Widgets Magazine

'आतंकवाद का जिम्मेदार कौन?':- ओशो

आतंकवाद की घटना निश्चित रूप से उस सबसे जुड़ी है, जो समाज में हो रहा है। समाज बिखर रहा है। उसकी पुरानी व्यवस्था, अनुशासन, नैतिकता, धर्म सब कुछ गलत ...

Widgets Magazine

ओशो के 10 विवादित विचार, जानिए कौन से...

ओशो को हम क्या कहें- धर्मगुरु, संत, आचार्य, अवतारी, भगवान, मसीहा, प्रवचनकार, धर्म- विरोधी ...

जीवन को उत्सव बना लो -ओशो

तुम जैसे हो, उससे अन्यथा होने की चेष्टा न करो। आंख में आंसू नहीं आते, क्या जरूरत है? सूखी ...

मूर्ति-पूजा शब्द बिलकुल ही गलत है: ओशो

मूर्ति-पूजा का सारा आधार इस बात पर है कि आपके मस्तिष्क में और विराट परमात्मा के मस्तिष्क ...

मूर्ति पूजा का विज्ञान और रहस्य

osho जिन लोगों ने भी मूर्ति विकसित की होगी, उन लोगों ने जीवन के परम रहस्य के प्रति सेतु बनाया ...

ओशो की प्रमुख 10 किताबें, जानिए कौन-सी

ओशो रजनीश ने किसी विषय पर लेक्चर नहीं दिए, यह एक शोध का विषय हो सकता है। ओशो के विचारों ...

मृत्‍यु की ठीक-ठीक भविष्‍यवाणी, जानिए

....तो इसे दो प्रकार से जाना जा सकता है। या तो प्रारब्‍ध को देखकर या फिर कुछ लक्षण और पूर्वाभास है जिन्‍हें देखकर जाना जा सकता है। उदाहरण के ...

ज्‍योतिष भविष्‍य में देखने की प्रक्रिया: ओशो

भविष्‍य एकदम अनिश्‍चित नहीं है। हमारा ज्ञान अनिश्‍चित है। हमारा अज्ञान भारी है। भविष्‍य में हमें कुछ दिखाई नहीं पड़ता। हम अंधे हैं। भविष्‍य का ...

ईसा मसीह सूली से कैसे बच गए?

यह बहुत अच्‍छा हुआ कि जीसस और मोजेज (मूसा) दोनों की मृत्यु भारत में ही हुई। भारत न तो ईसाई है और न ही यहूदी। परंतु जो आदमी या जो परिवार इन ...

ओशो या महाविनाश

यदि आपसे कहा जाए कि ईसा मसीह वहाँ गए थे जहाँ ओशो का जन्म होने वाला था तब शायद आप विश्वास नहीं करेंगे। लेकिन इस बात के सबूत हैं। आपसे यह कहा जाए ...

एक आग का नाम है ओशो

ओशो को हम क्या कहें धर्मगुरु, संत, अचार्य, अवतारी, भगवान, मसीहा, प्रवचनकार, धर्मविरोधी या फिर सेक्स गुरु। जो ओशो को नहीं जानते हैं और या जो ओशो ...

कामवासना का केंद्र सूर्य होता है : ओशो

कामवासना का केंद्र सूर्य होता है। इसीलिए तो कामवासना व्यक्ति को इतना ऊष्ण और उत्तेजित कर देती है। जब कोई व्यक्ति कामवासना में उतरता है तो वह ...

जीवन बंद मुट्ठी नहीं खुला हाथ है

जीवन में कोई रहस्य है ही नहीं। या तुम कह सकते हो कि जीवन खुला रहस्य है। सब कुछ उपलब्ध है, कुछ भी छिपा नहीं है। तुम्हारे पास देखने की आंख भर होनी ...

सेक्स का दमन ना करें: ओशो

'हमने सेक्स को सिवाय गाली के आज तक दूसरा कोई सम्मान नहीं दिया। हम तो बात करने में भयभीत होते हैं। हमने तो सेक्स को इस भांति छिपा कर रख दिया है ...

सफल प्रेम भी हो जाते हैं क्यों असफल- ओशो रजनीश

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, दुनिया में दो ही दुख हैं- एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए। और दूसरा दुख मैं कहता हूं कि पहले ...

अभिनय चोरी है या कला?

एक अमेरिकन अभिनेता का जीवन मैं पढ़ता था। कई बार संन्यासियों के जीवन थोथे होते हैं, उनमें कुछ भी नहीं होता। जिन्हें हम तथाकथित अच्छे आदमी कहते ...

भारतीय युवाओं, जवानी की आग पैदा करो...

हिंदुस्तान की जवानी तमाशबीन है। हम देखते रहते हैं खड़े होकर, जीवन का जैसे कोई जुलूस जा रहा है। पैसिव, रुके हैं, देख रहें हैं; कुछ भी हो रहा है! ...

ओशो रजनीश की आलोचना जरूरी?

ओशो को हम क्या कहें धर्मगुरु, संत, आचार्य, अवतारी, भगवान, मसीहा, प्रवचनकार, धर्मविरोधी या फिर सेक्स गुरु। जो ओशो को नहीं जानते हैं और या जो ओशो ...

ओशो- बच्चों को रोने से न रोकें....

मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि बच्चे के रोने की जो कला है, वह उसके तनाव से मुक्त होने की व्यवस्था है और बच्चे पर बहुत तनाव है। बच्चे को भूख लगी है और ...

Widgets Magazine

Widgets Magazine

संपादकीय

पठानकोट हमला : व्यवस्था के सूराखों से घायल स्वाभिमान

लाहौर में नवाज़ शरीफ़ के सिर सजी पठानी पगड़ी हवा में उछलकर अब ज़मीन पर पड़ी है। इस ग़ुलाबी पगड़ी का रंग भी ...

सोच समझ वालों को थोड़ी.... नादानी दे मौला

कैलेंडर के बदल जाने और उसी सूरज को नई रोशनी में देखकर सलाम करने की कवायद एक बार फिर सामने है। हम ...

नवीनतम

विदेशी खुफिया एजेंसियां कर रही है आतंकवाद को आर्थिक मदद : पाक सेना प्रमुख

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना के प्रमुख राहील शरीफ ने ‘दुश्मन’ विदेशी खुफिया एजेंसियों पर ...

जानिए कितनी खतरनाक परिस्थितियां हैं सियाचीन में...

भारतीय सेना के 10 जांबाज जवान बर्फ में दफन होने से सियाचीन में शहीद हो गए। लेकिन क्या आप जानते हैं ...

जरूर पढ़ें

जानें, कैसा है अमेरिकी लोकतंत्र...

अमेरिका में इस वर्ष के अंत में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए माहौल बनना शुरू हो गया है। ...

इंसानियत और धर्मनिरपेक्षता के सजग सिपाही का न रहना

निदा फ़ाज़ली के निधन से सबसे बड़ा नुकसान हुआ है धर्मनिरपेक्षता को। वे उर्दू के आम शायरों से इस माने ...

जनविश्वास को मोहित करतीं ये मनगढ़ंत कहानियां

आज हम उस अनोखे संसार में रह रहे हैं, जहां साजिश और षड्यंत्र की कहानियां धड़ाके से बनाई और बेची जा ...