव्यवस्थित जमा हुआ है फिर भी कुछ कमी लगती है? किसी नएपन के अहसास की ...

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद
चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के भाबरा नामक स्थान पर ...

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक आजाद 1920-21 के वर्षों में गांधीजी के असहयोग आंदोलन ...

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म अपनी अलग-अलग खूबियां रखते हैं। उन सबका उद्देश्य भी अलग-अलग ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के स्कूलों में सिख धर्म के बारे में होगी पढ़ाई
न्यूयॉर्क। अमेरिका में 70 प्रतिशत से ज्यादा नागरिकों को सिख धर्म की जानकारी नहीं होने के ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक है तो एक नजर इस पर जरूर डालें
ज्यादातर लोग जिम का भरपूर फायदा नहीं उठा पाते। कारण होता है गलत जिम का चुनाव। सवाल है ...