खजुराहो- आध्‍यात्‍मिक सेक्‍स: ओशो

तंत्र ने सेक्‍स को स्प्रिचुअल बनाने का दुनिया में सबसे पहला प्रयास किया था। खजुराहो में खड़े मंदिर, पुरी और कोणार्क के मंदिर सबूत हैं। कभी आपने ...

Widgets Magazine

जीवन को उत्सव बना लो -ओशो

तुम जैसे हो, उससे अन्यथा होने की चेष्टा न करो। आंख में आंसू नहीं आते, क्या जरूरत है? सूखी ...

मूर्ति-पूजा शब्द बिलकुल ही गलत है: ओशो

मूर्ति-पूजा का सारा आधार इस बात पर है कि आपके मस्तिष्क में और विराट परमात्मा के मस्तिष्क ...

मूर्ति पूजा का विज्ञान और रहस्य

osho जिन लोगों ने भी मूर्ति विकसित की होगी, उन लोगों ने जीवन के परम रहस्य के प्रति सेतु बनाया ...

ओशो की प्रमुख 10 किताबें, जानिए कौन-सी

ओशो रजनीश ने किसी विषय पर लेक्चर नहीं दिए, यह एक शोध का विषय हो सकता है। ओशो के विचारों ...

मृत्‍यु की ठीक-ठीक भविष्‍यवाणी, जानिए

....तो इसे दो प्रकार से जाना जा सकता है। या तो प्रारब्‍ध को देखकर या फिर कुछ लक्षण और पूर्वाभास है जिन्‍हें देखकर जाना जा सकता है। उदाहरण के ...

ज्‍योतिष भविष्‍य में देखने की प्रक्रिया: ओशो

भविष्‍य एकदम अनिश्‍चित नहीं है। हमारा ज्ञान अनिश्‍चित है। हमारा अज्ञान भारी है। भविष्‍य में हमें कुछ दिखाई नहीं पड़ता। हम अंधे हैं। भविष्‍य का ...

ईसा मसीह सूली से कैसे बच गए?

यह बहुत अच्‍छा हुआ कि जीसस और मोजेज (मूसा) दोनों की मृत्यु भारत में ही हुई। भारत न तो ईसाई है और न ही यहूदी। परंतु जो आदमी या जो परिवार इन ...

ओशो या महाविनाश

यदि आपसे कहा जाए कि ईसा मसीह वहाँ गए थे जहाँ ओशो का जन्म होने वाला था तब शायद आप विश्वास नहीं करेंगे। लेकिन इस बात के सबूत हैं। आपसे यह कहा जाए ...

एक आग का नाम है ओशो

ओशो को हम क्या कहें धर्मगुरु, संत, अचार्य, अवतारी, भगवान, मसीहा, प्रवचनकार, धर्मविरोधी या फिर सेक्स गुरु। जो ओशो को नहीं जानते हैं और या जो ओशो ...

कामवासना का केंद्र सूर्य होता है : ओशो

कामवासना का केंद्र सूर्य होता है। इसीलिए तो कामवासना व्यक्ति को इतना ऊष्ण और उत्तेजित कर देती है। जब कोई व्यक्ति कामवासना में उतरता है तो वह ...

जीवन बंद मुट्ठी नहीं खुला हाथ है

जीवन में कोई रहस्य है ही नहीं। या तुम कह सकते हो कि जीवन खुला रहस्य है। सब कुछ उपलब्ध है, कुछ भी छिपा नहीं है। तुम्हारे पास देखने की आंख भर होनी ...

सेक्स का दमन ना करें: ओशो

'हमने सेक्स को सिवाय गाली के आज तक दूसरा कोई सम्मान नहीं दिया। हम तो बात करने में भयभीत होते हैं। हमने तो सेक्स को इस भांति छिपा कर रख दिया है ...

सफल प्रेम भी हो जाते हैं क्यों असफल- ओशो रजनीश

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, दुनिया में दो ही दुख हैं- एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए। और दूसरा दुख मैं कहता हूं कि पहले ...

अभिनय चोरी है या कला?

एक अमेरिकन अभिनेता का जीवन मैं पढ़ता था। कई बार संन्यासियों के जीवन थोथे होते हैं, उनमें कुछ भी नहीं होता। जिन्हें हम तथाकथित अच्छे आदमी कहते ...

भारतीय युवाओं, जवानी की आग पैदा करो...

हिंदुस्तान की जवानी तमाशबीन है। हम देखते रहते हैं खड़े होकर, जीवन का जैसे कोई जुलूस जा रहा है। पैसिव, रुके हैं, देख रहें हैं; कुछ भी हो रहा है! ...

ओशो रजनीश की आलोचना जरूरी?

ओशो को हम क्या कहें धर्मगुरु, संत, आचार्य, अवतारी, भगवान, मसीहा, प्रवचनकार, धर्मविरोधी या फिर सेक्स गुरु। जो ओशो को नहीं जानते हैं और या जो ओशो ...

ओशो- बच्चों को रोने से न रोकें....

मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि बच्चे के रोने की जो कला है, वह उसके तनाव से मुक्त होने की व्यवस्था है और बच्चे पर बहुत तनाव है। बच्चे को भूख लगी है और ...

जितना काम दमित होगा, उतने बलात्कार होंगे

अखबारों में खबर थी कि गुंडे बंबई में एक स्त्री को उसके पति और बच्चों से छीनकर ले गए और धमकी दे गए कि अगर पुलिस को खबर की तो पत्नी का खात्मा कर ...

Widgets Magazine

Widgets Magazine

संपादकीय

सपनों के पंख लगाकर एक फरिश्ते का कलाम हो जाना...

अखबार बेचने वाले की तस्वीरों से अखबार रंगे हुए हैं। सोशल मीडिया पर भावनओं का सैलाब उमड़ आया है। ...

व्यापमं, मीडिया और रंग दे बसंती

मैं अक्षय सिंह को नहीं जानता। ऐसे ही मैं निर्भया, आरुषि और जेसिका लाल को भी नहीं जानता था। मैं तो ...

नवीनतम

न्यूयॉर्क में शरीफ-मोदी मुलाकात का कोई प्रस्ताव नहीं : पाक

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि न्यूयॉर्क में अगले महीने होने वाले संयुक्त राष्ट्र ...

मेट्रो स्टेशन में मिला खतरनाक कोबरा

नई दिल्ली। यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन के विद्युत स्विच रूम में करीब पांच फुट लंबा एक कोबरा मिला जिससे ...

जरूर पढ़ें

अमेरिका से आए छात्र भारत में सीख रहे हैं हिन्दी (वीडियो)

14 सितंबर को देश भर में हिन्दी दिवस मनाया जा रहा है। हिन्दी को मान-सम्मान देने के लिए विभिन्न मंचों ...

हिन्दी : राजभाषा-राष्ट्रभाषा-विश्वभाषा

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा 1917 में भरुच (गुजरात) में सर्वप्रथम राष्ट्रभाषा के रूप में हिन्दी ...

हिन्दी दिवस विशेष : मैं हिन्दी हूं

Hindi मैं भारत के 70 प्रतिशत गांवों की अमराइयों में महकती हूं। मैं लोकगीतों की सुरीली तान में गुंजती हूं। ...